29 Dec 2018

Ye ishq nahin asaan😭

Shayari

ये इश्क़ नहीं आसान

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

ये इश्क़ नहीं आसान।।
सब के बस की बात नहीं है
मेरी जान।
Ye ishq nahin asaan,love shayari,love poems,hindi poems

जितना डूबो
जितनी गहराई में जाओ
उतनी ही तकलीफदेह होती चली जाती है
ये इश्क़ का मीठा मीठा दर्द भी
कहाँ किसी से सहा जाता है??

वो निगाहों से ओझल क्या हुए
दिल बेचैन सा हुए जाता है।
और उनकी झलक पाने को
दिल हमारा तड़प उठता है।

हर सांस के साथ
उनके खैरियत की
रब से दुआ माँगते
दिल कहाँ थक पाता है।

वो उनके साथ न होने पर
चाँदनी रात की
ठंडी हवा भी
दिल को ठंडक कहाँ पहुँचा पाती है??

सच ही कहते हैं
ये इश्क़ नहीं आसान।।
ये इश्क़ नहीं आसान।।








ye eshk nahin aasaan।।

sab ke bas ki baat nahin hai

meri jaan।




jitnaa dubo

jitni gahraai men jaao

utni hi takliphdeh hoti chali jaati hai

ye eshk kaa mithaa mithaa dard bhi

kahaan kisi se sahaa jaataa hai??


vo nigaahon se ojhal kyaa hua

dil bechain saa hua jaataa hai।

aur unki jhalak paane ko

dil hamaaraa tdap uthtaa hai।


har saans ke saath

unke khairiyat ki

rab se duaa maangte

dil kahaan thak paataa hai।


vo unke saath n hone par

chaandni raat ki

thandi havaa bhi

dil ko thandak kahaan pahunchaa paati hai??


sach hi kahte hain

ye eshk nahin aasaan।।

ye eshk nahin aasaan।।



written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari

26 Dec 2018

Dil aaj baitha ja raha hai.😒

Shayari

दिल आज बैठा जा रहा है।।😒

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।




दिल आज बैठा जा रहा है।
वो पल जो निकट आ रहा है।।
आज फिर से बिछुड़ना होगा।
वो कदम को 
पीछे खींचना होगा।।
ना चाह कर भी उनसे
फिर से जुदा होना होगा।।

ये प्यार भी गजब का रोग है।
जब साथ होते हैं तो
तो एक दूसरे की
पैर खींचने का 
मौका नहीं गंवाते हैं।
और जब दूर होते हैं
तो एक दूसरे के लिए
पल पल तड़पते रहते हैं।











dil aaj baithaa jaa rahaa hai।

vo pal jo nikat aa rahaa hai।।

aaj phir se bichhudnaa hogaa।

vo kadam ko 

pichhe khinchnaa hogaa।।

naa chaah kar bhi unse

phir se judaa honaa hogaa।।



ye pyaar bhi gajab kaa rog hai।

jab saath hote hain to

to ek dusre ki

pair khinchne kaa 

maukaa nahin ganvaate hain।

aur jab dur hote hain

to ek dusre ke lia

pal pal tdapte rahte hain।


दिल आज बैठा जा रहा है।।😒

written by sushil kumar @ kavitadilse.top


Shayari

25 Dec 2018

Maa baap ka sath.

Shayari

माँ बाप का साथ

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


kavitadilse, kavita dilse, love poems, inspirational and motivational poems,kavita, kavita hindi me, kavita dil se

माँ बाप का साथ
हमेशा जरूरी होता है।
बिन उनके आशीर्वाद के
कोई भी मुकाम
मुकम्मल नहीं होता है।
kavitadilse, kavita dilse, love poems, inspirational and motivational poems,kavita, kavita hindi me, kavita dil se

