31 Jan 2017

जिन्दगी जीने के लिए क्या जरूरी है।zindagi jine ke lie kya zaruri hai.

Soch

जिन्दगी जीने के लिए क्या जरूरी है।zindagi jine ke lie kya zaruri hai.



  हम जीते हैं,हम सभी अपने संस्कार  और उसूल के साथ जीते हैं।जिस दिन हमारे संस्कार और उसूल दम टोड़ते हैं,उसी दिन हम संसार में जिंदा रहते हुए भी मर चुके होते हैं।

     बहुत लोग धन दौलत,मान सम्मान पाने के लिए,अपना संस्कार और अपने उसूलों की आहुति देने से पीछे नहीं हटते हैं।ऐसे लोग खुद तो भ्रष्ट होते हैं,साथ में सभी लोगों को लाना चाहता हैं।उनके जीवन में तो अंधकार होता ही है,और वो दूसरों के जीवन में अंधकार करने से खुद को नहीं रोकते हैं।
        बचपन में माँ बाप संस्कार सीखाते हैं,और स्कूल में शिक्षक।और फिर जवानी में बचपन के ग्रहण किए गये संस्कार को भूल जाते हैं।पैसे की चकाचौंध में,सारा संस्कार दिल और दीमाग से निकल कर चला जाता है गुईयां के खेत में।
        फिर संस्कार नहीं,लोभ और लालच दीमाग में घर बना लेता है।
        ये संस्कार जो हो,सीखाया नहीं जाता है।यह तो आपके पूर्व जन्मों में किये गये घोर तप और अच्छे कर्म का फल है।अगर आप पूर्व जन्म में अच्छे कर्म किए हैं,तो इस जन्म में आप अच्छे संस्कार लेकर पैदा होंगे।
        जीते तो सभी जीव हैं,पर उन सभी में मनुष्य ही क्यों क्ष्रेष्ठ है।क्योंकि उसके पास सोचने और समझने की क्षमता है।आप और हम देखते हैं कि कोई भी गलत काम करने के पहले,हमारे अंदर से एक आवाज जरुर आती है।'यह क्या करने जा रहा हूँ मैं।यह गलत काम है।कहीं कोई देख तो नहीं रहा।'
      हाँ!हमारा परमात्मा हमेशा ही हमें देखता रहता है।उससे कुछ भी छिपाना संभव नहीं है।
      फिर सभी कर्मों का फल मरने के उपरांत स्वर्ग लोक और नर्क लोक में दी जाती है।
      संस्कार अगर अच्छे हैं हमारे,तो हमसे बुरे कर्म करते बनेगे ही नहीं।और हम सदा सभी का भला ही चाहेंगे,भले ही वह हमारा दुश्मन ही क्यों ना हो।
       संसार की सभी वस्तुएँ उधार ली जा सकती है,पर संस्कार नहीं।


  ham jite hain,ham sabhi apne sanskaar  aur usul ke saath jite hain।jis din hamaare sanskaar aur usul dam todte hain,usi din ham sansaar men jindaa rahte hua bhi mar chuke hote hain।


     bahut log dhan daulat,maan sammaan paane ke lia,apnaa sanskaar aur apne usulon ki aahuti dene se pichhe nahin hatte hain।aise log khud to bhrasht hote hain,saath men sabhi logon ko laanaa chaahtaa hain।unke jivan men to andhkaar hotaa hi hai,aur vo dusron ke jivan men andhkaar karne se khud ko nahin rokte hain।

        bachapan men maan baap sanskaar sikhaate hain,aur skul men shikshak।aur phir javaani men bachapan ke grahan kia gaye sanskaar ko bhul jaate hain।paise ki chakaachaundh men,saaraa sanskaar dil aur dimaag se nikal kar chalaa jaataa hai guiyaan ke khet men।

        phir sanskaar nahin,lobh aur laalach dimaag men ghar banaa letaa hai।

        ye sanskaar jo ho,sikhaayaa nahin jaataa hai।yah to aapke purv janmon men kiye gaye ghor tap aur achchhe karm kaa phal hai।agar aap purv janm men achchhe karm kia hain,to es janm men aap achchhe sanskaar lekar paidaa honge।

        jite to sabhi jiv hain,par un sabhi men manushy hi kyon kshreshth hai।kyonki uske paas sochne aur samajhne ki kshamtaa hai।aap aur ham dekhte hain ki koi bhi galat kaam karne ke pahle,hamaare andar se ek aavaaj jarur aati hai।'yah kyaa karne jaa rahaa hun main।yah galat kaam hai।kahin koi dekh to nahin rahaa।'

      haan!hamaaraa parmaatmaa hameshaa hi hamen dekhtaa rahtaa hai।usse kuchh bhi chhipaanaa sambhav nahin hai।

      phir sabhi karmon kaa phal marne ke upraant svarg lok aur nark lok men di jaati hai।

      sanskaar agar achchhe hain hamaare,to hamse bure karm karte banege hi nahin।aur ham sadaa sabhi kaa bhalaa hi chaahenge,bhale hi vah hamaaraa dushman hi kyon naa ho।

       sansaar ki sabhi vastuan udhaar li jaa sakti hai,par sanskaar nahin।

Written by sushil kumar

       
           

29 Jan 2017

मैं अपनी जिम्मेदारियों को कैसे निभा पाऊँगा।main apne zimmedarion ko kaise nibha paunga.k

Shayari

मैं अपनी जिम्मेदारियों को कैसे निभा पाऊँगा।main apne zimmedarion ko kaise nibha paunga.


मैं अपनी जिम्मेदारियों को कैसे निभा पाऊँगा?


अपनी ही नौकरी के बोझ तले,


कब तक साँस ले पाऊँगा।


घर पर जब पहुँचता हूँ,


तो दिल में ख्याल बस यही आता है,


कि अपने परिजनों के लिए बहुत कुछ करना है।


माँ के लिए गले का हार लेना है।
बहन की शादी के लिए अच्छा लड़का देखना है।
पापा के लिए नयी गाड़ी लेनी है।

पर जब दफ्तर में पहुँचता हूँ,


तो पाता हूँ,कि हर कोई बस मेरे कंधे पर बंधूक रख कर गोली चलाना चाहते है।
ऐसे में कब तक खुद को बचा पाऊँगा?ये बहुत बड़ा सवाल है।
मैं अपनी जिम्मेवारी को कैसे निभा पाऊँगा।



main apni jimmedaariyon ko kaise nibhaa paaungaa?



apni hi naukri ke bojh tale,



kab tak saans le paaungaa।



ghar par jab pahunchtaa hun,



to dil men khyaal bas yahi aataa hai,



ki apne parijnon ke lia bahut kuchh karnaa hai।



maan ke lia gale kaa haar lenaa hai।

bahan ki shaadi ke lia achchhaa ldkaa dekhnaa hai।

paapaa ke lia nayi gaadi leni hai।


par jab daphtar men pahunchtaa hun,



to paataa hun,ki har koi bas mere kandhe par bandhuk rakh kar goli chalaanaa chaahte hai।

