31 Dec 2016

Chahat

Shayari

चाहत

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हर इंसान के दिलों में,बसने की चाहत है।
दिल थम जाने के बाद भी,सभी दिलों में धड़कने की चाहत है।
इस छोटी सी दुनिया में,हर किसी के काम आने की चाहत है।
सभी की हँसी का,कारन बनने की
मन में चाहत है।
हर जगह सुख शाँति हो,किसी के दिल में  नहीं कोई निराशा हो।
ऐसे संसार की चाहत है।
अपनी आहुती देकर,दुनिया को रोशन करने की
दिल की चाहत है।




har ensaan ke dilon men,basne ki chaahat hai।

dil tham jaane ke baad bhi,sabhi dilon men dhdakne ki chaahat hai।

es chhoti si duniyaa men,har kisi ke kaam aane ki chaahat hai।

sabhi ki hnsi kaa,kaaran banne ki

man men chaahat hai।

har jagah sukh shaanti ho,kisi ke dil men  nhin koi niraashaa ho।

aise sansaar ki chaahat hai।

apni aahuti dekar,duniyaa ko roshan karne ki

dil ki chaahat hai।




Written by sushil kumar
Shayari

Kyunki hun main bahut emotional yaaron😭😭

Shayari

 क्योंकि,हूँ मैं बहुत इमोश्नल यारों।😭😭

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

नैनों से अक्ष्रुओं का रिश्ता,बहुत पूराना है यारों।

बचपन में माँ के साथ,क्योंकि सास भी कभी बहु थी का सीरीयल देखना।
और तुलसी मैया पर अत्याचार होता देख,
 आँखों से  कटोरा भर के  आँसू का निकलना।

 क्योंकि,हूँ मैं बहुत इमोश्नल यारों।😭😭

गरमी की छुट्टी,स्कूल में होना।

और दोस्तों से बिछुड़ने का गम लेकर
और यह सोचकर कि
अब मैं किसके साथ बात करुँगा,
और खेलूँगा।
अक्ष्रुओं का आँखों से निकलना।

क्योंकि,हूँ मैं बहुत इमोश्नल यारों।😭😭

बचपन में माँ और बाबू जी के साथ में
हम आपके हैं कौन देखने जाना।

प्रेम और निशा की कुरबानी को
बरदास्त  ना कर पाना।
और वहाँ भी बाल्टी भर के ,अक्ष्रुओं को बहाना।

क्योंकि,हूँ मैं बहुत इमोश्नल यारों।😭😭

और फिर कालेज में,किसी लड़की पर लट्टू हो जाना,

और फिर शातीर लड़की का मेरे करेक्टर का फायदा उठाना।

मेरे पोकेट खर्चे से,उसको आईसक्रीम और चोकलेट खिलाना।

और वेलेनटाईन डे के दिन,उसका किसी और का हो जाना।

किसी कोने में जाकर,खूब जी भर के आँसू बहाना।

फिर उसके गम को मिटाने के लिए,एक दो पेग लगाना।

क्योंकि,हूँ मैं बहुत इमोश्नल यारों।😭😭







nainon se akshruon kaa rishtaa,bahut puraanaa hai yaaron।


bachapan men maan ke saath,kyonki saas bhi kabhi bahu thi kaa siriyal dekhnaa।

aur tulsi maiyaa par atyaachaar hotaa dekh,

 aankhon se  ktoraa bhar ke  aansu kaa nikalnaa।


 kyonki,hun main bahut emoshnal yaaron।😭😭


garmi ki chhutti,skul men honaa।


aur doston se bichhudne kaa gam lekar

aur yah sochakar ki

ab main kiske saath baat karungaa,

aur khelungaa।

akshruon kaa aankhon se nikalnaa।


kyonki,hun main bahut emoshnal yaaron।😭😭


bachapan men maan aur baabu ji ke saath men

ham aapke hain kaun dekhne jaanaa।


prem aur nishaa ki kurbaani ko

bardaast  naa kar paanaa।

aur vahaan bhi baalti bhar ke ,akshruon ko bahaanaa।


kyonki,hun main bahut emoshnal yaaron।😭😭


aur phir kaalej men,kisi ldki par lattu ho jaanaa,


aur phir shaatir ldki kaa mere karektar kaa phaaydaa uthaanaa।


mere poket kharche se,usko aaisakrim aur choklet khilaanaa।


aur velentaain de ke din,uskaa kisi aur kaa ho jaanaa।


kisi kone men jaakar,khub ji bhar ke aansu bahaanaa।


phir uske gam ko mitaane ke lia,ek do peg lagaanaa।


kyonki,hun main bahut emoshnal yaaron।😭😭


Written by sushil kumar
Shayari

30 Dec 2016

Main ji raha yahan rutha rutha

Shayari

मैं जी रहा यहाँ रुठा रूठा।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मैं जी रहा यहाँ रुठा रूठा।
सारी दुनिया से टूटा टूटा।