हर रास्ता आसान हो जाता है
अंधेरे से लड़ना
हमें भली भाँति आ जाता है।
जो माँ बाप का साथ
हमें नसीब हो जाता है।

kavitadilse, kavita dilse, love poems, inspirational and motivational poems,kavita, kavita hindi me, kavita dil se











maan baap kaa saath

hameshaa jaruri hotaa hai।

bin unke aashirvaad ke

koi bhi mukaam

mukammal nahin hotaa hai।




har raastaa aasaan ho jaataa hai

andhere se ldnaa

hamen bhali bhaanti aa jaataa hai।

jo maan baap kaa saath

hamen nasib ho jaataa hai।







माँ बाप का साथ ।।
written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari

22 Dec 2018

Umr ka parwaan

Shayari

उम्र का परवान 

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Umra ka parwan,hindi shayari,hindi poems,love shayari,love poems

उम्र का परवान
चाहे जितना चढ़ता चला जाए।
कदम आगे बढ़ाने में
लाठी का सहारा लिया जाए।
Umra ka parwan,love shayari,hindi shayari,hindi poems

साँस लेने से ज्यादा
कोई खाँसता रह जाए।
विभिन्न प्रकार के मिष्ठान
मन खाने को ललचाए।
हर कोई उनके साथ रहे
उनसे सभी लोग बतियाये।
Umra ka parwana,hindi shayari,love shayari,love poems,hindi kavita

पर यहाँ किसे पसंद है
कि कोई उनसे बूढ़ा समझ बरताए।
क्योंकि दिल तो अभी भी बच्चा है।
और सदा बचपन में रहना चाहे।
Umra ka parwana,love shayari,love poems,hindi shayari
















umr kaa parvaan

chaahe jitnaa chdhtaa chalaa jaaa।

kadam aage bdhaane men

laathi kaa sahaaraa liyaa jaaa।




saans lene se jyaadaa

koi khaanstaa rah jaaa।

vibhinn prkaar ke mishthaan

man khaane ko lalchaaa।

har koi unke saath rahe

unse sabhi log batiyaaye।




par yahaan kise pasand hai

ki koi unse budhaa samajh bartaaa।

kyonki dil to abhi bhi bachchaa hai।

aur sadaa bachapan men rahnaa chaahe।



उम्र का परवान

Written by sushil kumar

Shayari

Mana mai nakara hun.

Shayari

माना मैं नकारा हूँ

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


माना मैं नकारा हूँ
निकम्मा हूँ
आवारा हूँ।
पर मेरी सोच और
मेरे सपनों को
तुम छीन नहीं सकते हो।
मेरी ख्वाहिशें और मेरे दिली तमन्ना को
तुम बदल नहीं सकते हो।



आज भले मैं
सोया हूँ
बीच सड़क🛣 पर।
रहने को
मेरे पास
नहीं है
अभी कोई घर🏘।
पर मेरे सपने को
तुम कैद नहीं कर सकते हो।



अमेरिका 🇺🇸में बैठ
डोनाल्ड ट्रम्प के साथ डिनर🍜 का मजा ले आऊँ मैं।
कभी सलमान के साथ अपना दोस्ताना भी निभा जाऊँ मैं।
तो कभी कैटरीना के साथ डेट पर भी हो आऊँ मैं।
क्योंकि सपने मेरे हैं
और मैं वहाँ का हूँ शहंशाह😎।
कोई शक😳।










maanaa main nakaaraa hun

nikammaa hun

aavaaraa hun।

par meri soch aur

mere sapnon ko

tum chhin nahin sakte ho।

meri khvaahishen aur mere dili tamannaa ko

tum badal nahin sakte ho।






aaj bhale main

soyaa hun

bich sdak🛣 par।

rahne ko

mere paas

nahin hai

abhi koi ghar🏘।

par mere sapne ko

tum kaid nahin kar sakte ho।






amerikaa 🇺🇸men baith

donaald tramp ke saath dinar🍜 kaa majaa le aaun main।

kabhi salmaan ke saath apnaa dostaanaa bhi nibhaa jaaun main।

to kabhi kaitrinaa ke saath det par bhi ho aaun main।

kyonki sapne mere hain

aur main vahaan kaa hun shahanshaah😎।

koi shak😳।


 माना मैं नकारा हूँ।।
written by sushil kumar @ kavitadilse.top

Shayari

21 Dec 2018

Jiwan ke path par.