aise men kab tak khud ko bachaa paaungaa?ye bahut bdaa savaal hai।

main apni jimmevaari ko kaise nibhaa paaungaa।


Written by sushil kumar

17 Jan 2017

क्या कर रहे हो पप्पु kya kar rahe ho pappu

Shayari

क्या कर रहे हो पप्पु,



                          थम के जरा साँस तो ले लो।



भागम भाग क्यों मचा रखी है,


                          क्या धुंढ रहे हो पप्पु।




कभी इधर,तो कभी उधर,


                           क्यों बंदर जैसा फाँद रहे हो।



एक जगह स्थिर होकर,


                            क्यों नहीं तू सोच रहा है पप्पु।




इतनी मेहनत,इतना जतन ,


                             तू किस लिए,किये जा रहा है पप्पु।



मालूम है ना,कल फिर से फैल हो जाएगा तू।



                             फिर इतना दिमाग क्यों भिड़ा रहा है ।




पप्पु पास हो जाएगा,


                              क्या ये कभी सच हो पाएगा।



सारा जग हैरान है कि पप्पु



                              पास कब हो पाएगा?😢






kyaa kar rahe ho pappu,



                          tham ke jaraa saans to le lo।




bhaagam bhaag kyon machaa rakhi hai,



                          kyaa dhundh rahe ho pappu।





kabhi edhar,to kabhi udhar,



                           kyon bandar jaisaa phaand rahe ho।




ek jagah sthir hokar,



                            kyon nahin tu soch rahaa hai pappu।





etni mehanat,etnaa jatan ,



                             tu kis lia,kiye jaa rahaa hai pappu।




maalum hai naa,kal phir se phail ho jaaagaa tu।




                             phir etnaa dimaag kyon bhidaa rahaa hai ।





pappu paas ho jaaagaa,



                              kyaa ye kabhi sach ho paaagaa।




saaraa jag hairaan hai ki pappu




                              paas kab ho paaagaa?😢




Written by sushil kumar




15 Jan 2017

मेरा दिल है दिवाना☺ mera dil hai deewana

Shayari

मेरा दिल है दिवाना☺ mera dil hai deewana





मेरा दिल है दिवाना,जो हर खुबसूरत चेहरे को देख धड़कता है।



कभी चहकता है,तो कभी बहकता है।



कभी शायरी के बहाने,तो कभी कविता के बहाने,जुबान भी हमारा फिसलता है।



दिल भी हमारा बड़ा नादान है,जो हर कली को देख हमेशा महकता है।


तारे भी चाँद की खुबसूरती देखकर टिमटिमाते हैं।


कभी बस में किसी हसीना से मुलाकात हो जाया  करता है।



तो कभी चलते चलते राह में किसी हसीना से मुलाकात हो जाया करता है।



और फिर क्या दिल दिल धक धक,



धक धक दिल दिल,तब से अब तक,अब से कब तक।



meraa dil hai divaanaa,jo har khubsurat chehre ko dekh dhdaktaa hai।




kabhi chahaktaa hai,to kabhi bahaktaa hai।




kabhi shaayri ke bahaane,to kabhi kavitaa ke bahaane,jubaan bhi hamaaraa phisaltaa hai।




dil bhi hamaaraa bdaa naadaan hai,jo har kali ko dekh hameshaa mahaktaa hai।



taare bhi chaand ki khubsurti dekhakar timatimaate hain।



kabhi bas men kisi hasinaa se mulaakaat ho jaayaa  kartaa hai।




to kabhi chalte chalte raah men kisi hasinaa se mulaakaat ho jaayaa kartaa hai।




aur phir kyaa dil dil dhak dhak,




dhak dhak dil dil,tab se ab tak,ab se kab tak।





Written by sushil kumar



10 Jan 2017

मैं और मेरे तनाव का साथ main aur mere tanaav kaa saath


मैं और मेरे तनाव का साथ

मानो दो जिस्म एक जान हैं आज



जितना भी खुशनुमा माहौल हो कहीं

पर तनाव की यारी है बहुत पक्की

हमेशा हमारी साथ जो निभाती है।



अपने छोड़ जाते हैं  साथ

बुरे समम में हमारे।



एक तनाव ही तो है,हमारा सच्चा दोस्त

जो नहीं छोड़ता है हमें, किसी भी पल में।


इन दिनों भी कितना तनाव हम झेल रहे हैं आज कल में।


बाहर वालों का तो धर्म ही है तनाव देने का

पर अपने भी बख्श नहीं रहे हैं

हर एक क्षण में।



main aur mere tanaav kaa saath


maano do jism ek jaan hain aaj




jitnaa bhi khushanumaa maahaul ho kahin


par tanaav ki yaari hai bahut pakki


hameshaa hamaari saath jo nibhaati hai।




apne chhod jaate hain  saath


bure samam men hamaare।




ek tanaav hi to hai,hamaaraa sachchaa dost


jo nahin chhodtaa hai hamen, kisi bhi pal men।



en dinon bhi kitnaa tanaav ham jhel rahe hain aaj kal men।



baahar vaalon kaa to dharm hi hai tanaav dene kaa


par apne bhi bakhsh nahin rahe hain


har ek kshan men।


written by sushil kumar














8 Jan 2017

दो दिन की जिंदगी do din ki zindagi

shayari

do din ki zindagi



दो दिन की जिंदगी को

                व्यर्थ में क्यों गँवाते हो।

जीवन के हर पन्ने पर,

                गंदगी क्यों फैलाते हो।

खाली हाथ आये थे तब,

           अब मुट्ठी क्यों नहीं खोल पाते हो।

लोभ मोह और क्रोध इर्ष्या वश

      बैंक बेलेंस और प्रोपरटी छोड़ नहीं पाते हो।

अपनों के भावनाओं को बिना समझे
                               क्यों ठेस  पहुँचाते हो।

जिस माँ बाप ने सदा तुमसे प्यार से बोला।

                     आज तुम उनसे क्यों खखुआते हो।

बिना कारन उनका दिल दुखाकर,

                         नैनों से अक्ष्रु क्यों गिरवाते हो।

 सभी के अरमानों को कुचलते हुए,

                          क्यों आगे चले जाते हो।

जरा सा रुक कर,दो पल की साँस लेकर,

               क्यों नहीं अपनो से प्यार से बतियाते हो।

सबको साथ लेकर चलने की,
     
                   क्यों नहीं जिम्मेवारी उठाते हैं।



do din ki jindgi ko


                vyarth men kyon gnvaate ho।


jivan ke har panne par,


                gandgi kyon phailaate ho।


khaali haath aaye the tab,


           ab mutthi kyon nahin khol paate ho।


lobh moh aur krodh ershyaa vash


      baink belens aur proparti chhod nahin paate ho।


apnon ke bhaavnaaon ko binaa samjhe

                               kyon thes  pahunchaate ho।


jis maan baap ne sadaa tumse pyaar se bolaa।


                     aaj tum unse kyon khakhuaate ho।


binaa kaaran unkaa dil dukhaakar,


                         nainon se akshru kyon girvaate ho।


 sbhi ke armaanon ko kuchalte hua,


                          kyon aage chale jaate ho।


jaraa saa ruk kar,do pal ki saans lekar,


               kyon nahin apno se pyaar se batiyaate ho।


sabko saath lekar chalne ki,

     

                   kyon nahin jimmevaari uthaate hain।







written by sushil kumar



वह डरावनी रात !Vah darawani raat

Shayari

Vah darawani raat



वह रात घंघोर अंधेरा था,
              सड़क पर मैं अकेला था।
धीरे धीरे कदम  रख रहा था,
              क्योंकि हर जगह बस सन्नाटा  था।
हर चीज डरावना था,
               दिल भी तेजी से धकधका रहा था।
चलते समय मानो एसा लगता,
                जैसे कोई पीछा कर रहा था।
भूत पिशाच का डर रह रह कर,
                  मन में भय घर कर रहा था।
कभी आगे तो कभी पीछे
                   टोर्च जलाकर देख रहा था।
फिर रूक रूक कर,हर दूसरे पल में,
                      बिल्ली जोर जोर से रो रही थी।
वह आवाज सुन सुन कर मेरा,
                       धड़कन रुका जा रहा था।
कदम भी मेरा तेजी से,
                      घर की ओर चला जा रहा था।
जैसे तैसे घर जब पहुँचा,
                       आँखों में नींद नहीं आ रहा था।
जरा सा पलक झपकते ही,
                        भयानक सपना आ रहा था।
मेरे जीवन की वह भयानक रात को
                         आज भी भूल नहीं पा रहा हूँ।
             
               


vah raat ghanghor andheraa thaa,

              sdak par main akelaa thaa।

dhire dhire kadam  rakh rahaa thaa,

              kyonki har jagah bas sannaataa  thaa।

har chij daraavnaa thaa,

               dil bhi teji se dhakadhkaa rahaa thaa।

chalte samay maano esaa lagtaa,

                jaise koi pichhaa kar rahaa thaa।

bhut pishaach kaa dar rah rah kar,

                  man men bhay ghar kar rahaa thaa।

kabhi aage to kabhi pichhe

                   torch jalaakar dekh rahaa thaa।

phir ruk ruk kar,har dusre pal men,

                      billi jor jor se ro rahi thi।

vah aavaaj sun sun kar meraa,

                       dhdakan rukaa jaa rahaa thaa।

kadam bhi meraa teji se,

                      ghar ki or chalaa jaa rahaa thaa।

jaise taise ghar jab pahunchaa,

                       aankhon men nind nahin aa rahaa thaa।

jaraa saa palak jhapakte hi,

                        bhayaanak sapnaa aa rahaa thaa।

mere jivan ki vah bhayaanak raat ko

                         aaj bhi bhul nahin paa rahaa hun।

             
Written by sushil kumar

               



