24 Nov 2016

आँखो ही आँखो में इशारा मिल गयाaankho hi aankho mein ishara mil gaya.

Shayari

आँखो ही आँखो में इशारा मिल गया

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आँखो ही आँखो में इशारा मिल गया।
जिंदगी जीने का सहारा मिल गया।।

अभी तक कोई एक अफसाना ढुँड रहे थे यहाँ।
वही दिल को,उसका आशियाना मिल गया।।

उनका शर्माना दिल में बस सा गया।
ना जाने फिर से मुझे जीने की एक  आशा दिख गया।।

हे ईश्वर मेरे अश्रुओं ने,तुम्हारा दिल को भी पिघला दिया।
मरते हुए मानव को,तुमने जीना सीखा दिया।।
Hindi kavita, hindi shayari

 aankho hi aankho men eshaaraa mil gayaa।

jindgi jine kaa sahaaraa mil gayaa।।


abhi tak koi ek aphsaanaa dhund rahe the yahaan।

vahi dil ko,uskaa aashiyaanaa mil gayaa।।


unkaa sharmaanaa dil men bas saa gayaa।

naa jaane phir se mujhe jine ki ek  aashaa dikh gayaa।।


he ishvar mere ashruon ne,tumhaaraa dil ko bhi pighlaa diyaa।

marte hua maanav ko,tumne jinaa sikhaa diyaa।।




written by Sushil Kumar at kavitadilse.top
Shayari

21 Nov 2016

जीवन के हर पन्ने पर. Jiwan ke har panne par

Shayari

जीवन के हर पन्ने पर

जीवन के हर पन्ने पर
तेरा नाम लिख जाऊँगा
रस्ते के हर मोड़ पर
बस अपना छाप छोड़ जाऊँगा।

जीवन में कहीं भी रहूँ,
तुम्हारी याद दिल में बसाऊँगा।
मर भी जाऊँ,
तो भी मैं अपने रूह को
तुम्हारे पास छोड़ जाऊँगा।

बहुत जद्दो जहद रहती है दिल में,
अभी तो तुम मेरे पास हो।
कहीं जो तुम मुझे छोड़ जाओगे,
तो जीते जी मैं मर जाऊँगा।

jivan ke har panne par

teraa naam likh jaaungaa

raste ke har mod par

bas apnaa chhaap chhod jaaungaa।


jivan men kahin bhi rahun,

tumhaari yaad dil men basaaungaa।

mar bhi jaaun,

to bhi main apne ruh ko

tumhaare paas chhod jaaungaa।


bahut jaddo jahad rahti hai dil men,

abhi to tum mere paas ho।

kahin jo tum mujhe chhod jaaoge,

to jite ji main mar jaaungaa।




written by Sushil Kumar at kavitadilse.top
Shayari

चेहरे पर प्रभाव। chehre par prabhav

Kahani

Chehre par prabhav


हम सुबह सुबह जब उठते हैं,हमारा चेहरा बिलकुल नवजात शिशू की तरह निश्चल व निर्मल होता है,वहीं दिन के आखिरी पड़ाव पे,आपकी शक्ल बिगड़ जाती है।
      कभी सोचा है आपने,ऐसा क्यों होता है?
   इसका  सबसे बड़ा कारण है,आपकी सोच।आप अगर ज्यादा से ज्यादा समय अच्छी सोच लेकर दिन का कार्य करोगे,तो फिर आपकी शक्ल दिन भर में ज्यादा नही बदलेगी।
    वही अगर आप दिन भर छल कपट वाली सोच लेकर दिन का कार्य करोगे,तो फिर क्या आपकी शक्ल नहीं बदलेगी।बदलेगी! बिलकुल बदलेगी।
     अब आप सोचिए,हमारे जो साधू संत होते हैं,उनके चेहरे से हमेशा नूर क्यों टपकता है।क्योंकि वह सभी का अच्छा सोचते हैं।उनके दिल में किसी प्रकार का छल कपट नहीं होता है।


ham subah subah jab uthte hain,hamaaraa chehraa bilakul navjaat shishu ki tarah nishchal v nirmal hotaa hai,vahin din ke aakhiri padaav pe,aapki shakl bigad jaati hai।

      kabhi sochaa hai aapne,aisaa kyon hotaa hai?

   eskaa  sabse badaa kaaran hai,aapki soch।aap agar jyaadaa se jyaadaa samay achchhi soch lekar din kaa kaary karoge,to phir aapki shakl din bhar men jyaadaa nahi badlegi।

    vahi agar aap din bhar chhal kapat vaali soch lekar din kaa kaary karoge,to phir kyaa aapki shakl nahin badlegi।badlegi! bilakul badlegi।

     ab aap sochia,hamaare jo saadhu sant hote hain,unke chehre se hameshaa nur kyon tapaktaa hai।kyonki vah sabhi kaa achchhaa sochte hain।unke dil men kisi prkaar kaa chhal kapat nahin hotaa hai।


Written by sushil kumar

बड़े ख्वाब रखते हैं।bade khwab rakhte hain

Kahani

Bade khwab rakhte hain.