Shayari

जीवन के पथ पर

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Jiwan ke path par,shayari,hindi shayari,kavita

जीवन के पथ पर
मैं कभी आगे बढ़ा
कभी मुड़ पीछे देखा।
कुछ तो अपने
साथ चल रहे हैं।
पर कुछ करीबी
पीछे छूट गए।।
उनको अपने
साथ ना पाकर।
बड़ा दुख हो रहा है
आज अपने मन में।।
Jiwan ke path par,hindi shayari,shayari,kavita

जब साथ चल रहे थे
वे हमारे
तवज्जो ना दे पाए
उनकी हम।
आज जब साथ
छूट गया है उनका
अहमियत उनकी
समझ आई तब।।
Jiwan ke path par,hindi shayari,shayari,kavita

ऐसा भी क्यों पछतावा करना।
समय रहते ही
क्यों नहीं संभलना।
क्योंकि
हर रिश्ता अनमोल है
इस जग में।
उनकी अहमियत
समझो अपने हृदय में।
Jiwan ke path par,hindi shayari

और इसलिए
सभी रिश्तों का सम्मान करना ही
आप सभी के लिए
हमारा आज का पैगाम है।।
Jiwan ke path par,hindi shayari













jivan ke path par

main kabhi aage bdhaa

kabhi mud pichhe dekhaa।

kuchh to apne

saath chal rahe hain।

par kuchh karibi

pichhe chhut gaye।।

unko apne

saath naa paakar।

bdaa dukh ho rahaa hai

aaj apne man men।।



jab saath chal rahe the

ve hamaare

tavajjo naa de paaa

unki ham।

aaj jab saath

chhut gayaa hai unkaa

ahamiyat unki

samajh aai tab।।



aisaa bhi kyon pachhtaavaa karnaa।

samay rahte hi

kyon nahin sambhalnaa।

kyonki

har rishtaa anmol hai

es jag men।

unki ahamiyat

samjho apne hriaday men।



aur esalia

sabhi rishton kaa sammaan karnaa hi

aap sabhi ke lia

hamaaraa aaj kaa paigaam hai।।




जीवन के पथ पर
written by sushil kumar @kavitadilse.top

Shayari


20 Dec 2018

Afwaon ke bazar mein.

Shayari

अफवाओं के बाजार में

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita

अफवाओं के बाजार में
गलतफहमी कभी भी ना पालें।
यहाँ तो आँखो देखा हाल भी
कभी कभी गलत साबित हो जाया करता है।।
Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita

लोगों को तो 
तिल का ताड़ करने में
बड़ा आनंद आता है।
पर सच्चाई के जड़ तक
पहुंचे बगैर
अगर आप कुछ भी कार्यवाही कर बैठे।
फिर आत्मग्लानि के पहाड़
के दबाव तले
आप जिंदगी पर दबे रह जाते हैं।
Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita

हमेशा खुद पर
और केवल खुद पर ही 
विश्वास किया करो।
क्योंकि लोग अपने हैं
और अफवाहें पराये।।
Afwaon ke bazar me,hindi shayari,hindi kavita













aphvaaon ke baajaar men

galataphahmi kabhi bhi naa paalen।

yahaan to aankho dekhaa haal bhi

kabhi kabhi galat saabit ho jaayaa kartaa hai।।




logon ko to

til kaa taad karne men

bdaa aanand aataa hai।

par sachchaai ke jd tak

pahunche bagair

agar aap kuchh bhi kaaryvaahi kar baithe।

phir aatmaglaani ke pahaad

ke dabaav tale

aap jindgi par dabe rah jaate hain।




hameshaa khud par

aur keval khud par hi

vishvaas kiyaa karo।

kyonki log apne hain

aur aphvaahen paraaye।।



अफवाओं के बाजार में 
written by Sushil Kumar @ kavitadilse.top

Shayari

19 Dec 2018

Gumsum kyun baithe hue ho tum🙄 ?