अहसास ehsaas

    Shayari                         

Ehsaas


                    श.प्र.
जिंदगी के हर अहसास को जीना सीख लो।
जीवन के हर पग पर चलना सीख लो।
हर मिठास और करवाहट को जीह्वा पर जगह दो।
खुशी और गम के लम्हों को जीना सीख लो।
जीवन के हर धारा में,परमात्मा की मौज है।
ईश्वर की हर मौज में,रहना सीख लो।

jindgi ke har ahsaas ko jinaa sikh lo।

jivan ke har pag par chalnaa sikh lo।

har mithaas aur karvaahat ko jihvaa par jagah do।

khushi aur gam ke lamhon ko jinaa sikh lo।

jivan ke har dhaaraa men,parmaatmaa ki mauj hai।

ishvar ki har mauj men,rahnaa sikh lo।


Written by sushil kumar

5 Jan 2017

Har dil ki awaz hun main

Shayari



हर दिल की आवाज हूँ मैं।

             उगते हुए सुरज की आगाज़ हूँ मैं।
नव युवकों के  सोच और विचार में हूँ मैं।
             देश के आम आदमी की हूँकार में हूँ मैं।
हर दबी हुई आवाज की दहाड़ में हूँ मैं।
               हर निराशाओं की आश में हूँ मैं।
 हर दुखी व्यक्ति की खुशी में हूँ मैं ।
             हर अंधियारी मन की रोशनदान हूँ मैं।
हर खिलाड़ीयों की प्रयास में हूँ मैं।
                 हारी हुई बाजी के जीतने की विश्वास में हूँ मैं।
हाँ सही पकड़ा आपने
                                आत्मविश्वास हूँ मैं।

             

har dil ki aavaaj hun main।

             ugte hua suraj ki aagaaj hun main।

nav yuvkon ke  soch aur vichaar men hun main।

             desh ke aam aadmi ki hunkaar men hun main।

har dabi hui aavaaj ki dahaad men hun main।

               har niraashaaon ki aash men hun main।

 har dukhi vyakti ki khushi men hun main ।

             har andhiyaari man ki roshandaan hun main।

har khilaadiyon ki pryaas men hun main।

                 haari hui baaji ke jitne ki vishvaas men hun main।

haan sahi pakdaa aapne

                                aatmavishvaas hun main।


           
Written by sushil kumar


             
              

3 Jan 2017

Ahankar hi hamara dushman hai

Shayari

अहंकार ही हमारा दुश्मन है।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

जब जन्मे थे इस धरती पर बंदे,
                                    क्या लाये थे संग में ।

जब जाओगे जग छोड़कर,
                             क्या लेकर जाओगे संग में।

खाली हाथ ही आए थे बंदे,
                              और खाली हाथ ही जाओगे।

फिर मेरा और तेरा  करते हुए
                                 जग में क्यों  बौढ़ाए हो।

सभी लोग यहाँ पागल हैं,
                                 अपने बेंक बेलेंस बढ़ाने में।

प्रोपरटी की लाईन लगा दी है,
                               अपने ब्लेक मनी छिपाने में।

बड़े बड़े राजा और अरबपती,
                                 सभी छोड़ गये अपनी सम्पत्ति।

धर्मराज ने भी नहीं बख्शा उन्हें,
                                 ले देकर उनसे बख्शिश।

फिर मेरा क्या,और तेरा क्या
                                 सब कर्मों का फेरा है बंदे।

कर्म जैसा किए  हो पूर्व जन्म में
                                  वैसे ही संस्कार आप पाओगे।

तेरा कुछ है क्या यहाँ बंदे,
                          जो तू अहम को पाले हो।


ये धन दौलत और शरीर की काया,
                                      सब में मेरी माया है।

फिर इतनी अकड़ तू किस लिए,
                              अपने भाईयों पर इतना दिखाता है।

भूला रहता है,अपनी सच्चाई से,
                              बस अपने अहम बस सबको दबाता है।

अहंकार रुपी मैल धुलने के बाद ही,
                                 तुम योग्य बन पाओगे।

परमात्मा में समाने की शक्ति,
                                 तभी प्राप्त कर पाओगे।
 





     jab janme the es dharti par bande,

                                    kyaa laaye the sang men ।


jab jaaoge jag chhodkar,

                             kyaa lekar jaaoge sang men।


khaali haath hi aaa the bande,

                              aur khaali haath hi jaaoge।


phir meraa aur teraa  karte hua

                                 jag men kyon  baudhaaa ho।


sabhi log yahaan paagal hain,

                                 apne benk belens bdhaane men।


proparti ki laain lagaa di hai,

                               apne blek mani chhipaane men।


bde bde raajaa aur arabapti,

                                 sbhi chhod gaye apni sampatti।


dharmraaj ne bhi nahin bakhshaa unhen,

                                 le dekar unse bakhshish।


phir meraa kyaa,aur teraa kyaa

                                 sab karmon kaa pheraa hai bande।


karm jaisaa kia  ho purv janm men

                                  vaise hi sanskaar aap paaoge।


teraa kuchh hai kyaa yahaan bande,

                          jo tu aham ko paale ho।



ye dhan daulat aur sharir ki kaayaa,

                                      sab men meri maayaa hai।


phir etni akd tu kis lia,

                              apne bhaaiyon par etnaa dikhaataa hai।


bhulaa rahtaa hai,apni sachchaai se,

                              bas apne aham bas sabko dabaataa hai।


ahankaar rupi mail dhulne ke baad hi,

                                 tum yogy ban paaoge।


parmaatmaa men samaane ki shakti,

                                 tbhi praapt kar paaoge।

      

Written by sushil kumar

Shayari





2 Jan 2017

Ae manas sambhal ja jara.

Shayari

ऐ मानस सम्भल जा जरा।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


ऐ मानस सम्भल जा ज़रा,थोड़ा समय भक्ति में दे दे।
क्यों भटक रहा है इधर उधर,धुंडता फिर रहा है क्षणभंगुर सुख।
कभी धुंड रहा था बचपन में एक प्यारा सा खिलौना।
आज धुंडता फिर रहा है हर जगह,तू पैसा और प्यारी सी लैला।

ऐ मानस सम्भल जा ज़रा,थोड़ा समय भक्ति में दे दे।

एक बात बताना ऐ मानस,क्या किसी अपने को कभी नहीं खोए हो।
सच में बताओ,ऐ मानस,क्यों तुम उस दिन खूब नहीं रोए हो।
अगर रोए हो,तो सोचे भी होगे,सभी कहाँ चले जाते हैं हमें छोड़कर।
फिर कुछ दिन बीत जाने के बाद,उन्हें भूल,काम में लग जाते हैं हमलोग।
सच में बताओ,ऐ मानस,लोग मरने के बाद कहाँ चले जाते हैं।

ऐ मानस सम्भल जा ज़रा,थोड़ा समय भक्ति में दे दे।

हर कोई बस अपने समय को,व्यर्थ में यहाँ गँवाते हैं।
भूल जाते हैं स्वयं को यहां,और दुनिया में खुद को फँसाते हैं।
आत्मा की सच्चाई से,जीते जी वाकिफ नहीं हो पाते हैं।
बस क्षणभंगुर चीजों के लिए,मरते दम तक इच्छा जताते हैं।
एक चीज़ बताओ ऐ मानस,क्या मरने के बाद भी,
ये चीजें काम में आती हैं।

ऐ मानस सम्भल जा ज़रा,थोड़ा समय भक्ति में दे दे।

आज अगर अपने अनमोल समय में,भक्ति के लिए समय नहीं निकालोगे।
तब तुम कभी नहीं समझ पाओगे,कि ये शरीर तुम्हारा है नश्वर।
आज यह मनुष्य योनि में है,कल किसी ओर योनि में  चला जाएगा।
जाग जा ऐ इंसान,वरना कल को नर्क में पछताओगे।