कोई भी है नहीं यहाँ।
जो मेरे दर्द को समझा।

जिसे देखो बस वही
मेरे जख्म को खूरैदा।

बस हमारा इस्तेमाल यहाँ
सभी किए जा रहे हैं।

कोई तो हो,जो समझे मेरा गम
जहर के घूंट को पीये जा रहे हैं।

कतरा कतरा खून का बहा जा रहा है।
लोगों का दिल,फिर भी नहीं भरा है।

देख देख सभी लोग हमारा
मजा लिए जा रहे हैं।






main ji rahaa yahaan ruthaa ruthaa।

saari duniyaa se tutaa tutaa।


koi bhi hai nahin yahaan।

jo mere dard ko samjhaa।


jise dekho bas vahi

mere jakhm ko khuraidaa।


bas hamaaraa estemaal yahaan

sabhi kia jaa rahe hain।


koi to ho,jo samjhe meraa gam

jahar ke ghunt ko piye jaa rahe hain।


katraa katraa khun kaa bahaa jaa rahaa hai।

logon kaa dil,phir bhi nahin bharaa hai।


dekh dekh sabhi log hamaaraa

majaa lia jaa rahe hain।


Written by sushil kumar
Shayari






27 Dec 2016

Anjani ladki

Shayari

अनजानी लड़की।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आज सुबह,जब मैने तुमको बस स्टोप पर देखा था।
दिल में बस गया तुम्हारा चेहरा,कितना सुन्दर सलौना था।
तुम्हारी हँसी,और तुम्हारा चहचहाना,
और तुम्हारा मुस्कुराना,
कितनी मधुर थी,वह ध्वनी।
ऐसा लग रहा था,मानो जैसे कहीं बज रही हो बाँसुरी।
हर अदा पर तुम्हारे, मैं था फिदा।
मानो तुम हो जैसे मेरी धड़कन,और
मैं तुम्हारे बिना हूँ एक कटी पतंग।








aaj subah,jab maine tumko bas stop par dekhaa thaa।

dil men bas gayaa tumhaaraa chehraa,kitnaa sundar salaunaa thaa।

tumhaari hnsi,aur tumhaaraa chahachhaanaa,

aur tumhaaraa muskuraanaa,

kitni madhur thi,vah dhvni।

aisaa lag rahaa thaa,maano jaise kahin baj rahi ho baansuri।

har adaa par tumhaare, main thaa phidaa।

maano tum ho jaise meri dhdakan,aur

main tumhaare binaa hun ek kati patang।





Written by sushil kumar
Shayari

25 Dec 2016

Ye jindagi kis kaam ki

Shayari

ये जिन्दगी किस काम की।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।



ये जिन्दगी किस काम की,जो किसी के काम ना आ सकी।
बस अपने अहम के चादर में,अपनो को बेगाना कर गई।
जिस माँ बाप ने ,तुम्हारे जिद्ध के कारन कभी तुम्हें खिलौना दिला दिया था,बचपन में।
आज वही माँ बाप तुम्हारे जिद्ध के कारन  जाने को तैयार हैं वृद्धा आक्ष्रम।
जिस माँ बाप ने तुम्हारे आँखो से कभी आँसू बहने नहीं दिया था।
उसी माँ बाप को ,आज तुम रूलाए जा रहे हो।
जाग जाओ आज तुम,वरना कल के लिए हो जाओ तैयार।
जब तुम्हारे बच्चे,तुम्हारे संस्कार पर चलकर , छोड़ आएँगे तुम्हें वृद्धा आक्ष्रम।

ये जिन्दगी किस काम की,जो किसी के काम ना आ सकी।
यहाँ हर कोई बस अपने स्वार्थ के चादर में अपना फायदा देखे जा  रहे हैं।
दुनिया जाए भाड़ में,बस अपना पोकेट भरे जा रहे हैं।
बस हर कोई अपने पद के हिसाब से पैसे लिए जा रहे हैं।
काला धन को लोग सभी,यहाँ सफेद किए जा रहे हैं।
गैर जिम्मेदाराना धंग से,पद का दुरूपयोग किए जा रहे हैं।
क्या हमारी संस्कार हमारे बच्चों तक ही सीमित रह गई है।
क्या ऐसे कर के,हम अपने देश को खोखला नहीं कर रहे हैं।क्यों अपने स्वार्थ के लिए हमें  गुलामी के अँधेरे में धकेल रहे हैं।
जिन्दगी किस काम की,जो किसी के काम ना आ सकी।