Shayari

गुमशुम क्यों बैठे हुए हो तुम🙄 ? 

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


गुमशुम क्यों बैठे हुए हो तुम🙄 ?
क्या खो दिया है तुमने??
जो खुद से
रूठे😒 हुए हो तुम।

माना आज तुम्हारा दिन 🌅नहीं था।
पर कोशिश तुमने पुरजोर किया था।
असफलता से घबराना कैसा?
जब मंजिल के इतने
करीब पहुँच चुके हो।।

जोर लगा,उठाओ कदम
भले पसीने से लतपथ हो जाए
तेरा सारा बदन।
पर साँस की आखिरी कश लेने तक
पीछे नहीं लेना तुम अपना कदम।

हर मंजिल तुम्हारी परीक्षा लेती है।
विश्वास रखो बस अपने कदम पर।
प्रयत्न किए जा
बस तू लगातार।
हिम्मत अपना बनाए रख।
आज नहीं तो कल ही सही
पर मुकम्मल होगी मुकाम तेरी।











gumashum kyon baithe hua ho tum🙄 ?

kyaa kho diyaa hai tumne??

jo khud se

ruthe😒 hua ho tum।




maanaa aaj tumhaaraa din 🌅nhin thaa।

par koshish tumne purjor kiyaa thaa।

asaphaltaa se ghabraanaa kaisaa?

jab manjil ke etne

karib pahunch chuke ho।।




jor lagaa,uthaao kadam

bhale pasine se latapath ho jaaa

teraa saaraa badan।

par saans ki aakhiri kash lene tak

pichhe nahin lenaa tum apnaa kadam।




har manjil tumhaari parikshaa leti hai।

vishvaas rakho bas apne kadam par।

prayatn kia jaa

bas tu lagaataar।

himmat apnaa banaaa rakh।

aaj nahin to kal hi sahi

par mukammal hogi mukaam teri।





गुमशुम क्यों बैठे हुए हो तुम🙄 ?
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

18 Dec 2018

Har rishta yahan anmol hai.

Shayari

हर रिश्ता यहाँ अनमोल है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


हर रिश्ता यहाँ अनमोल है।
प्यार और विश्वास का 
आपस में गठजोड़ है।

माँ-बाप,भाई-बहन,
दोस्त इत्यादि।
सभी रिश्तों में
अपना अपना गुरुत्वाकर्षण है।
जो हमें हमेशा अपनी
और खींचे रहते हैं।
और समय समय पर
अपनी उपस्थिति से
हमारे जीवन को सरल
बनाते हैं।









har rishtaa yahaan anmol hai।

pyaar aur vishvaas kaa

aapas men gathjod hai।




maan-baap,bhaai-bahan,

dost etyaadi।

sabhi rishton men

apnaa apnaa gurutvaakarshan hai।

jo hamen hameshaa apni

aur khinche rahte hain।

aur samay samay par

apni upasthiti se

hamaare jivan ko saral

banaate hain।


हर रिश्ता यहाँ अनमोल है।।
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

16 Dec 2018

Main kya kahta hun?????

Shayari

मैं क्या कहता हूँ ?????

