28 May 2017

माँ मैं बहुत अकेला हूँ।maan main bahut akela hun.

Shayari

माँ मैं बहुत अकेला हूँ।maan main bahut akela hun.


माँ मैं बहुत अकेला हूँ।जीवन की उबड़ खाबड़ राह पर चलता हुआ,थक गया हूँ।बस पैसे बनाने की चाह में,बहुत आगे निकल गया हूँ।मेरे मकसद में जो भी रोड़ा आया,उसे हटाटे चला गया हूँ।माना आज मेरा इस शहर में एक रुतबा,एक पहचान है,एक साख है।पर मैं अभी भी खुद को इस संसार में ढुंड रहा हूँ,क्योंकि मेरी पहचान नहीं हो पा रही है।मैं कौन हूँ।इस क्षणभंगूर संसार में क्षणभंगूर सुख सुविधा,क्षणभंगूर पहचान के लिए,क्यों भागा फिर रहा हूँ।माँ तुम क्यों मुझे छोड़कर गाँव चली गई,मैं आ रहा हूँ आपके पास,अपनी तलाश खत्म करने के लिए।मुझे अपने आँचल में सुला लो माँ,मुझे खुद से पहचान करवा दो माँ।


maan main bahut akelaa hun।jivan ki ubd khaabd raah par chaltaa huaa,thak gayaa hun।bas paise banaane ki chaah men,bahut aage nikal gayaa hun।mere makasad men jo bhi rodaa aayaa,use hataate chalaa gayaa hun।maanaa aaj meraa es shahar men ek rutbaa,ek pahchaan hai,ek saakh hai।par main abhi bhi khud ko es sansaar men dhund rahaa hun,kyonki meri pahchaan nahin ho paa rahi hai।main kaun hun।es kshanabhangur sansaar men kshanabhangur sukh suvidhaa,kshanabhangur pahchaan ke lia,kyon bhaagaa phir rahaa hun।maan tum kyon mujhe chhodkar gaanv chali gayi,main aa rahaa hun aapke paas,apni talaash khatm karne ke lia।mujhe apne aanchal men sulaa lo maan,mujhe khud se pahchaan karvaa do maan।

Written by sushil kumar

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...