ye jindgi kis kaam ki,jo kisi ke kaam naa aa saki।

bas apne aham ke chaadar men,apno ko begaanaa kar gayi।

jis maan baap ne ,tumhaare jiddh ke kaaran kabhi tumhen khilaunaa dilaa diyaa thaa,bachapan men।

aaj vahi maan baap tumhaare jiddh ke kaaran  jaane ko taiyaar hain vriaddhaa aakshram।

jis maan baap ne tumhaare aankho se kabhi aansu bahne nahin diyaa thaa।

usi maan baap ko ,aaj tum rulaaa jaa rahe ho।

jaag jaao aaj tum,varnaa kal ke lia ho jaao taiyaar।

jab tumhaare bachche,tumhaare sanskaar par chalakar , chhod aaange tumhen vriaddhaa aakshram।


ye jindgi kis kaam ki,jo kisi ke kaam naa aa saki।

yahaan har koi bas apne svaarth ke chaadar men apnaa phaaydaa dekhe jaa  rhe hain।

duniyaa jaaa bhaad men,bas apnaa poket bhare jaa rahe hain।

bas har koi apne pad ke hisaab se paise lia jaa rahe hain।

kaalaa dhan ko log sabhi,yahaan saphed kia jaa rahe hain।

gair jimmedaaraanaa dhang se,pad kaa durupyog kia jaa rahe hain।

kyaa hamaari sanskaar hamaare bachchon tak hi simit rah gayi hai।

kyaa aise kar ke,ham apne desh ko khokhlaa nahin kar rahe hain।kyon apne svaarth ke lia hamen  gulaami ke andhere men dhakel rahe hain।

jindgi kis kaam ki,jo kisi ke kaam naa aa saki।


Written by sushil kumar
Shayari

24 Dec 2016

Choptanand

Shayari

चोपटानंद

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


हमारी जिन्दगी चोपटानंद हो गई है।
सच बतादूँ मेरे भाई।
हर कोई आकर खरी खोटी सुनाकर,
और ज़रा चुस्की लेकर निकल जाता है।
बाहर वाले तो मजा ले ही रहे हैं
घरवाले भी नहीं चुक रहे हैं
चुस्की लेने से हमारी।
हमारी जिन्दगी चोपटानंद हो गई है।
सच बतादूँ मेरे भाई।
अब कल की ही बात देखो,
जब रात्री में साढ़े नो बजे घर पहुँचा था मेरे भाई।
और प्यारी सी बीवी ने,तभी मजा ले ली हमारी।
बैंक में ही घर बना लिजिए ना!बैंक से घर आते ही क्यों हैं।
इन तीखे बाणों से,दिल के टुकड़े टुकड़े हो गए मेरे भाई।
सच कहता हूँ दोस्तों,मुझे लगा,मैं अगले ही पल में रो दूँ।
बैंक में इतना तनाव है,और वो कहती हैः
बैंक में ही घर बना लूँ।
फिर दिल को संभाला,और उनसे प्यार से पूछ डालाः
डार्लिंग,तुम भी चलोगी ना!साथ में रहने को।
हमारी जिन्दगी चोपटानंद हो गई है।
सच बतादूँ मेरे भाई।
बैंक में कस्टमर भी बस मौके की तलाश में रहते हैं भाई।
कहते हैं,नोटबंदी का सबसे ज्यादा फायदा हुआ है आप सभी बैंक वालो को।
नोट के लिए लाईन में खड़े होने का कष्ट तो नहीं हुआ।
मेरा मन भी एक पल में छनछना सा गया।
और मुँह से निकल पड़ा,भाई साहब आप इधर आओ और बैंक को संभालो।
और मैं  जाकर लाईन में लग जाता हूँ आपके लिए।
कस्टमर भी सकपका सा गया,कहने लगाः
साहब,हम तो आपसे मजाक कर रहे थे।
नोटबंदी की मार देखा जाए तो,
सबसे ज्यादा आप लोग ही झेल रहे हैं।
सारी भीड़ को नियंत्रित करके,
सभी का पेट जो भर रहे हैं।
हमारी जिन्दगी चोपटानंद हो गई है।
सच बतादूँ मेरे भाई।