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मैं क्या कहता🗣 हूँ????
आप लोग क्या समझते हैं????
ये हम लोगों के 
आपसी संबंध का गठजोड़ है।


वरना कभी कभी तो
बिना कुछ बोले 😷 भी
बहुत कुछ लोग समझ जाते हैं।


और कहीं कहीं तो
लाख समझाने पर भी
सामने वाला समझते ही रह जाता है।











main kyaa kahtaa🗣 hun????

aap log kyaa samajhte hain????

ye ham logon ke

aapsi sambandh kaa gathjod hai।





varnaa kabhi kabhi to

binaa kuchh bole 😷 bhi

bahut kuchh log samajh jaate hain।





aur kahin kahin to

laakh samjhaane par bhi

saamne vaalaa samajhte hi rah jaataa hai।


Written by sushil kumar

Shayari

13 Dec 2018

Jindagi ka har lamha anmol hai.

Shayari

जिंदगी का हर लम्हा अनमोल है।।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

Zindagi ka har lamha anmol hai,hindi shayari,hindi kavita

जिंदगी का हर लम्हा अनमोल है।
कुछ मीठे और कुछ कड़वे पलों का गठजोड़ है।।
खुशियों के जश्न मनाने को
हर दिल यहाँ तड़पता है।
पर दुख के परछाई से भी
हर कोई यहाँ डरता है।
Zindagi ka har lamha anmol hai,hindi shayari,hindi kavita

पता नहीं किस बात का डर
इंसान को यहाँ सताता है।
अगर दुख का कभी जो
आभास ना हुआ हो।
तो खुशी का एहसास कोई
भला पा सकता है क्या????
Zindagi ka har lamha anmol hai,hindi shayari,hindi kavita










jindgi kaa har lamhaa anmol hai।

kuchh mithe aur kuchh kdve palon kaa gathjod hai।।

khushiyon ke jashn manaane ko

har dil yahaan tdaptaa hai।

par dukh ke parchhaai se bhi

har koi yahaan dartaa hai।




pataa nahin kis baat kaa dar

ensaan ko yahaan sataataa hai।

agar dukh kaa kabhi jo

aabhaas naa huaa ho।

to khushi kaa ehsaas koi

bhalaa paa saktaa hai kyaa????



जिंदगी का हर लम्हा अनमोल है।।
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

12 Dec 2018

Main tuta tara ⭐naa jane।।

Shayari

मैं टूटा तारा ⭐ ना जाने

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


मैं टूटा तारा ⭐ ना जाने
ब्रह्मांड में कब से भटक🚶 रहा।
ना कोई मंजिल थी🤔
ना किसी की तलाश थी।
फिर भी ब्रह्मांड में चक्कर लगा रहा।


एक आस बस दिल में लिए हुए
कोई पड़ाव तो मिलेगा
मुझे
आज नहीं तो कल।
मैं निराश नहीं
ना ही हताश हूँ मैं।।😒
अपनी तकदीर को लेकर
कभी उदास नहींं हुआ
मैं।।


आज भी थमा नहीं
बेड़ियों से खुद को बाँधा नहीं।
निरंतर चलता आ रहा हूँ
निरंतर चलता चला जाऊँगा।।
जब तक कोई मंजिल मुझे
अपना ना ले मुझे स्वयं में।









main tutaa taaraa ⭐ naa jaane

brahmaand men kab se bhatak🚶 rahaa।

naa koi manjil thi🤔

naa kisi ki talaash thi।

phir bhi brahmaand men chakkar lagaa rahaa।





ek aas bas dil men lia hua

koi pdaav to milegaa

mujhe

aaj nahin to kal।

main niraash nahin

naa hi hataash hun main।।😒

apni takdir ko lekar

kabhi udaas nahinn huaa

main।।





aaj bhi thamaa nahin

bediyon se khud ko baandhaa nahin।

nirantar chaltaa aa rahaa hun

nirantar chaltaa chalaa jaaungaa।।

jab tak koi manjil mujhe

apnaa naa le mujhe svayan men।



मैं टूटा तारा ⭐ ना जाने।।
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

8 Dec 2018

Main chala tha kabhi akela.

