5 Feb 2017

हमारा प्यार(2) hamara pyar(2)

Kahani

हमारा प्यार(2) hamara pyar(2)


कोलेज के आखिरी दिनों में,मैं और जस्सी बहुत ज्यादा दुखी रहने लगे थे।क्योंकि हमारे बिछुड़ने का समय नजदीक आ गया था।मैं और जस्सी दोनो मिलकर,एक दूसरे से वादा किये,कि हम इसी कोलेज में आज से दो साल के बाद दुबारा मिलेंगे और शादी करेंगे।ये दो साल हमारे लिए  किसी अग्निपथ से कम नहीं है।इस लिए इस पल का हम सदुपयोग करते हुए,एक अच्छी जोब हासिल करने की कोशिश करेंगे।और दो साल में हम कभी भी एक दूसरे से मिलने की कोशिश नहीं करेंगे।


       इसलिए हमारे पास केवल दो साल है,कुछ जोरदार मेहनत करने के लिए और अपने पैरों परों खड़ा होने के लिए।ये सोच लेकर हम एक दूसरे से अलग हुए।


         और आज दो साल हो गया है,हम दोनो को बिछड़े हुए।मैं बहुत लालाईत था जस्सी से मिलने को।

          मैं कोलेज का कैन्टीन सुबह नौ बजे ही पहुँच गया और जस्सी के आने का वैट करने लगा।तभी कोई पिछे से आकर मेरे आँखो पर हाथ रख दिया।मैें वो स्पर्श को पहचान गया,और बोल उठा,आई लव यू,जस्सी।

       जस्सी ने रिप्लाइ में,आई लव यू टू कहा।और हम एक दूसरे से गले लग गयें।

वो पल लाजवाब था।

      जस्सी ने पूछा,तुम अभी क्या करते हो?मैने कहा,मैं एक बैंकर हूँ।इलाहाबाद बैंक में ओफिसर हूँ,और तुम क्या कर रही हो जस्सी?जस्सी ने जवाब दियाः मैं आई ए एस ओफिसर हूँ।

     हमने एक दूसरे को बधाई दिया।

मैं अपने पापा मम्मी को साथ लेकर चंडीगड़ गया था।और उन्हें होटल में छोड़कर कैन्टीन पहुँचा था।

      फिर मैने पूछा,शादी कब करनी है।

जस्सी ने कहा,शादी तो आज ही करने की सोची थी,पर लगता है,तुम अपने पापा मम्मी को लेकर नहीं आए हो।

मैने कहा,तुम्हारे पापा मम्मी कहाँ हैं,उसने हाथों से ईशारा करते हुए,वहाँ बैठे हुए  बुजुर्ग दाम्पत्तियों को अपना माँ बाप बताया।

मैं उठा,और उनके चरण छूकर,उनसे आशिर्विद लिया।और फिर अपने माँ बाबूजी को उसी कैन्टीन में बुला लिया।

और फिर हम दोनो ने अपनी दास्तां उनसे बयान किया।वो सभी हमारी कहानी सुन भावुक हो उठे,और हमें आशिर्वाद दिया,:तुम  दोनो का बंधन कभी भी टूटे नहीं।और फिर हमने कोर्ट में जाकर,कोर्ट मैरीज़ किया।और अपने माँ बाबू जी का आशिर्वाद लिया।



kolej ke aakhiri dinon men,main aur jassi bahut jyaadaa dukhi rahne lage the।kyonki hamaare bichhudne kaa samay najdik aa gayaa thaa।main aur jassi dono milakar,ek dusre se vaadaa kiye,ki ham esi kolej men aaj se do saal ke baad dubaaraa milenge aur shaadi karenge।ye do saal hamaare lia  kisi agnipath se kam nahin hai।es lia es pal kaa ham sadupyog karte hua,ek achchhi job haasil karne ki koshish karenge।aur do saal men ham kabhi bhi ek dusre se milne ki koshish nahin karenge।



       esalia hamaare paas keval do saal hai,kuchh jordaar mehanat karne ke lia aur apne pairon paron khdaa hone ke lia।ye soch lekar ham ek dusre se alag hua।



         aur aaj do saal ho gayaa hai,ham dono ko bichhde hua।main bahut laalaait thaa jassi se milne ko।


          main kolej kaa kaintin subah nau baje hi pahunch gayaa aur jassi ke aane kaa vait karne lagaa।tabhi koi pichhe se aakar mere aankho par haath rakh diyaa।maien vo sparsh ko pahchaan gayaa,aur bol uthaa,aai lav yu,jassi।


       jassi ne riplaae men,aai lav yu tu kahaa।aur ham ek dusre se gale lag gayen।


vo pal laajvaab thaa।


      jassi ne puchhaa,tum abhi kyaa karte ho?maine kahaa,main ek bainkar hun।elaahaabaad baink men ophisar hun,aur tum kyaa kar rahi ho jassi?jassi ne javaab diyaaah main aai aye es ophisar hun।


     hamne ek dusre ko badhaai diyaa।


main apne paapaa mammi ko saath lekar chandigd gayaa thaa।aur unhen hotal men chhodkar kaintin pahunchaa thaa।


      phir maine puchhaa,shaadi kab karni hai।


jassi ne kahaa,shaadi to aaj hi karne ki sochi thi,par lagtaa hai,tum apne paapaa mammi ko lekar nahin aaa ho।


maine kahaa,tumhaare paapaa mammi kahaan hain,usne haathon se ishaaraa karte hua,vahaan baithe hua  bujurg daampattiyon ko apnaa maan baap bataayaa।


main uthaa,aur unke charan chhukar,unse aashirvid liyaa।aur phir apne maan baabuji ko usi kaintin men bulaa liyaa।


aur phir ham dono ne apni daastaan unse bayaan kiyaa।vo sabhi hamaari kahaani sun bhaavuk ho uthe,aur hamen aashirvaad diyaa,:tum  dono kaa bandhan kabhi bhi tute nahin।aur phir hamne kort men jaakar,kort mairij kiyaa।aur apne maan baabu ji kaa aashirvaad liyaa।


Written by sushil kumar

No comments:

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai. Shayari तकलीफ मेरे हिस्से की तू मुझे ही सहने दे। आँसू मेरे बादल के तू मुझ पर ही बरसने दे। सारे मुसीबतों क...