hamaari jindgi choptaanand ho gayi hai।

sach bataadun mere bhaai।

har koi aakar khari khoti sunaakar,

aur jraa chuski lekar nikal jaataa hai।

baahar vaale to majaa le hi rahe hain

gharvaale bhi nahin chuk rahe hain

chuski lene se hamaari।

hamaari jindgi choptaanand ho gayi hai।

sach bataadun mere bhaai।

ab kal ki hi baat dekho,

jab raatri men saadhe no baje ghar pahunchaa thaa mere bhaai।

aur pyaari si bivi ne,tabhi majaa le li hamaari।

baink men hi ghar banaa lijia naa!baink se ghar aate hi kyon hain।

en tikhe baanon se,dil ke tukde tukde ho gaye mere bhaai।

sach kahtaa hun doston,mujhe lagaa,main agle hi pal men ro dun।

baink men etnaa tanaav hai,aur vo kahti haiah

baink men hi ghar banaa lun।

phir dil ko sambhaalaa,aur unse pyaar se puchh daalaaah

daarling,tum bhi chalogi naa!saath men rahne ko।

hamaari jindgi choptaanand ho gayi hai।

sach bataadun mere bhaai।

baink men kastamar bhi bas mauke ki talaash men rahte hain bhaai।

kahte hain,notabandi kaa sabse jyaadaa phaaydaa huaa hai aap sabhi baink vaalo ko।

not ke lia laain men khde hone kaa kasht to nahin huaa।

meraa man bhi ek pal men chhanachhnaa saa gayaa।

aur munh se nikal pdaa,bhaai saahab aap edhar aao aur baink ko sambhaalo।

aur main  jaakar laain men lag jaataa hun aapke lia।

kastamar bhi sakapkaa saa gayaa,kahne lagaaah

saahab,ham to aapse majaak kar rahe the।

notabandi ki maar dekhaa jaaa to,

sabse jyaadaa aap log hi jhel rahe hain।

saari bhid ko niyantrit karke,

sabhi kaa pet jo bhar rahe hain।

hamaari jindgi choptaanand ho gayi hai।

sach bataadun mere bhaai।



Written by sushil kumar
Shayari

21 Dec 2016

Soch kya hai?

Shayari

Soch kya hai


हम किसी भी अवस्था में रहें,कितनी भी तकलीफ या खुशी के अवस्था में रहें, सोए या जागे रह़ें,एक चीज़ है जो हमारे अंदर कभी भी सोती ही नहीं है।वह है हमारी सोच।जो जागे अवस्था में,नहीं तो स्वप्न अवस्था में,हमेशा चलती ही रहती है।
      अब आपकी सोच कैसी है,सकारात्मक है,या नकारात्मक।ये पता चलता है,आपके पूर्व जन्मों के किए गए कर्मों से।
       अगर कोई पूर्व जन्मों में खूब बहादूरी के साथ जीवन को अपने व्यतीत किया है।और सदा सारे लोगों का भला देखते हुए,उन्हें साथ में लेकर चला है,फिर तो वह इस जन्म में भी निडर और निर्भिक रहेगा।और सदा सबको साथ लेकर चलने वालो में से होगा।
        हर कर्म का प्रभाव आपके आत्मा पर पड़ता है।और आत्मा हर कर्म को प्रत्यक्क्ष होकर देखती है,जिससे उसे लगता है,कि वह काम वही कर रही है।इसी से उसके सकारात्मक या नकारात्मक सोच बनते हैं।
       इसलिए बोलते हैं,कर्म अच्छे किए जाओ,फल की चिन्ता मत करो।क्योंकि अच्छे कर्म करने से ही,तुम्हारी सोच अच्छी रहेगी और सकारात्मक रहेगी।





ham kisi bhi avasthaa men rahen,kitni bhi takliph yaa khushi ke avasthaa men rahen, soa yaa jaage rahen,ek chij hai jo hamaare andar kabhi bhi soti hi nahin hai।vah hai hamaari soch।jo jaage avasthaa men,nahin to svapn avasthaa men,hameshaa chalti hi rahti hai।

      ab aapki soch kaisi hai,sakaaraatmak hai,yaa nakaaraatmak।ye pataa chaltaa hai,aapke purv janmon ke kia gaye karmon se।

       agar koi purv janmon men khub bahaaduri ke saath jivan ko apne vytit kiyaa hai।aur sadaa saare logon kaa bhalaa dekhte hua,unhen saath men lekar chalaa hai,phir to vah es janm men bhi nidar aur nirbhik rahegaa।aur sadaa sabko saath lekar chalne vaalo men se hogaa।

        har karm kaa prbhaav aapke aatmaa par pdtaa hai।aur aatmaa har karm ko pratyakksh hokar dekhti hai,jisse use lagtaa hai,ki vah kaam vahi kar rahi hai।esi se uske sakaaraatmak yaa nakaaraatmak soch bante hain।

       esalia bolte hain,karm achchhe kia jaao,phal ki chintaa mat karo।kyonki achchhe karm karne se hi,tumhaari soch achchhi rahegi aur sakaaraatmak rahegi।