ऐ मानस सम्भल जा ज़रा,थोड़ा समय भक्ति में दे दे।










ai maanas sambhal jaa jraa,thodaa samay bhakti men de de।

kyon bhatak rahaa hai edhar udhar,dhundtaa phir rahaa hai kshanabhangur sukh।

kabhi dhund rahaa thaa bachapan men ek pyaaraa saa khilaunaa।

aaj dhundtaa phir rahaa hai har jagah,tu paisaa aur pyaari si lailaa।


ai maanas sambhal jaa jraa,thodaa samay bhakti men de de।


ek baat bataanaa ai maanas,kyaa kisi apne ko kabhi nahin khoa ho।

sach men bataao,ai maanas,kyon tum us din khub nahin roa ho।

agar roa ho,to soche bhi hoge,sabhi kahaan chale jaate hain hamen chhodkar।

phir kuchh din bit jaane ke baad,unhen bhul,kaam men lag jaate hain hamlog।

sach men bataao,ai maanas,log marne ke baad kahaan chale jaate hain।


ai maanas sambhal jaa jraa,thodaa samay bhakti men de de।


har koi bas apne samay ko,vyarth men yahaan gnvaate hain।

bhul jaate hain svayan ko yahaan,aur duniyaa men khud ko phnsaate hain।

aatmaa ki sachchaai se,jite ji vaakiph nahin ho paate hain।

bas kshanabhangur chijon ke lia,marte dam tak echchhaa jataate hain।

ek chij bataao ai maanas,kyaa marne ke baad bhi,

ye chijen kaam men aati hain।


ai maanas sambhal jaa jraa,thodaa samay bhakti men de de।


aaj agar apne anmol samay men,bhakti ke lia samay nahin nikaaloge।

tab tum kabhi nahin samajh paaoge,ki ye sharir tumhaaraa hai nashvar।

aaj yah manushy yoni men hai,kal kisi or yoni men  chlaa jaaagaa।

jaag jaa ai ensaan,varnaa kal ko nark men pachhtaaoge।


ai maanas sambhal jaa jraa,thodaa samay bhakti men de de।




Written by sushil kumar

Shayari

Pyar bhara dil

Kahani

Pyar bhara dil



रामदेव गोड्डा का जाना माना व्यापारी थे।उसके घर में उसके बुढ़े माँ बाप बहन और बीवी रहते थे।उसकी नई  नई शादी हुई थी।और अब वह बहुत  खुश रहा करता था।और उनकी जिन्दगी सरलता से चल रही थी।सभी लोग बहुत खुश थे।रामदेव का धंंधा,उसके बाबू जी का दिया हुआ था।उसके बाबू जी श्यामदेव बहुत अच्छे व्यापारी थे।और रामदेव श्यामदेव जी से ही धंधा करना सीखा था।

        रामदेव की साख बहुत दूर दूर तक फैली हुई थी।वह चरित्रवान था।और अपने परिवार और सगे सम्बंधियो का      ख्याल अच्छे से रखता था।वह दिल का इतना अच्छा था,कि उसपर उसके दोस्त और उसके यहाँ काम करनेवाले जान छिड़कते थे।

         फिर एक दिन रामदेव की तबीयत खराब हो गयी।डाक्टर ने कहा,मलेरीया हो गया है।एक सप्ताह बेड रेस्ट लेना पड़ेगा।उसके परिवार को बहुत बड़ा आघात पहुँचा।क्योंकि परिवार का कमाऊ आदमी वही था।फिर उस बुरे पल में,उसका साथ निभाने,उसका पुराना दोस्त सुजैन आगे आया।अब यह उसका काम था,कि उसका दुकान सही सलामत चलता रहे और उसके बाबू जी,जो दुकान में बैठने की जिम्मेवारी उठाएँ थे,उनकी तबीयत भी बरकरार रहे।

       सुजैन ने अपना काम बहुत सही धंग  से निभाया।श्याम जी पर जरा भी तनाव आने नहीं दिया।फिर रामदेव स्वस्थ होकर काम पर फिर से आ गया।

      एक दिन रामदेव मौका पाकर सुजैन से पूछा ,सुजैन यार तुमने जो किया है मेरे लिए,उस उपकार का बदला मैं कभी भी लौटा नहीं पाऊँगा।
     सुजैन उसके पैर पर गिरकर ,फफक फफक कर रोने लगा।उसकी अक्ष्रुओं की धारा,रूकने की नाम ही नहीं ले रही थी।
     बहुत चुप करवाने के बाद सुजैन सिसक सिसक कर बोला,रामदेव भैया,आपने जो मेरे लिए किया है,उसका बदला ये जन्म क्या अगले सात जन्मों तक भी मैं ना चुका पाऊँ।
      यह सुनकर रामदेव जरा अकबका सा गया,और सुजैन से पूछा,तुमने ऐसा क्यों बोला।
सुजैन ने बोला,आपको शायद याद भी ना हो।
कुछ दस बारह साल पहले की बात है,उस समय मेरी अवस्था बहुत खराब थी।मैने छोटा सा धंधा शुरू किया था।
मेरे पैसे बाजार में लगे हुए थे।घर पर खाने की किल्लत पड़ गयी थी।मैं अपने माँ बाबू जी और अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता हूँ।मैं अपने बनाए समान को आपके यहाँ बेचता था।फिर आप उसे संशोधित कर के बाजार में बेचते थे।मेरा नया नया धंधा था।और आपके साथ नया नया सम्बंध भी कायम हुआ था।
    उसी दौरान मेरी पत्नी का तबीयत बहुत खराब हो गयी।और मेरे पास उसका इलाज करवाने के लिए एक पैसा भी नहीं था।मैं आपके पास आकर,अपनी दिल की व्यथा बताई थी।मेरी अवस्था सुनकर आपकी आँखो से आँसू आ गये थे।आपने मुझे उस समय पचास हजार रुप्ये दिये थे,और कहें कि आगे जरूरत पड़ी तो और लेकर जाना।
       अगर उस समय आपने हमारी मदद नहीं किए होते,तो मेरी पत्नी आज जिन्दा नहीं होती।और शायद वह सदमा भी मैं बरदास्त नहीं कर पाया होता।
      यह सुनकर रामदेव का भी दिल पिघल गया।और भावुक होकर  सुजैन को गले लगा लिया और दोनों  के आँखो से आँसू बह उठे।





raamdev goddaa kaa jaanaa maanaa vyaapaari the।uske ghar men uske budhe maan baap bahan aur bivi rahte the।uski nayi  naayi shaadi hui thi।aur ab vah bahut  khush rahaa kartaa thaa।aur unki jindgi saraltaa se chal rahi thi।sabhi log bahut khush the।raamdev kaa dhanndhaa,uske baabu ji kaa diyaa huaa thaa।uske baabu ji shyaamdev bahut achchhe vyaapaari the।aur raamdev shyaamdev ji se hi dhandhaa karnaa sikhaa thaa।


        raamdev ki saakh bahut dur dur tak phaili hui thi।vah charitrvaan thaa।aur apne parivaar aur sage sambandhiyo kaa      khyaal achchhe se rakhtaa thaa।vah dil kaa etnaa achchhaa thaa,ki usapar uske dost aur uske yahaan kaam karnevaale jaan chhidkte the।


         phir ek din raamdev ki tabiyat kharaab ho gayi।daaktar ne kahaa,maleriyaa ho gayaa hai।ek saptaah bed rest lenaa pdegaa।uske parivaar ko bahut bdaa aaghaat pahunchaa।kyonki parivaar kaa kamaau aadmi vahi thaa।phir us bure pal men,uskaa saath nibhaane,uskaa puraanaa dost sujain aage aayaa।ab yah uskaa kaam thaa,ki uskaa dukaan sahi salaamat chaltaa rahe aur uske baabu ji,jo dukaan men baithne ki jimmevaari uthaaan the,unki tabiyat bhi barakraar rahe।


       sujain ne apnaa kaam bahut sahi dhang  se nibhaayaa।shyaam ji par jaraa bhi tanaav aane nahin diyaa।phir raamdev svasth hokar kaam par phir se aa gayaa।


      ek din raamdev maukaa paakar sujain se puchhaa ,sujain yaar tumne jo kiyaa hai mere lia,us upkaar kaa badlaa main kabhi bhi lautaa nahin paaungaa।

     sujain uske pair par girakar ,phaphak phaphak kar rone lagaa।uski akshruon ki dhaaraa,rukne ki naam hi nahin le rahi thi।

     bahut chup karvaane ke baad sujain sisak sisak kar bolaa,raamdev bhaiyaa,aapne jo mere lia kiyaa hai,uskaa badlaa ye janm kyaa agle saat janmon tak bhi main naa chukaa paaun।

      yah sunakar raamdev jaraa akabkaa saa gayaa,aur sujain se puchhaa,tumne aisaa kyon bolaa।

