23 Oct 2016

जिंदगी किस लिए मिली है।zindagi kis lie mili hai.

Kahani

zindagi kis lie mili hai.


लोग यहाँ इस दुनिया में,आते हैं और चले जाते हैं।पर किसी ने यह सोचने की कोशिश भी नहीं की,कि ये जिन्दगी,हमें किस मकसद के लिए दी गई है।क्या जिंदगी हमें बस इस लिए दी गई है,कि सुवह से शाम तक अपने व अपने परिवार के पेट के  लिए कार्य कर्रें,और घर पर भी आकर बस अपने परिवार की फिक्र करें।
      धरती पर रहने वाले हर मनुष्य जब जंम लेता है,तो वह अपना किस्मत साथ लेकर आता है।तो फिर किस लिए अपने परिवार के लिए इतना फिक्र करना,कि खुद को ही भूल जाना,और अपने अस्तित्व को ही खो देना।
      मेरे कहने का मतलब यह नहीं है कि,आप सब कुछ किस्मत पर छोड़ दें।अपितु अपने व अपने परिवार के पेट के लिए कार्य करें,जरूर करें,लेकिन इतना भी ना करें,कि आप स्वयं को ही भूल जाएँ।ये ञात रखिए,कि आप आप नहीं हैं।आप अपने शरीर से पहचाने जाते हैं।लेकिन आप अपने अंदर बसे आत्मा को ही भूल गए हैं।कैसे? और क्यों?हम और आप अपने शरीर से बँधे हैं।जब ये शरीर हमारा मिट्टी में मिल जाएगा,तब हमारी आत्मा यह शरीर छोड़ कर,किसी अन्य शरीर को धारन कर लेगी।और हमारी पहचान बदल जाएगी।और साथ ही नए सम्बंध भी बन जाएंगे।और फिर से नए दायित्व और बंधनों में बंध कर ,आप स्वयं को फिर से भूल जाते हैं।
      यह शरीर नश्वर है।हमसे और आपसे जुड़े सम्बंध भी नश्वर हैं।खुद को पहचाने।और अपने हर दिन के समय के कुछ हिस्से को ईश्वर को सौंपे,क्योंकि हमारी आत्मा हमारे ईश्वर के शेष हैं।जो भी कार्य करें,ईश्वर को याद रख कर ही करें।क्योंकि हम और आप करने वाले कोई नहीं हैं।हमारे ईश्वर ही हमारे संचालक हैं।



log yahaan es duniyaa men,aate hain aur chale jaate hain।par kisi ne yah sochne ki koshish bhi nahin ki,ki ye jindgi,hamen kis makasad ke lia di gayi hai।kyaa jindgi hamen bas es lia di gayi hai,ki suvah se shaam tak apne v apne parivaar ke pet ke  lia kaary karren,aur ghar par bhi aakar bas apne parivaar ki phikr karen।

      dharti par rahne vaale har manushy jab jamm letaa hai,to vah apnaa kismat saath lekar aataa hai।to phir kis lia apne parivaar ke lia etnaa phikr karnaa,ki khud ko hi bhul jaanaa,aur apne astitv ko hi kho denaa।

      mere kahne kaa matalab yah nahin hai ki,aap sab kuchh kismat par chhod den।apitu apne v apne parivaar ke pet ke lia kaary karen,jarur karen,lekin etnaa bhi naa karen,ki aap svayan ko hi bhul jaaan।ye yaat rakhia,ki aap aap nahin hain।aap apne sharir se pahchaane jaate hain।lekin aap apne andar base aatmaa ko hi bhul gaye hain।kaise? aur kyon?ham aur aap apne sharir se bndhe hain।jab ye sharir hamaaraa mitti men mil jaaagaa,tab hamaari aatmaa yah sharir chhod kar,kisi any sharir ko dhaaran kar legi।aur hamaari pahchaan badal jaaagi।aur saath hi naye sambandh bhi ban jaaange।aur phir se naye daayitv aur bandhnon men bandh kar ,aap svayan ko phir se bhul jaate hain।

      yah sharir nashvar hai।hamse aur aapse jude sambandh bhi nashvar hain।khud ko pahchaane।aur apne har din ke samay ke kuchh hisse ko ishvar ko saumpe,kyonki hamaari aatmaa hamaare ishvar ke shesh hain।jo bhi kaary karen,ishvar ko yaad rakh kar hi karen।kyonki ham aur aap karne vaale koi nahin hain।hamaare ishvar hi hamaare sanchaalak hain।


Written by sushil kumar



No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...