हर किसी के दिल में,कोई ना कोई जद्दो जहद चलती ही रहती है।यहाँ हर कोई अपने आप को सर्वष्रेस्ठ करने की होड़ में,कोई भी हद्द पार करने को तैयार हैं।ऐसे माहौल में अगर आप भी उस भीड़ में शामिल हो गए,फिर आप में और उनमें क्या फर्क रह जाएगा?
        सपने सभी के होते हैं,छोटे बड़े हर तरह के सपने।सपने आदमी के हैसीयत देखकर नहीं आते हैं।बल्कि सपने से ही आदमी का औकात सामने आता है।अब मान लीजिए कि मेरी सपना  बड़ा आदमी बनने का है।
         बड़े आदमी का अलग अलग दायरा है।एक तो अरबपती है,दूसरा करोड़पती है,तीसरा लखपती है।अब आपको कहाँ रखना है,यह तो आपको ही सोचना पड़ेगा।
         अब आपकी सोच बड़ी है,तो फिर आपके सपने भी बड़े होनेे चाहिए और आपका लगन भी वैसी ही होनी चाहिए।




har kisi ke dil men,koi naa koi jaddo jahad chalti hi rahti hai।yahaan har koi apne aap ko sarvashresth karne ki hod men,koi bhi hadd paar karne ko taiyaar hain।aise maahaul men agar aap bhi us bhid men shaamil ho gaye,phir aap men aur unmen kyaa phark rah jaaagaa?

        sapne sabhi ke hote hain,chhote bade har tarah ke sapne।sapne aadmi ke haisiyat dekhakar nahin aate hain।balki sapne se hi aadmi kaa aukaat saamne aataa hai।ab maan lijia ki meri sapnaa  badaa aadmi banne kaa hai।

         bade aadmi kaa alag alag daayraa hai।ek to arabapti hai,dusraa karodapti hai,tisraa lakhapti hai।ab aapko kahaan rakhnaa hai,yah to aapko hi sochnaa padegaa।

         ab aapki soch badi hai,to phir aapke sapne bhi bade honee chaahia aur aapkaa lagan bhi vaisi hi honi chaahia।

Written by sushil kumar

9 Nov 2016

मैं पागल तो नहीं?Main pagal to nahin

Kahani


Main pagal to nahin


लोग कहते हैं,मैं पागल हूँ।मैं जरा सा असमंजस में हूँ,इसलिए यह सवाल लेकर मैं आपके पास आया हूँ।अब आप ही बताएँ,क्या मैं सही में पागल हूँ?
    मैने एक आम का पौधा,अपने घर से निकालने वाले रस्ते पर किनारे में लगाया।कभी छोटे बच्चों उसे नुकसान पहुँचाते,नहीं तो कोई जानवर उसे निगलने की कोशिश करते।
    मैंने उन सभी से बचाने के लिए,आम के पेड़ को चारो तरफ से लकड़ी से घेर दिया।अब आप ही बताइए,अगर मैने उस पेड़ को अपने बच्चे जैसा  ख्याल रख रहा हूँ,तो क्या मैं पागल हूँ।अगर हम अपने पर्यावरन माता का ध्यान नहीं रखेंगा,तो कौन रखेगा?इस पर लोग मुझे ताना मारते हैं,इस पागल के पास कोई काम नहीं है।
अब आप बताईए क्या मैं पागल हूँ??
   आइए,अब मैं एक और दिन की बात बताता हूँ,मैं एक चौराहे पर अपने दोस्तों के साथ गोलगप्पे खा रहा था।तभी मैने देखा,मेरे दोस्त जो हैं,किसी चीज को देख देख कर हँस रहे थे।मैने क्या पाया कि,एक बुढ़ी औरत जो है,लगातार रोड क्रोस करने की कोशिश कर थी,पर नहीं कर पा रहा थी।इसे देख कर कुछ और लोग भी मजे ले रहे थे।मुझे यह सब देख कर गुश्शा आया,और मैं गया,और बुढ़ी माता को रोड क्रोस करवाया।और मेरे दोस्तों ने मुझे कहा-कितना पागल हो तुम,कितना मजा आ रहा था,सारा मजा कीरकीरा कर दिया।
अब आप बताईए,इसमें मैं पागल कहाँ से हो गया।कल कहीं किसी रोड पर आप की माँ या दादी ऐसा स्थिति में होगी,तो आप मजा लिजिएगा,या उनका मदद कीजिएगा?जाहिर सी बात है,मदद ही कीजिएगा ना।


  log kahte hain,main paagal hun।main jaraa saa asamanjas men hun,esalia yah savaal lekar main aapke paas aayaa hun।ab aap hi bataaan,kyaa main sahi men paagal hun?