sujain ne bolaa,aapko shaayad yaad bhi naa ho।

kuchh das baarah saal pahle ki baat hai,us samay meri avasthaa bahut kharaab thi।maine chhotaa saa dhandhaa shuru kiyaa thaa।

mere paise baajaar men lage hua the।ghar par khaane ki killat pd gayi thi।main apne maan baabu ji aur apni patni se bahut pyaar kartaa hun।main apne banaaa samaan ko aapke yahaan bechtaa thaa।phir aap use sanshodhit kar ke baajaar men bechte the।meraa nayaa nayaa dhandhaa thaa।aur aapke saath nayaa nayaa sambandh bhi kaayam huaa thaa।

    usi dauraan meri patni kaa tabiyat bahut kharaab ho gayi।aur mere paas uskaa elaaj karvaane ke lia ek paisaa bhi nahin thaa।main aapke paas aakar,apni dil ki vythaa bataai thi।meri avasthaa sunakar aapki aankho se aansu aa gaye the।aapne mujhe us samay pachaas hajaar rupye diye the,aur kahen ki aage jarurat pdi to aur lekar jaanaa।

       agar us samay aapne hamaari madad nahin kia hote,to meri patni aaj jindaa nahin hoti।aur shaayad vah sadmaa bhi main bardaast nahin kar paayaa hotaa।

      yah sunakar raamdev kaa bhi dil pighal gayaa।aur bhaavuk hokar  sujain ko gale lagaa liyaa aur donon  ke aankho se aansu bah uthe।


Written by sushil kumar

Aaj fir se maine ji liya apne bachpan ko

Shayari

आज फिर से,मैने जी लिया अपने बचपन को।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

आज नये साल के अवसर पर,हम बहुत खुश थे और उत्साहित।
हर दिल में था खुशी,और कुछ नया करने की थी दिल में गुंजाइश।
आज पापा मम्मी हमारे साथ में जो थे,यह अवसर आया था पाँच वर्षों में।
क्यों ना कुछ ऐसा किया जाए,जो हो नया बिल्कुल उनके लिए।
आज हमने फिर जुहु बीच घूमने की योजना बनाई थी।
पापा मम्मी हमारे आज तक,समुद्र तट देख नहीं पाए थे।
फिर क्या था,बुक किए केब हम और निकल पड़े  जुहु की ओर।
वहाँ पहुँच कर पता चला कि,क्या हम मिस यहाँ कर रहे थे।
पापा मम्मी की खुशी और उत्साह,जो समुद्र तट को देखकर आया था।
ऐसा लगा अपने बचपन को,दुबारा जीने का अवसर पाया था।










aaj naye saal ke avasar par,ham bahut khush the aur utsaahit।

har dil men thaa khushi,aur kuchh nayaa karne ki thi dil men gunjaaesh।

aaj paapaa mammi hamaare saath men jo the,yah avasar aayaa thaa paanch varshon men।

kyon naa kuchh aisaa kiyaa jaaa,jo ho nayaa bilkul unke lia।

aaj hamne phir juhu bich ghumne ki yojnaa banaai thi।

paapaa mammi hamaare aaj tak,samudr tat dekh nahin paaa the।

phir kyaa thaa,buk kia keb ham aur nikal pde  juhu ki or।

vahaan pahunch kar pataa chalaa ki,kyaa ham mis yahaan kar rahe the।

paapaa mammi ki khushi aur utsaah,jo samudr tat ko dekhakar aayaa thaa।

aisaa lagaa apne bachapan ko,dubaaraa jine kaa avasar paayaa thaa।



Written by sushil kumar

Shayari

1 Jan 2017

Aao mil kar likh chale ek naya adhyay hum.

Shayari

आओ मिल कर लिख चले,एक नया अध्याय हम।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


नया साल,नयी दिन,
आओ मिल कर लिख चले,एक नया अध्याय हम।
और फिर से आज नयी सुवह का आगमन पुनः हुआ है।
अच्छाई की रोशनी से,सूरज ने फिर से अंधकार की बुराई पर विजय ध्वज लहराया है।
सकारात्मक सोच की शक्ति के सामने,आज फिर से नकारात्मकता हारी है।
प्यार की ताकत के सामने आज फिर से नफरत का सर झुका है।
हम भी आज कसम खा लें कि,क्यों ना हम भी आज से मानवता को दिल से अपनाएँगे।
और नये साल में,नये ऊर्जा के साथ,दुनिया से अराजकता को हम मिलकर हटाएँगे।







nayaa saal,nayi din,

aao mil kar likh chale,ek nayaa adhyaay ham।

aur phir se aaj nayi suvah kaa aagaman punah huaa hai।

achchhaai ki roshni se,suraj ne phir se andhkaar ki buraai par vijay dhvaj lahraayaa hai।

sakaaraatmak soch ki shakti ke saamne,aaj phir se nakaaraatmaktaa haari hai।

pyaar ki taakat ke saamne aaj phir se napharat kaa sar jhukaa hai।

ham bhi aaj kasam khaa len ki,kyon naa ham bhi aaj se maanavtaa ko dil se apnaaange।

aur naye saal men,naye urjaa ke saath,duniyaa se araajaktaa ko ham milakar hataaange।

Written by sushil kumar
Shayari

Manavta ya aatankwad

Sikh

Manavta ya aatankwad


मानवता या आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता।जो सच्चा मानव होता है किसी मनुष्य को  धर्म जति से नहीं तोलता ,ना ही किसी को धर्म जाती से किसी को बांटता है। उसके लिए मानवता  का धर्म सर्वोपरि है। उसके लिए सभी का खून लाल है। उसके लिए सभी दर्द एक समान है। ना अल्लाह ना भगवान,ना नानक ना क्राइस्ट,उसके लिए मानवता का सेवा सबसे बड़ा धर्म है। हर मनुष्य में उसे ईश्वर नजऱ आता है।ये  मानव।
इसी प्रकार आतंकवाद  भी कोई धर्म नहीं होता। उसके लिए मानवता का अंत करना ही उसका धर्म  है। वो भी कोई जाति धर्म नहीं  देखता है। उसके लिए  हिन्दू  मुसलमान सिख इसाई सभी एक बड़ाबर हैं। वो मानवता के अंत करने को आगे बढ़ता है तो वो किसी को धर्म जाती पे नहीं तोलता।और दुनिया में सभी जगह तबाही ही तबाही फैला देता है। दुनिया में अशांति फैला कर ,लोगों को तकलीफ़ देकर ,जो उन्हें  शांति और शुकुन मिलता है वो ख़ुशी और शांति उन्हें और कोई भी चीज़  मिलता।
      अब आपको सोचना है मानवता की  ख़ुशी में आपको    ख़ुशी मिलती है या मानवता  के अंत  में।
     जाहिर सी बात है,हम मानव है,और  हमारे लिए मानवता का धर्म ही सर्वोपरि होना चाहिए। मानवता का उत्थान ही हमारी सर्वोपरि सोच होनी चाहिए।





maanavtaa yaa aatankvaad kaa koi dharm nahin hotaa।jo sachchaa maanav hotaa hai kisi manushy ko  dharm jati se nahin toltaa ,naa hi kisi ko dharm jaati se kisi ko baanttaa hai। uske lia maanavtaa  kaa dharm sarvopari hai। uske lia sabhi kaa khun laal hai। uske lia sabhi dard ek samaan hai। naa allaah naa bhagvaan,naa naanak naa kraaest,uske lia maanavtaa kaa sevaa sabse bdaa dharm hai। har manushy men use ishvar najar aataa hai।ye  maanav।

esi prkaar aatankvaad  bhi koi dharm nahin hotaa। uske lia maanavtaa kaa ant karnaa hi uskaa dharm  hai। vo bhi koi jaati dharm nahin  dekhtaa hai। uske lia  hindu  musalmaan sikh esaai sabhi ek bdaabar hain। vo maanavtaa ke ant karne ko aage bdhtaa hai to vo kisi ko dharm jaati pe nahin toltaa।aur duniyaa men sabhi jagah tabaahi hi tabaahi phailaa detaa hai। duniyaa men ashaanti phailaa kar ,logon ko taklif dekar ,jo unhen  shaanti aur shukun miltaa hai vo khushi aur shaanti unhen aur koi bhi chij  miltaa।

      ab aapko sochnaa hai maanavtaa ki  khushi men aapko    khushi milti hai yaa maanavtaa  ke ant  men।

     jaahir si baat hai,ham maanav hai,aur  hmaare lia maanavtaa kaa dharm hi sarvopari honaa chaahia। maanavtaa kaa utthaan hi hamaari sarvopari soch honi chaahia।