20 Dec 2016

Dil to bachcha hai ji

शायरी

दिल तो बच्चा है जी।

kavitadilse.top द्वारा आप अभी पाठकों को समर्पित है।

बहुत दिनो से,मैं यहाँ अजीब सी तनाव में जी रहा था।

कभी हंस रहा था,तो कभी रो रहा था।

मन अंदर ही अंदर कचोट रहा था।

तभी एक बचपन का दोस्त मिला।

और दिल चला गया,बचपन  में।

वह तनाव और अजीब सी बेचैनी,जाने कहाँ चली गई यारों।

बस उन थोड़े से लम्हों में.
जी लिए हम अपने बचपन को।

अब मेरे इस तनाव से बचने का,
एक जबरदस्त फोरमूला सामने आया।

दिल को बच्चा बनाकर,फिर थोड़ा फूसलाकर।
जी लो तनाव के पल सारा।

अब जब कभी ये तनाव भरा पल
हमारे सामने ज्यों आते।

ओल इज़ वेल,ओल इज़ वेल,
कहकर दिल को अपने,बहलाते।



bahut dino se,main yahaan ajib si tanaav men ji rahaa thaa।


kabhi hans rahaa thaa,to kabhi ro rahaa thaa।


man andar hi andar kachot rahaa thaa।


tabhi ek bachapan kaa dost milaa।


aur dil chalaa gayaa,bachapan  men।


vah tanaav aur ajib si bechaini,jaane kahaan chali gayi yaaron।


bas un thode se lamhon men.

ji lia ham apne bachapan ko।


ab mere es tanaav se bachne kaa,

ek jabaradast phormulaa saamne aayaa।


dil ko bachchaa banaakar,phir thodaa phuslaakar।

ji lo tanaav ke pal saaraa।


ab jab kabhi ye tanaav bharaa pal

hamaare saamne jyon aate।


All is well,all is well,

kahakar dil ko apne,bahlaate।


Written by sushil kumar
Shayari

19 Dec 2016

Hamare Narendra Modi ji ki baat hi nirali hai

Shayari

हमारे नरेन्द्र मोदी जी की बात ही निराली है।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हमारे नरेन्द्र मोदी जी की बात ही निराली है।
छप्पन इंच का चौड़ा सीना,और शेर सा हुंकार है।
उनकी एक आवाज पर,सारा आवाम तैयार है।
कोई भी परिस्थिति हो,उनके हर कदम पर साथ है।

हमारे नरेन्द्र मोदी जी की बात ही निराली है।
बात नोटबंदी की हो,या हमारे बोर्डर पर तनाव की।
कहीं भी हमारे प्रधानमंत्री हार नहीं मानते।
और मुश्किल से मुश्किल घड़ी में,रास्ता निकालना जानते हैं।
और ईंट का जवाब पत्थर से देना,भली भाँति जानते हैं।

हमारे नरेन्द्र मोदी जी की बात ही निराली है।
उनकी मात्रभूमि के लिए जज्बा,और जनता के लिए समर्पन।
यही दो गुण हैं उनके,जिससे चहिते हो जाते हैं वह सबके।
इनकी सादगी,इनकी कर्मठता के हम सभी कायल हैं।
हम नवयुवकों के लिए,वह जीता जागता प्रेरणास्रोत हैं।





hamaare narendr modi ji ki baat hi niraali hai।

chhappan ench kaa chaudaa sinaa,aur sher saa hunkaar hai।

unki ek aavaaj par,saaraa aavaam taiyaar hai।

koi bhi paristhiti ho,unke har kadam par saath hai।


hamaare narendr modi ji ki baat hi niraali hai।

baat notabandi ki ho,yaa hamaare bordar par tanaav ki।

kahin bhi hamaare prdhaanamantri haar nahin maante।

aur mushkil se mushkil ghdi men,raastaa nikaalnaa jaante hain।

aur int kaa javaab patthar se denaa,bhali bhaanti jaante hain।


hamaare narendr modi ji ki baat hi niraali hai।

unki maatrbhumi ke lia jajbaa,aur jantaa ke lia samarpan।

yahi do gun hain unke,jisse chahite ho jaate hain vah sabke।

enki saadgi,enki karmathtaa ke ham sabhi kaayal hain।

ham navayuvkon ke lia,vah jitaa jaagtaa prernaasrot hain।


Written by sushil kumar
Shayari

17 Dec 2016

Pappu bana diya

Shayari

पप्पू बना दिया।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

हम सभी प्यासे के प्यासे ही रह गए।
मंजिल की तलाश में,हम सभी आगे बढ़ चले।
मंजिल तो नहीं मिली,जो कि किस्मत ने दगा दी हमें।
साला फिर से हमे हमारे किस्मत ने पप्पू बना दिया।
हाथों में वाईलिन की जगह,झुनझुन्ना थमा दिया।

