22 Oct 2017

खच्चर ,गधे और घोड़े की कहानी।khachchar gadhe aur ghode ki kahani.

Kahani

खच्चर ,गधे और घोड़े की कहानी।khachchar gadhe aur ghode ki kahani.

खच्चर किसी दुनिया पर राज कर रहे थे।गधो की संख्या वहाँ घोड़ों से  ज्यादा थी,इसलिए अगर खच्चरों को राज करना था,तो गधों को घोड़ों से ज्यादा सुविधा देना जरूरी था।वरना उनकी गद्दी छिनी जा सकती थी।गधों को सारी सुख सुविधा की व्यवस्था की गई थी।
    इनमें से कुछ गधो को खच्चरों की चाल समझ में आ गई थी। घोड़े तो हमेशा से अवाज उठाते आ ही रहे थें।अब जब इन्हें कुछ गधों का साथ मिल गया था,तो उनके आक्रोश में और भी तेजी आई थी।
   खच्चरों की गद्दी डोलने लगी थी।आखिरकार घोड़ों को भी गधों की बराबरी की सुख सुविधा प्रदान की गई।


khachchar kisi duniyaa par raaj kar rahe the।gadho ki sankhyaa vahaan ghodon se  jyaadaa thi,esalia agar khachchron ko raaj karnaa thaa,to gadhon ko ghodon se jyaadaa suvidhaa denaa jaruri thaa।varnaa unki gaddi chhini jaa sakti thi।gadhon ko saari sukh suvidhaa ki vyavasthaa ki gayi thi।

    enmen se kuchh gadho ko khachchron ki chaal samajh men aa gayi thi। ghode to hameshaa se avaaj uthaate aa hi rahe then।ab jab enhen kuchh gadhon kaa saath mil gayaa thaa,to unke aakrosh men aur bhi teji aai thi।

   khachchron ki gaddi dolne lagi thi।aakhirkaar ghodon ko bhi gadhon ki baraabri ki sukh suvidhaa prdaan ki gayi।


Written by sushil kumar

No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...