Written by sushil kumar

Ziddi

Kahani

Ziddi


आज की कहानी हठी कनिका की है।कनिका बचपन से ही शैतान व बहुत ज्यादा हठी लड़की थी।जब भी उसे कोई खिलौना पसंद आ जाता था,तो बिना लिए,उसे चैन नहीं मिलता था।उसके हठ से उसके माँ बाप बहुत परेशान हो जाया करते थे।उन्हें भी कहाँ मालूम था,कि यही हठ उस लड़की को कहाँ से कहाँ ले जाएगा।
          कनिका के माँ बाप ज्यादा अमीर नहीं थे,फिर भी उसकी जिद्द के आगे,हमेशा उन्हें झुकना ही पड़ता था।कनिका जब कुछ बड़ी हुई,और उसे अपने माँ बाप की स्थिति का पता चला,फिर वह काफि गंभीर हो गई थी।क्योंकि उसे पता चल गया था,कि उसकी मंजिल काफि
 दूर  है।
        अब वो कुछ गंभीर हो गई थी और काफि समझदार भी।अब वह खिलौने व अन्य चीजों के लिए झगड़ा नहीं करती।उसका ज्यादतर समय कीताबों के साथ ही बितता था।हमेशा घर में ही वह रहने लगी।
      ऐसा बदलाव देखकर उसके घर वाले भी हैरान हो गएँँ।अब तो हर वक्त उसे समझाने लगे,कि बेटा बाहर निकलो ,दोस्तों से मिलो।ऐसे क्या घर में घूसकर बैठे रहती हो।
      कनिका बौलती,पापा-मुझे बहुत आगे जाना है,मुझे बहुत कुछ करना है।वह अपने माँँ बाप की गरीबी देख चुकी  थी।उसे मालूम था कि अगर गरीबी की क्ष्राप को अपने परिवार से हटाना है,तो उसे जी जान से पढ़ाई करनी पड़ेगी।
      कनिका ने बिलकुल कसम खा ली थी ,कि जब तक वह अपने माँ बाप और घर की परिस्थिति को बदलेगी नहीं,तब तक वह शान्ति से नहीं बैठेगी।
        उसने वैसा ही किया,और आगे जाकर उसने आई ए एस की परीक्षा में टाप किया,और अपने परिवार और घर की स्थिति को बदलने में कामयाबी पा ली।





aaj ki kahaani hathi kanikaa ki hai।kanikaa bachapan se hi shaitaan v bahut jyaadaa hathi ldki thi।jab bhi use koi khilaunaa pasand aa jaataa thaa,to binaa lia,use chain nahin miltaa thaa।uske hath se uske maan baap bahut pareshaan ho jaayaa karte the।unhen bhi kahaan maalum thaa,ki yahi hath us ldki ko kahaan se kahaan le jaaagaa।

          kanikaa ke maan baap jyaadaa amir nahin the,phir bhi uski jidd ke aage,hameshaa unhen jhuknaa hi pdtaa thaa।kanikaa jab kuchh bdi hui,aur use apne maan baap ki sthiti kaa pataa chalaa,phir vah kaaphi gambhir ho gayi thi।kyonki use pataa chal gayaa thaa,ki uski manjil kaaphi

 dur  hai।

        ab vo kuchh gambhir ho gayi thi aur kaaphi samajhdaar bhi।ab vah khilaune v any chijon ke lia jhagdaa nahin karti।uskaa jyaadatar samay kitaabon ke saath hi bittaa thaa।hameshaa ghar men hi vah rahne lagi।

      aisaa badlaav dekhakar uske ghar vaale bhi hairaan ho gann।ab to har vakt use samjhaane lage,ki betaa baahar niklo ,doston se milo।aise kyaa ghar men ghusakar baithe rahti ho।

      kanikaa baulti,paapaa-mujhe bahut aage jaanaa hai,mujhe bahut kuchh karnaa hai।vah apne maann baap ki garibi dekh chuki  thi।use maalum thaa ki agar garibi ki kshraap ko apne parivaar se hataanaa hai,to use ji jaan se pdhaai karni pdegi।

      kanikaa ne bilakul kasam khaa li thi ,ki jab tak vah apne maan baap aur ghar ki paristhiti ko badlegi nahin,tab tak vah shaanti se nahin baithegi।

        usne vaisaa hi kiyaa,aur aage jaakar usne aai aye es ki parikshaa men taap kiyaa,aur apne parivaar aur ghar ki sthiti ko badalne men kaamyaabi paa li।