हम सभी प्यासे के प्यासे ही रह गए।
कलक्टर बनने की शौक ने,हाथों में किताबों को पकड़ा दिया।
डिग्रियों की फौज को,हमने घर पर सजा दिया।
साला फिर से हमें हमारी किस्मत ने पप्पू बना दिया।
कलक्टर तो नहीं,लेकिन चपरासी बना दिया।

हम सभी प्यासे के प्यासे ही रह गए।
चपरासी की नौकरी ने,चलो शादी करवा दिया।
ऊमर भी ढल रही थी,चलो जीवन संगीनी से मिलवा दिया।
साला फिर से हमें हमारी किस्मत ने पप्पू बना दिया।
खोजते थे माधुरी दिक्षीत,कहाँ टुन टुन से मिलवा दिया।






ham sabhi pyaase ke pyaase hi rah gaye।

manjil ki talaash men,ham sabhi aage bdh chale।

manjil to nahin mili,jo ki kismat ne dagaa di hamen।

saalaa phir se hame hamaare kismat ne pappu banaa diyaa।

haathon men vaailin ki jagah,jhunajhunnaa thamaa diyaa।


ham sabhi pyaase ke pyaase hi rah gaye।

kalaktar banne ki shauk ne,haathon men kitaabon ko pakdaa diyaa।

digriyon ki phauj ko,hamne ghar par sajaa diyaa।

saalaa phir se hamen hamaari kismat ne pappu banaa diyaa।

kalaktar to nahin,lekin chapraasi banaa diyaa।


ham sabhi pyaase ke pyaase hi rah gaye।

chapraasi ki naukri ne,chalo shaadi karvaa diyaa।

umar bhi dhal rahi thi,chalo jivan sangini se milvaa diyaa।

saalaa phir se hamen hamaari kismat ne pappu banaa diyaa।

khojte the maadhuri dikshit,kahaan tun tun se milvaa diyaa।




Written by sushil kumar
Shayari


15 Dec 2016

Jiwan

Shayari

जीवन

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

जीवन की तलाश में,फिर से निकल पड़ा हूँ मैं।

अपनी मंजिल की खोज में,इधर से उधर भटक रहा हूँ मैं।

जिन्दगी भी कैसे हमें,भौसागर में फँसाती है यूँ।

कभी हम जिन्दगी पर सवार होते हैं,तो कभी जिन्दगी हम पर सवार हो जाती है।

यह कैसी उलट फेर,जिन्दगी  दिखाती है हमें।

कभी खुशी तो कभी गम से भेंट करवाती है हमें।

कभी खुशियों के मंजर से,गुफ्तगू करवाती है हमें।

तो कभी गम की  भावना से,हृदय में भी ठेस लग जाता है हमें।

खुशी और गम जीवन के दो पहलू हैं।

जिन्दगी जीने के इस रहस्य को आप समझ लें।




jivan ki talaash men,phir se nikal pdaa hun main।


apni manjil ki khoj men,edhar se udhar bhatak rahaa hun main।


jindgi bhi kaise hamen,bhausaagar men phnsaati hai yun।


kabhi ham jindgi par savaar hote hain,to kabhi jindgi ham par savaar ho jaati hai।


yah kaisi ulat pher,jindgi  dikhaati hai hamen।


kabhi khushi to kabhi gam se bhent karvaati hai hamen।


kabhi khushiyon ke manjar se,guphtgu karvaati hai hamen।


to kabhi gam ki  bhaavnaa se,hriaday men bhi thes lag jaataa hai hamen।


khushi aur gam jivan ke do pahlu hain।


jindgi jine ke es rahasy ko aap samajh len।


Written by sushil kumar
Shayari

14 Dec 2016

Tanaav

Shayari

तनाव

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आज के तनाव में,
             जिन्दगी के इस पड़ाव पर।
हमारी उम्र कितनी बची है,
              ये तो वक्त ही बताएगा।
हर जिन्दगी तनाव में है,
                बस यही ख्याल में है।
कब मिलेंगे वह पल खुशियों के,
                 जब तनाव मुक्त होकर जी पाएँगे हम।
हमारी खुशियों पर भी नज़र लग गई है।
                  दुख और तनाव के चन्द्रग्रहन लग गए हैं।
कितनी आशाँति है मन में ,
                  दिल भी आज बेचैन सा है।
कैसे तनाव हटाएँ मन की,
                   दुविधा कैसे दूर करें इस दिल की।
कैसे खत्म करे यह कश्मकस,
                  तनाव को खत्म करें या तनाव करे खत्म हमें।
               