Shayari

मैं चला था कभी अकेला।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



मैं चला🚶 था कभी अकेला।
लड़खड़ाया😧
कभी संभला😳
तो कभी गिरा धड़ाम से😵।



कुछ लोगों को बड़ा मजा आया😄।
किसी ने मुंह पर हाथ रख
अपनी हँसी छिपानी चाही🤗।
तो किसी ने ठहाके मार कर हँसा😂।



पर कुछ लोग वैसे भी थे👮
जो आगे बढ़कर
हमें उठाने को आए।
और हमें उठा
हिम्मत बाँध💪
अपने अपने रस्ते पर बढ़ गए।



जीवन आपका है।
पथ भी आपका है।
इसमें मिलने वाले
खुशी😀 और गम😪 भी आपके ही हैं।
इसे सहज स्वीकार कर
अपने पथ को पूरी करो।



आपको अकेले ही
अपनी पूरी जिंदगानी लिखनी है ।
लिखो!🖋
लिखते जाओ🖋
लिखते जाओ🖋
जब तक जीवन की स्याही
खत्म नहीं हो जाती है।
kavitadilse, kavita dilse, love poems, inspirational and motivational poems








main chalaa🚶 thaa kabhi akelaa।

ldakhdaayaa😧

kabhi sambhlaa😳

to kabhi giraa dhdaam se😵।






kuchh logon ko bdaa majaa aayaa😄।

kisi ne munh par haath rakh

apni hnsi chhipaani chaahi🤗।

to kisi ne thahaake maar kar hnsaa😂।






par kuchh log vaise bhi the👮

jo aage bdhakar

hamen uthaane ko aaa।

aur hamen uthaa

himmat baandh💪

apne apne raste par bdh gaye।






jivan aapkaa hai।

path bhi aapkaa hai।

esmen milne vaale

khushi😀 aur gam😪 bhi aapke hi hain।

ese sahaj svikaar kar

apne path ko puri karo।






aapko akele hi

apni puri jindgaani likhni hai ।

likho!🖋

likhte jaao🖋

likhte jaao🖋

jab tak jivan ki syaahi

khatm nahin ho jaati hai।




मैं चला था कभी अकेला।
By Sushil Kumar
      (kavitadilse.top)

Shayari

7 Dec 2018

Pyar se bada koi ehsaas nahin hota hai.

Shayari

प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।प्यार को अगर आपने अपने जीवन  में पा लिया,तो सब कुछ पा लिया।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।

वो उनका दिखना
और मेरे आँखों का छिप छिप कर
उनका दर्शन करना।
और उनका मेरे नैनों की चोरी पकड़ना।
और फिर मिठी सी हल्की सी मुस्कान के साथ
मेरे नादानियों का जवाब देना।
क्या बताऊँ?
मेरा दिल तो उनका मुस्कान देख
घायल हो गया।

मेरी हिम्मत क्या बढ़ी
उनकी शैतानियां भी परवान चढ़ने लगी।
उन्होंने सभी से छिपकर
मुझे आँख क्या मारी।
मेरा हृदय तो बस
छलनी छलनी हो गया।
और मैं उनके पास में
जाकर बैठ गया।

उसकी आवाज
क्या बताऊँ।
ऐसा लगा बस मैं सुनता रहूँ।
और वो बोलती रहें।
उनका नाम संजना था।
और उनका स्टोपेज भी आ गया।
और मेरे दिल ने तपाक से पूछा
कल कहाँ मिलेंगे हम?
उन्होने कहा नगर पुस्तकालय में
सुबह दस बजे।

बस तो तब से
कुछ भी मेरा ना रहा
जो कुछ भी था
सारा उनके साथ चला गया।
अब तो जो वे नजरों से ओझल क्या हुए
मुझे लगा मेरा रूह भी
मेरे शरीर को छोड़
उनके पास जाने को तड़प उठा।
ये कैसा रिश्ता है?
और ये कब का सम्बंध है हमारा?
जो उनके सामने आते ही 
जागृत हो उठी है।