Hum banker

Kuchh baaten

Hum banker


हम इंसान हैं, कोई रॉबोट नहीं।एक बार हममें प्रोग्रामींग कर दिया, फिर हमसे कोई भी काम ले लो।भारी से भारी काम पूरा कर लेगा।और यहाँ हमें किसी रॉबोट से कम नहीं समझा जाता।
              हमारे तिमाही क्लोज़िंग होती है और हमें हर क्लोज़िंग के टारगेट मिलते हैं।और अगर आप टारगेट को पा लेते हैं, तो फिर आप वाह वाही लूट लेते हैं,नहीं तो हर तरह की यातनाएँ सहने को तैयार हो जाएँ।
             आपने टारगेट को पार की,मतलब आप समझ जाइए कि अगला टारगेट इसका दुगुना होगा।
             वो इसलिए क्योंकि मेनेज्मेंट मानती है, कि जिस ब्राँच से अच्छा रिजल्ट आ रहा है, उस ब्राँच की काबिलियत ज्यादा है और उस जगह से ज्यादा बिझनेस खींचा जा सकता है।
             उसी के हिसाब से मेनेज्मेंट उस ब्राँच मेंं एक स्टाफ और भेज देता है, जो उनके हिसाब से काफि है।और अब मेनेज्मेंट उनपे दबाव बनाता है, ज्यादा बिझनेस लाने के लिए।और अब स्टार्ट होता है, दबाव का दौड़।मेनेज्मेंट ब्राँच पे दबाव डालती है, ब्राच मेनेजर अपने स्टाफ पे दबाव डालता है।
            ये दबाव हर स्तर पर अलग अलग होते हैं।ब्राँच मेनेजर पर दबाव ज्यादा होता है।उन पर डिपोज़िट व एडवांस दोनो की टारगेट को एचीव करने के दबाव होते  हैं।उसके लिए उसे अपने स्टाफ को इस प्रकार से मेनेज करना करना पड़ता है, ताकि उसके बिझनेस मेंं ग्रोथ हो और टारगेट भी एचीव हो पाए।
         अब ब्राँच मेनेजर अपने स्टाफ पे दबाव डालता है।यह दबाव उस स्तर का नहीं होता है, जो वह खुद झेल रहा होता है।
         हर मनुष्य की दबाव झेलने की ताकत अलग होती है।जिसे ज्यादा दबाव झेलने की आदत नहीं है,वह कम दबाव मेंं ही सुसाइडल मोड पे चले जाते हैं।
       हाल ही में एकेडमिया.इडू वेबसाईट के द्वारा एक सर्वे किया गया, जिसका विषय था-दुनिया मेंं सबसे ज्यादा प्रेशर वाला जॉब कौन सा है।इस सर्वे मेंं यह पाया गया, कि सबसे ज्यादा प्रेशर वाला जॉब भारतीय बैंको की है।
        नए नए बच्चे ऑफिसर बन कर आते हैं,और आते ही उनपर विभिन्न प्रकार की उत्तरदायित्व डाल दी जाती है।कभी कभी तो बिना किसी ट्रेनिंग, और बिना किसी मदद (लाइफ जेकेट) के उन्हें खुले महासागर में ढकेल दिया जाता है, उन्हें तैरने के लिये।
           अब आप ही बताईए कि वो बैंकर कब तक अपनी जान की खैरीयत मना पाएगा।
           फिर अगर आप ब्रांच मेनेजर हैं तो प्रेशर का माप निकालना संभव ही नहीं है।ब्रांच के सारे टारगेट के प्रेशर आपके कंधे पर ही होते हैं।उन्हें अपनी दी हुई  टीम के साथ मिलकर उस टारगेट को पाने के लिए अग्रसर होना है।
           औऱ हर महीने ब्रांच मेनेजर के होते हैं रिव्यू मीटिंग,जिसमें उन्हें खरे खोटे शब्दों के तीखे बानोंं को सहना पड़ता है।ये तीखे बान कभी कभी इस तरह से दिल पर आघात करते हैं, जो असहनीय होते हैं।और अगर ऐसी हालत में स्टाफ जरूरत से कम मिले,फिर तो सोने पे सुहागा|उसके बाद स्टाफ का डिमांड अगर जोनल अॉफिस से करें,तो फिर वो यह बोल कर टाल देते हैं,कि ब्रांच में स्टाफ जरूरत से ज्यादा दिए हुए हैं|अब मेनेजर मरे ना तो क्या करे|टारगेट को पूरा करने में,ब्रांच में भी तनाव पैदा करता है|ऐसी हालात हो जाते हैं कि वो घर भी बहुत लेट पहुंचने लगता है|और घर पर भी तनाव का माहौल पैदा हो जाता है|और जब बैंक का प्रेशर झेलकर जब वह मन की शाँति पाने के लिए,घर पर लौट कर आता है,कि वह घर पर जाकर अपने बच्चे के साथ खेलेगा,और अपनी पत्नी से अच्छी अच्छी बात करेगा|पर लेट घर पहुँचने की वजह से,उसका बच्चा पहले से ही सो चुका होता है,और उसकी बीवी लेट से पहुँचने की वजह से पहले से ही झल्लाई रहती है|और उसका घर पर स्वागत झल्ला कर करती है|और अगर आप गलती से ये बोल देते हैं कि काम ज्यादा था,फिर तो आपकी खैर नहीं|वो बोलेगी,केवल आपके ही बैंक में हर दिन इतना दैर तक काम होता है|एक काम कीजिए बैंक में ही घर बसा लिजिए|सुवह जल्दी निकल जाते हैं,शाम में लेट से आते हैं।शनिवार-रविवार को भी बैंक में ही समय व्यतीत करते हैं।ऐसा न हो कि आपका बच्चा जब बड़ा हो जाए,और रात्री के बीच कभी उसकी निद्रा भंग हो जाए,और आपको अपने बगल में सोए देख चिल्लाए।माँ!चोर चोर। |और घर पर भी उसकी  तनाव बरकरार रहती|घर पर भी तनाव और बैंक में भी तनाव|
      ऐसे में एक रात उस बैंकर को सीने में दर्द हो जाता है,और उसकी बीवी उसे उठाकर होस्पीटल लेकर जाती है|पता चला कि उसे पहला हार्ट एटोक आया है,और वो मरते मरते बचा है|
       यह बैंकर तो बच गया,लेकिन कुछ बैंकर जिनका परिवार साथ में नहीं रहता है|वो जब शाम में लेट से वापस लौटता है,तो उसे अपने परिवार की बहुत याद आती है|पर वह फोन नहीं कर पाता है,क्योंकि काफि रात हो चुकी होती है|उसे ऐसा लगता है,कि वह खुद तो परेशान है ही,अपने परिवार को परेशान क्यों करे|क्योंकि पिछले रात जब वह अपनी पत्नी को फोन किया था,तब तक वह सो चुकी थी|ये वाली सीचुएशन काफि खतरनाक होती है|हार्ट एटेक आ जाए,तो कोई देखने वाला नहीं है|
           और ऐसे में कहीं उसने सुसाईडक्ड  करने की सोच ली,फिर तो भगवान ही बचाए ऐसी परिस्थिती से|
          आज समय आ गया है कि हम बैंकर सजग हो जाएँ|और अपने भविष्य को सँवारने के लिए,जो कदम उठाना है,उठाएँ|
          आज बहुत जरूरी है,कि जो प्रेशर का माहैल बन गया है,उसे हटाकर कंप्टीशन की भावना को ले कर आऐं|क्योंकि प्रेशर से केवल नुकसान होता है,किसी भी ऑरगेनाइजेशन का|हम राबोट  नहीं हैंं,कि जितना टारगेट चाहिए,उतने की सेटींग की,और अपना टारगेट एचिव किया।
          समय की पाबंदी बहुत जरूरी है|सुवह आने का समय और शाम में जाने का समय फिक्स होना चाहिए|किसी भी हालत में नौ से दस घंटे से ज्यादा समय  बैंक में व्यतीत करने की अनुमती नहीं दी जानी चाहिए|
         स्त्रियों की भी आने व जाने का समय फिक्स होना चाहिए|हर हालत में उनके बैंक में रूकने का समय नौ घंटे से ज्यादा का नहीं होना चाहिए|
         हर सुबह योग,और बैंकींग आवर में हर दो घंटे में टी ब्रेक,या कॉफी ब्रेक जरूरी है|इस ब्रेक में हर बैंकर को पानी पीने पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए|क्योंकि काम के बोझ में,हम बैंकर पानी पीना भूल जाते हैं|पानी कम पीने से भी बहुत सारी बिमारीयाँ होती है।
          हर शनिवार को ब्रांच मेनेजर को एक छोटा सा रिव्यु मीटिंग रखना चाहिए,जिसमें उस सप्ताह के बेस्ट परफोरमर को सम्मानित करना चाहिए,ताकि कंप्टीशन की भावना को स्टाफ के बीच में जगाया जा सके|
        अगर कोई स्टाफ फिर भी परफो़र्म नहीं कर रहा है,इसका मतलब यह नहीं कि वह नन परफोरमर है।बल्कि इसका मतलब यह.है कि उसके जीवन मे कुछ तकलीफे  व परेशानियाँ है,जिसके कारण से उसका तन  काम  पर है पर उसका मन कहीं और भटक रहा होता है।
        ऐसी हालत में मेनेज्मेंट को सोचना चाहिए,कि जो बैंकर अच्छा परफोरमर  है,एकाएक ऐसा क्या हुआ कि वह नन परफोरमर बन गया।मेनेज्मेंट को उसे बुला कर पूछना चाहिए,कि कोई परेशानी तो नहीं है।घर पे सब लोग अच्छे हैं ना,तुम्हारे जीवन में कोई परेशानी तो नहीं।
हम बैंकर भी मनुष्य हैं|
    जब मनुष्य किसी परेशानी में होता है,और कोई अपना उसके पास में आकर उसकी खैरीयत पूछता है,तो उसे बहुत मजबूती मिलती है।और वह सारी परेशानी सामने वाले को बता देता है।
    अब ये मेनेज्मेंट पर है ,कि वह अब कैसे अपने अन्डर काम करने वाले लोगों के लिए,एक अच्छा लीडर व एक अच्छा दोस्त बन सके।
     अगर मैनेजमेंट का रुख अच्छा रहता है,सकारात्मक माहौल कर्मी को मिलता है,तो कर्मी निर्धारीत समय में ही अच्छा काम करके दिखाेते हैं,और मैनेज्मेंट अपना टारगेट भी आराम से पा लेते हैं।
        वहीं अगर मेनेज्मेंट हिटलर बनने की कोशिश करता है,तो फिर वैसी हालत में टारगेट एचीव हो चाहे न हो,पर मेनेज्मेंट एक सैनीक जरुर खो देता है ।




ham ensaan hain, koi rabot nahin।ek baar hammen prograaming kar diyaa, phir hamse koi bhi kaam le lo।bhaari se bhaari kaam puraa kar legaa।aur yahaan hamen kisi rabot se kam nahin samjhaa jaataa।

              hamaare timaahi klojing hoti hai aur hamen har klojing ke taarget milte hain।aur agar aap taarget ko paa lete hain, to phir aap vaah vaahi lut lete hain,nahin to har tarah ki yaatnaaan sahne ko taiyaar ho jaaan।

             aapne taarget ko paar ki,matalab aap samajh jaaea ki aglaa taarget eskaa dugunaa hogaa।

             vo esalia kyonki menejment maanti hai, ki jis braanch se achchhaa rijalt aa rahaa hai, us braanch ki kaabiliyat jyaadaa hai aur us jagah se jyaadaa bijhnes khinchaa jaa saktaa hai।

             usi ke hisaab se menejment us braanch menn ek staaph aur bhej detaa hai, jo unke hisaab se kaaphi hai।aur ab menejment unpe dabaav banaataa hai, jyaadaa bijhnes laane ke lia।aur ab staart hotaa hai, dabaav kaa daud।menejment braanch pe dabaav daalti hai, braach menejar apne staaph pe dabaav daaltaa hai।

