20 Oct 2016

हमारा समय अनमोल है।hamara samay anmol hai.

Shayari

Hamara samay anmol hai.


काल का चक्र हर पल बदल रहा है।लोग आ रहे हैं,और अपने पूर्व जन्मों के किए गए अच्छे व बुरे कर्मों के हिसाब से,उन्हें उनका जीवन प्रदान की जाती है,व उनका भविष्य तय की जाती है।जीवन बहुत ही छोटी है।और हमें इस जीवन को ऐसा जीना चाहिए,जैसे कि अगले ही पल में,आपकी साँस थमने वाली है।हमारे कहने का मतलब है,कि हमें हर पल को खुलकर जीना चाहिए।क्या पता अगले किसी पल में,देवलोक से जीवन की धारा आना,इस मिट्टी की शरीर में बंद हो जाए।और हम मिट्टी में मिल जाऐं।
       अपने प्रियजनों के साथ,ज्यादा से ज्यादा समय व्यतीत करना चाहिए।हमेशा धन दौलत,जीवन जायदाद के लिए,हाथ पाँव नहीं मारना चाहिए।हमें अपने समय को,अपने प्रियजनों के साथ बीताकर व्यतीत करना चाहिए।और इस अनमोल समय को कभी भी,व्यर्थ की चीजों के लिए नही गँवाना चाहिए।धन दैलत,जमीन जायदाद सभी यहीं छूट जाएँगे।खाली हाथ ही आएँ थे,और खाली हाथ ही जाएँगे।यहाँ हम सभी अपने अपने कर्मों  के हिसाब से अपना जीवन ,और जीवन शैली पाते हैं।अच्छा शक्ल,बुरा शक्ल,गरीब परिवार,अमीर परिवार यह सारा कुछ आपके पूर्व जन्मों के हिसाब से तय हेता है।
      फिर आने वाले नस्लों के बारे में सोचकर,क्यों टेन्सन लेना।वो जैसा भी पूर्व जन्मों में कर्म किए होंगे,उन्हें उसके हिसाब से सारा कुछ मिल जाएगा।
       चलो अब हम अपना जिन्दगी जी ले।अपने प्रियजनों के लिए भी समय निकाल लें।कहीं ऐसा ना हो कोई अपना कल यहाँ से चला जाऐ,और हमें अपने काम से फुरसत ना हो,बस धन दौलत के पीछे भागे जा रहें हैं।और अपने प्रियजनों के जाने के बाद,फूट फूट कर अश्रु बहा रहे हैं।
       इसके विपरीत भी हो सकता है।हमारे जाने का समय कहीं समीप ना आ जाए,फिर हमारे पास हाथ मसलने के अलावा कुछ भी नहीं बचेगा।और अपने प्रियजनो से बिछुड़ने व उनको समय ना दे पाने के दुख में अश्रुओं की धारा फूट फूट कर बह पड़ेगी।  


kaal kaa chakr har pal badal rahaa hai।log aa rahe hain,aur apne purv janmon ke kia gaye achchhe v bure karmon ke hisaab se,unhen unkaa jivan prdaan ki jaati hai,v unkaa bhavishy tay ki jaati hai।jivan bahut hi chhoti hai।aur hamen es jivan ko aisaa jinaa chaahia,jaise ki agle hi pal men,aapki saans thamne vaali hai।hamaare kahne kaa matalab hai,ki hamen har pal ko khulakar jinaa chaahia।kyaa pataa agle kisi pal men,devlok se jivan ki dhaaraa aanaa,es mitti ki sharir men band ho jaaa।aur ham mitti men mil jaaain।

       apne priyajnon ke saath,jyaadaa se jyaadaa samay vytit karnaa chaahia।hameshaa dhan daulat,jivan jaaydaad ke lia,haath paanv nahin maarnaa chaahia।hamen apne samay ko,apne priyajnon ke saath bitaakar vytit karnaa chaahia।aur es anmol samay ko kabhi bhi,vyarth ki chijon ke lia nahi gnvaanaa chaahia।dhan dailat,jamin jaaydaad sabhi yahin chhut jaaange।khaali haath hi aaan the,aur khaali haath hi jaaange।yahaan ham sabhi apne apne karmon  ke hisaab se apnaa jivan ,aur jivan shaili paate hain।achchhaa shakl,buraa shakl,garib parivaar,amir parivaar yah saaraa kuchh aapke purv janmon ke hisaab se tay hetaa hai।

      phir aane vaale naslon ke baare men sochakar,kyon tensan lenaa।vo jaisaa bhi purv janmon men karm kia honge,unhen uske hisaab se saaraa kuchh mil jaaagaa।

       chlo ab ham apnaa jindgi ji le।apne priyajnon ke lia bhi samay nikaal len।kahin aisaa naa ho koi apnaa kal yahaan se chalaa jaaai,aur hamen apne kaam se phurasat naa ho,bas dhan daulat ke pichhe bhaage jaa rahen hain।aur apne priyajnon ke jaane ke baad,phut phut kar ashru bahaa rahe hain।

       eske viprit bhi ho saktaa hai।hamaare jaane kaa samay kahin samip naa aa jaaa,phir hamaare paas haath masalne ke alaavaa kuchh bhi nahin bachegaa।aur apne priyajno se bichhudne v unko samay naa de paane ke dukh men ashruon ki dhaaraa phut phut kar bah padegi। 

Written by sushil kumar
       

No comments:

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...