    maine ek aam kaa paudhaa,apne ghar se nikaalne vaale raste par kinaare men lagaayaa।kabhi chhote bachchon use nuksaan pahunchaate,nahin to koi jaanavar use nigalne ki koshish karte।

    mainne un sabhi se bachaane ke lia,aam ke ped ko chaaro taraph se lakadi se gher diyaa।ab aap hi bataaea,agar maine us ped ko apne bachche jaisaa  khyaal rakh rahaa hun,to kyaa main paagal hun।agar ham apne paryaavaran maataa kaa dhyaan nahin rakhengaa,to kaun rakhegaa?es par log mujhe taanaa maarte hain,es paagal ke paas koi kaam nahin hai।

ab aap bataaia kyaa main paagal hun??

   aaea,ab main ek aur din ki baat bataataa hun,main ek chauraahe par apne doston ke saath golagappe khaa rahaa thaa।tabhi maine dekhaa,mere dost jo hain,kisi chij ko dekh dekh kar hnas rahe the।maine kyaa paayaa ki,ek budhi aurat jo hai,lagaataar rod kros karne ki koshish kar thi,par nahin kar paa rahaa thi।ese dekh kar kuchh aur log bhi maje le rahe the।mujhe yah sab dekh kar gushshaa aayaa,aur main gayaa,aur budhi maataa ko rod kros karvaayaa।aur mere doston ne mujhe kahaa-kitnaa paagal ho tum,kitnaa majaa aa rahaa thaa,saaraa majaa kirkiraa kar diyaa।

ab aap bataaia,esmen main paagal kahaan se ho gayaa।kal kahin kisi rod par aap ki maan yaa daadi aisaa sthiti men hogi,to aap majaa lijiagaa,yaa unkaa madad kijiagaa?jaahir si baat hai,madad hi kijiagaa naa

Written by sushil kumar  

6 Nov 2016

जी लो।ji lo

Shayari

जी लो।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मेरा तो हर दिन जन्मोत्सव सा होता है।
कभी माँँ बाप ,तो कभी पत्नी का साथ होता है।

हर दिन सुवह मैं रोज जन्म लेता हूँ।
कभी माँ की पुचकार,नहीं तो पक्षियों की चहचहाहट से
पुनः उठ जाता हूँ मैं।

हर दिन मैं खूब जी भर के जीने की कोशिश करता हूँँ,
किसी को मदद करने से पीछे नहीं हटता हूँ।

मेरा हरपल मेरा नहीं होता है,
कभी माँँ बाप तो,
कभी पत्नी को समय देता हूँ।

मेरे पड़ोस में भी अगर किसी को जरुरत होती है मेरी,
मैं पीछे नहीं हटता हूँ,उनकी मदद करने से।

मैं ऐसा ही हूँ,और जैसा भी हूँ
पर दिल का पूरा बच्चा हूँ।


meraa to har din janmotsav saa hotaa hai।

kabhi maann baap ,to kabhi patni kaa saath hotaa hai।


har din suvah main roj janm letaa hun।

kabhi maan ki puchkaar,nahin to pakshiyon ki chahachhaahat se

punah uth jaataa hun main।


har din main khub ji bhar ke jine ki koshish kartaa hunn,

kisi ko madad karne se pichhe nahin hattaa hun।


meraa harapal meraa nahin hotaa hai,

kabhi maann baap to,

kabhi patni ko samay detaa hun।


mere pdos men bhi agar kisi ko jarurat hoti hai meri,

main pichhe nahin hattaa hun,unki madad karne se।


main aisaa hi hun,aur jaisaa bhi hun

par dil kaa puraa bachchaa hun।




Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Shayari

5 Nov 2016

हर दिन की तरह har din ki tarah

Shayari

हर दिन की तरह,रूखा-सूखा सा है


Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आज का दिन।
दिल में तरंगे हैं बहुत,पर कुछ फीका फीका सा है
आज का दिन।
हर पल बस दिल में,किसी की याद कचोट रहा है
आज का दिन।
किसी भी काम में,उमंग नहीं है
आज का दिन।
कैसे बयान करूँ,कैसा लग रहा है मुझे
आज का दिन।
दिल में बस खलबली सी मची है
आज का दिन।
चलो ईश्वर को दिल से याद करें
आज का दिन।
वो हमसे भक्ति चाह रहा हो
आज का दिन।
aaj kaa din।

dil men tarange hain bahut,par kuchh phikaa phikaa saa hai

aaj kaa din।

har pal bas dil men,kisi ki yaad kachot rahaa hai

aaj kaa din।

kisi bhi kaam men,umang nahin hai

aaj kaa din।

kaise bayaan karun,kaisaa lag rahaa hai mujhe

aaj kaa din।

dil men bas khalabli si machi hai

aaj kaa din।

chalo ishvar ko dil se yaad karen

aaj kaa din।

vo hamse bhakti chaah rahaa ho

aaj kaa din।



written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

मैं चलता हूँ बैठता हूँ बोलता हूँ सुनता हूँ सोता हूँ जागता हूँ पर माँ तुझे कभी नहीं भूलता हूँ। कुछ यादें आती जाती रहती हैं। कुछ ब...