            ye dabaav har star par alag alag hote hain।braanch menejar par dabaav jyaadaa hotaa hai।un par dipojit v edvaans dono ki taarget ko echiv karne ke dabaav hote  hain।uske lia use apne staaph ko es prkaar se menej karnaa karnaa pdtaa hai, taaki uske bijhnes menn groth ho aur taarget bhi echiv ho paaa।

         ab braanch menejar apne staaph pe dabaav daaltaa hai।yah dabaav us star kaa nahin hotaa hai, jo vah khud jhel rahaa hotaa hai।

         har manushy ki dabaav jhelne ki taakat alag hoti hai।jise jyaadaa dabaav jhelne ki aadat nahin hai,vah kam dabaav menn hi susaaedal mod pe chale jaate hain।

       haal hi men ekedamiyaa.edu vebsaait ke dvaaraa ek sarve kiyaa gayaa, jiskaa vishay thaa-duniyaa menn sabse jyaadaa preshar vaalaa jab kaun saa hai।es sarve menn yah paayaa gayaa, ki sabse jyaadaa preshar vaalaa jab bhaartiy bainko ki hai।

        naye naye bachche auphisar ban kar aate hain,aur aate hi unapar vibhinn prkaar ki uttardaayitv daal di jaati hai।kabhi kabhi to binaa kisi trening, aur binaa kisi madad (laaeph jeket) ke unhen khule mahaasaagar men dhakel diyaa jaataa hai, unhen tairne ke liye।

           ab aap hi bataaia ki vo bainkar kab tak apni jaan ki khairiyat manaa paaagaa।

           phir agar aap braanch menejar hain to preshar kaa maap nikaalnaa sambhav hi nahin hai।braanch ke saare taarget ke preshar aapke kandhe par hi hote hain।unhen apni di hui  tim ke saath milakar us taarget ko paane ke lia agrasar honaa hai।

           aur har mahine braanch menejar ke hote hain rivyu miting,jismen unhen khare khote shabdon ke tikhe baanonn ko sahnaa pdtaa hai।ye tikhe baan kabhi kabhi es tarah se dil par aaghaat karte hain, jo asahniy hote hain।aur agar aisi haalat men staaph jarurat se kam mile,phir to sone pe suhaagaa|uske baad staaph kaa dimaand agar jonal aaphis se karen,to phir vo yah bol kar taal dete hain,ki braanch men staaph jarurat se jyaadaa dia hua hain|ab menejar mare naa to kyaa kare|taarget ko puraa karne men,braanch men bhi tanaav paidaa kartaa hai|aisi haalaat ho jaate hain ki vo ghar bhi bahut let pahunchne lagtaa hai|aur ghar par bhi tanaav kaa maahaul paidaa ho jaataa hai|aur jab baink kaa preshar jhelakar jab vah man ki shaanti paane ke lia,ghar par laut kar aataa hai,ki vah ghar par jaakar apne bachche ke saath khelegaa,aur apni patni se achchhi achchhi baat karegaa|par let ghar pahunchne ki vajah se,uskaa bachchaa pahle se hi so chukaa hotaa hai,aur uski bivi let se pahunchne ki vajah se pahle se hi jhallaai rahti hai|aur uskaa ghar par svaagat jhallaa kar karti hai|aur agar aap galti se ye bol dete hain ki kaam jyaadaa thaa,phir to aapki khair nahin|vo bolegi,keval aapke hi baink men har din etnaa dair tak kaam hotaa hai|ek kaam kijia baink men hi ghar basaa lijia|suvah jaldi nikal jaate hain,shaam men let se aate hain।shanivaar-ravivaar ko bhi baink men hi samay vytit karte hain।aisaa n ho ki aapkaa bachchaa jab badaa ho jaaa,aur raatri ke bich kabhi uski nidraa bhang ho jaaa,aur aapko apne bagal men soa dekh chillaaa।maan!chor chor। |aur ghar par bhi uski  tnaav barakraar rahti|ghar par bhi tanaav aur baink men bhi tanaav|

      aise men ek raat us bainkar ko sine men dard ho jaataa hai,aur uski bivi use uthaakar hospital lekar jaati hai|pataa chalaa ki use pahlaa haart etok aayaa hai,aur vo marte marte bachaa hai|

       yah bainkar to bach gayaa,lekin kuchh bainkar jinkaa parivaar saath men nahin rahtaa hai|vo jab shaam men let se vaapas lauttaa hai,to use apne parivaar ki bahut yaad aati hai|par vah phon nahin kar paataa hai,kyonki kaaphi raat ho chuki hoti hai|use aisaa lagtaa hai,ki vah khud to pareshaan hai hi,apne parivaar ko pareshaan kyon kare|kyonki pichhle raat jab vah apni patni ko phon kiyaa thaa,tab tak vah so chuki thi|ye vaali sichuashan kaaphi khatarnaak hoti hai|haart etek aa jaaa,to koi dekhne vaalaa nahin hai|

           aur aise men kahin usne susaaidakd  karne ki soch li,phir to bhagvaan hi bachaaa aisi paristhiti se|

          aaj samay aa gayaa hai ki ham bainkar sajag ho jaaan|aur apne bhavishy ko snvaarne ke lia,jo kadam uthaanaa hai,uthaaan|

          aaj bahut jaruri hai,ki jo preshar kaa maahail ban gayaa hai,use hataakar kamptishan ki bhaavnaa ko le kar aaain|kyonki preshar se keval nuksaan hotaa hai,kisi bhi aurgenaaejeshan kaa|ham raabot  nhin hainn,ki jitnaa taarget chaahia,utne ki seting ki,aur apnaa taarget echiv kiyaa।

          samay ki paabandi bahut jaruri hai|suvah aane kaa samay aur shaam men jaane kaa samay phiks honaa chaahia|kisi bhi haalat men nau se das ghante se jyaadaa samay  baink men vytit karne ki anumti nahin di jaani chaahia|

         striyon ki bhi aane v jaane kaa samay phiks honaa chaahia|har haalat men unke baink men rukne kaa samay nau ghante se jyaadaa kaa nahin honaa chaahia|

         har subah yog,aur bainking aavar men har do ghante men ti brek,yaa kaphi brek jaruri hai|es brek men har bainkar ko paani pine par bhi vishesh dhyaan denaa chaahia|kyonki kaam ke bojh men,ham bainkar paani pinaa bhul jaate hain|paani kam pine se bhi bahut saari bimaariyaan hoti hai।

          har shanivaar ko braanch menejar ko ek chhotaa saa rivyu miting rakhnaa chaahia,jismen us saptaah ke best parphoramar ko sammaanit karnaa chaahia,taaki kamptishan ki bhaavnaa ko staaph ke bich men jagaayaa jaa sake|

        agar koi staaph phir bhi parphorm nahin kar rahaa hai,eskaa matalab yah nahin ki vah nan parphoramar hai।balki eskaa matalab yah.hai ki uske jivan me kuchh takliphe  v pareshaaniyaan hai,jiske kaaran se uskaa tan  kaam  par hai par uskaa man kahin aur bhatak rahaa hotaa hai।

        aisi haalat men menejment ko sochnaa chaahia,ki jo bainkar achchhaa parphoramar  hai,ekaaak aisaa kyaa huaa ki vah nan parphoramar ban gayaa।menejment ko use bulaa kar puchhnaa chaahia,ki koi pareshaani to nahin hai।ghar pe sab log achchhe hain naa,tumhaare jivan men koi pareshaani to nahin।

ham bainkar bhi manushy hain|

    jab manushy kisi pareshaani men hotaa hai,aur koi apnaa uske paas men aakar uski khairiyat puchhtaa hai,to use bahut majbuti milti hai।aur vah saari pareshaani saamne vaale ko bataa detaa hai।

    ab ye menejment par hai ,ki vah ab kaise apne andar kaam karne vaale logon ke lia,ek achchhaa lidar v ek achchhaa dost ban sake।

     agar mainejment kaa rukh achchhaa rahtaa hai,sakaaraatmak maahaul karmi ko miltaa hai,to karmi nirdhaarit samay men hi achchhaa kaam karke dikhaaete hain,aur mainejment apnaa taarget bhi aaraam se paa lete hain।

        vahin agar menejment hitalar banne ki koshish kartaa hai,to phir vaisi haalat men taarget echiv ho chaahe n ho,par menejment ek sainik jarur kho detaa hai ।

Written by sushil kumar


कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...