सारे रिश्तों में आज मानो
मिठास सा आ गया है।
बारिश जो मुझे कभी परेशान किया करती थी।
आज तो वो मानो मुझपे प्यार की बरसात कर रहीं हैं।
ओर मुझे ऐसा आभास हो रहा है कि
उनके प्यार के हर एक बूँद के
अहसास को संजोकर रख लूँ
हमेशा हमेशा के लिए।

कितना मधुर एहसास था।
मानो हर पल संगीत मय हो
और मैं भी पूरे जोश में 
प्यार भरे गीत गुनगुना रहा हूँ।

ये कैसा परिवर्तन था कि
पापा के आने से पहले
मैं खा पीकर सोने चला जाता था।
आज उनके आने के पश्चात
मैं उनके साथ खाना खाया
और सोने जाने से पहले 
उनके और माँ के पैर छू 
और गले लग 
धन्यवाद दे सोने चला गया।
मानो आज मैनै 
अपने इस जीवन में आने का उद्देश्य पा लिया हो।
और जल्द ही अपनी मंजिल को भी पाने वाला हूँ।

प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।
प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।


kavitadilse, kavita dilse, love poems, inspirational and motivational poems











vo unkaa dikhnaa

aur mere aankhon kaa chhip chhip kar

unkaa darshan karnaa।

aur unkaa mere nainon ki chori pakdnaa।

aur phir mithi si halki si muskaan ke saath

mere naadaaniyon kaa javaab denaa।

kyaa bataaun?

meraa dil to unkaa muskaan dekh

ghaayal ho gayaa।



meri himmat kyaa bdhi

unki shaitaaniyaan bhi parvaan chdhne lagi।

unhonne sabhi se chhipakar

mujhe aankh kyaa maari।

meraa hriaday to bas

chhalni chhalni ho gayaa।

aur main unke paas men

jaakar baith gayaa।



uski aavaaj

kyaa bataaun।

aisaa lagaa bas main suntaa rahun।

aur vo bolti rahen।

unkaa naam sanjnaa thaa।

aur unkaa stopej bhi aa gayaa।

aur mere dil ne tapaak se puchhaa

kal kahaan milenge ham?

unhone kahaa nagar pustkaalay men

subah das baje।



bas to tab se

kuchh bhi meraa naa rahaa

jo kuchh bhi thaa

saaraa unke saath chalaa gayaa।

ab to jo ve najron se ojhal kyaa hua

mujhe lagaa meraa ruh bhi

mere sharir ko chhod

unke paas jaane ko tdap uthaa।

ye kaisaa rishtaa hai?

aur ye kab kaa sambandh hai hamaaraa?

jo unke saamne aate hi 

jaagriat ho uthi hai।



saare rishton men aaj maano

mithaas saa aa gayaa hai।

baarish jo mujhe kabhi pareshaan kiyaa karti thi।

aaj to vo maano mujhpe pyaar ki barsaat kar rahin hain।

or mujhe aisaa aabhaas ho rahaa hai ki

unke pyaar ke har ek bund ke

ahsaas ko sanjokar rakh lun

hameshaa hameshaa ke lia।



kitnaa madhur ehsaas thaa।

maano har pal sangit may ho

aur main bhi pure josh men 

pyaar bhare git gunagunaa rahaa hun।



ye kaisaa parivartan thaa ki

paapaa ke aane se pahle

main khaa pikar sone chalaa jaataa thaa।

aaj unke aane ke pashchaat

main unke saath khaanaa khaayaa

aur sone jaane se pahle 

unke aur maan ke pair chhu 

aur gale lag 

dhanyvaad de sone chalaa gayaa।

maano aaj mainai 

apne es jivan men aane kaa uddeshy paa liyaa ho।

aur jald hi apni manjil ko bhi paane vaalaa hun।



pyaar se bdaa koi ahsaas nahin hotaa hai।।

pyaar se bdaa koi ahsaas nahin hotaa hai।।




प्यार से बड़ा कोई अहसास नहीं होता है।।
written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...