               





aaj ke tanaav men,

             jindgi ke es pdaav par।

hamaari umr kitni bachi hai,

              ye to vakt hi bataaagaa।

har jindgi tanaav men hai,

                bas yahi khyaal men hai।

kab milenge vah pal khushiyon ke,

                 jab tanaav mukt hokar ji paaange ham।

hamaari khushiyon par bhi njar lag gayi hai।

                  dukh aur tanaav ke chandragrahan lag gaye hain।

kitni aashaanti hai man men ,

                  dil bhi aaj bechain saa hai।

kaise tanaav hataaan man ki,

                   duvidhaa kaise dur karen es dil ki।

kaise khatm kare yah kashmakas,

                  tanaav ko khatm karen yaa tanaav kare khatm hamen।

             


written by sushil kumar

Shayari

13 Dec 2016

Badlaav

Shayari

बदलाव

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

आज हर किसी को बदलाव चाहिए।
जीवन में कुछ खास चाहिए।
किसी को समाज में बदलाव चाहिए।
तो किसी को देश में।
पर आप कितने खास हैं,अपने ही लोगों के लिए।
जो आपके साथ में रहते हैं,आपके हित के लिए।
क्या आप उत्तम हैं,अपने लोगों के लिए।
अगर नहीं,तो उत्तम बने अपनो के लिए।
फिर आपको कोई नही थाम पाएगा।
दुनिया में बदलाव लाने के लिए।





aaj har kisi ko badlaav chaahia।

jivan men kuchh khaas chaahia।

kisi ko samaaj men badlaav chaahia।

to kisi ko desh men।

par aap kitne khaas hain,apne hi logon ke lia।

jo aapke saath men rahte hain,aapke hit ke lia।

kyaa aap uttam hain,apne logon ke lia।

agar nahin,to uttam bane apno ke lia।

phir aapko koi nahi thaam paaagaa।

duniyaa men badlaav laane ke lia।



Written by sushil kumar
Shayari


8 Dec 2016

क्या हम सही में पुरूषों कहलाने लायक हैं?

Shayari

क्या हम सही में पुरूषों कहलाने लायक हैं?

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आज फिर से,हमने एक माँ,बहन,बिटीया गँवाई है।
पृथ्वी लोक से एक और ममता ने,हमसे अलविदा लिया है।
हम सभी पुरूषों ने क्या,यही संस्कार पाई है।
क्या हमसभी सही में,पुरूष कहलाने लायक हैं।
घर के बाहर की स्त्रियों पर,हमने नजर गड़ाई है।
अपने घर के स्त्रियों पर भी,अत्याचार ढाई है।
हम सभी पुरूषों ने क्या,यही संस्कार पाई है।
क्या हमसभी सही में,पुरूष कहलाने लायक हैं
आज कल के पुरूषों की सोच में,वासना समाई है।
जहाँ भी देखा स्त्रियों को,बस सम्भोग की इच्छा आई है।
हम सभी पुरूषों ने क्या,यही संस्कार पाई है।
क्या हमसभी सही में,पुरूष कहलाने लायक हैं।

सभी माँ बहन और बिटीया को,बराबर का सम्मान मिले।
हम पुरूष तभी हैं,जब तक कि हम सभी स्त्रियों को उनका हक दें।किसी भी स्त्री के साथ गलत होने ना दे।
Written by sushil kumar
Shayari

6 Dec 2016

बिटीया

Shayari

बिटिया

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

आज मैने पहली बार,
                   जब बिटीया को देखा
ऐसा लगा,
                मानो जैसे मैने खुद को है देखा।
ईश्वरीय छवि व मनमोहक हँसी देखकर
                       ऐसा लगा,मानो जैसे लक्छमी से भेंटा।      
इतना प्यारा अनुभव,
                  और ऐसी मन में शाँति
मानो इस जन्म में हमने
                   सारा जग है जीता
खुशी का तो कुछ ठिकाना नहीं है।
                   बह रही है आँखो से अश्रुओं की धारा।
आज मैने पहली बार,
                   जब बिटीया को देखा

                                                   

Written by sushil kumar
Shayari
               

4 Dec 2016

यह मैने क्या कर डाला?

शायरी

यह मैने क्या कर डाला?


Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Shayari,hindi shayari



यह मैने क्या कर डाला?
                      अपने आप को ही मार डाला।
ऊफ़ ऐसा क्यों किया मैने?
                      अपने परिवार के बारे में सोचा तक नहीं।

यह मैने क्या कर डाला?
                       अपने आप को ही मार डाला।

बचपन में जिस माँ बाप ने,
                        गोद में घूमाया था मुझे।
मेरे रोने धोने पर,जब मेरे पिता ने
                         प्यार कर के चुप करवाया था मुझे।
आज बूढ़ापे में जब उनके
                        सहारा बनने का समय आया था।
उनके कँधे पर निकलवा लिया अपनी अर्थी।
                         और उन्हें जीते जी मार डाला।
Shayari,hindi shayari

यह मैने क्या कर डाला?
                           अपने आप को ही मार डाला।

बचपन में जब भी कोई तकलीफ़ होता थी मुझे।
             माँ बाबूजी के साये में जाकर,मुझे मिलती थी शुकुन।
आज जब उनके घाव में मरहम लगाने की आई थी बारी।
                     उनके घाव को खुरेद कर और हरा कर डाला।

यह मैने क्या कर डाला?
                               अपने आप को ही मार डाला।

आज मेरे पत्नी और बच्चे अकेले पड़ गए हैं।
                उनके आँखो से अश्रुओं की धारा रुक नहीं रही है।
सात जन्मों तक साथ निभाने का किया था जिससे वादा।
                         एक जन्म भी उनका साथ निभा ना पाया।
Shayari,hindi shayari

यह मैने क्या कर डाला?
                             अपने आप को ही मार डाला।

आज मुझे अपनी करनी पर हो रहा है पछतावा।
          रह रह कर वह मनहूस दिन घूम रहा है मेरे समक्ष।
हर किसी ने मानो,मेरे गलतीयों का चिट्ठा खोल के रखा था।
घर पर बीवी,तो ऑफिस में बॉस और स्टाफ मिल कर ताना मार रहा था।
फिर मुझे यह तनाव ज्यादा झेला ना जा सका।
                      फांसी पर लटक कर,सारा खेल खत्म किया।

यह मैने क्या कर डाला?
                          अपने आप को ही मार डाला।

यह जीवन बहुत अनमोल है,दोस्तों।इसे यूँही ना गँवाओ।
हर परिस्थिति का सामना डट के करने का मन में ठानो।
दुख सुख,मान अपमान यह सब जीवन के दो पहलु हैं।
इन्हें अपना कर,जीवन निर्वाह करना सीख लो।

written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

24 Nov 2016

आँखो ही आँखो में इशारा मिल गया

Shayari

आँखो ही आँखो में इशारा मिल गया

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आँखो ही आँखो में इशारा मिल गया।
जिंदगी जीने का सहारा मिल गया।।

अभी तक कोई एक अफसाना ढुँड रहे थे यहाँ।
वही दिल को,उसका आशियाना मिल गया।।

उनका शर्माना दिल में बस सा गया।
ना जाने फिर से मुझे जीने की एक  आशा दिख गया।।

हे ईश्वर मेरे अश्रुओं ने,तुम्हारा दिल को भी पिघला दिया।
मरते हुए मानव को,तुमने जीना सीखा दिया।।
Hindi kavita, hindi shayari


written by Sushil Kumar at kavitadilse.top
Shayari

21 Nov 2016

जीवन के हर पन्ने पर

Shayari

जीवन के हर पन्ने पर

जीवन के हर पन्ने पर
तेरा नाम लिख जाऊँगा
रस्ते के हर मोड़ पर
बस अपना छाप छोड़ जाऊँगा।

जीवन में कहीं भी रहूँ,
तुम्हारी याद दिल में बसाऊँगा।
मर भी जाऊँ,
तो भी मैं अपने रूह को
तुम्हारे पास छोड़ जाऊँगा।

बहुत जद्दो जहद रहती है दिल में,
अभी तो तुम मेरे पास हो।
कहीं जो तुम मुझे छोड़ जाओगे,
तो जीते जी मैं मर जाऊँगा।


written by Sushil Kumar at kavitadilse.top
Shayari

चेहरे पर प्रभाव।

हम सुवह सुवह जब उठते हैं,हमारा चेहरा बिलकुल नवजात शिशू की तरह निश्चल व निर्मल होता है,वहीं दिन के आखिरी पड़ाव पे,आपकी शक्ल बिगड़ जाती है।
      कभी सोचा है आपने,ऐसा क्यों होता है?
   इसका  सबसे बड़ा कारण है,आपकी सोच।आप अगर ज्यादा से ज्यादा समय अच्छी सोच लेकर दिन का कार्य करोगे,तो फिर आपकी शक्ल दिन भर में ज्यादा नही बदलेगी।
    वही अगर आप दिन भर छल कपट वाली सोच लेकर दिन का कार्य करोगे,तो फिर क्या आपकी शक्ल नहीं बदलेगी।बदलेगी! बिलकुल बदलेगी।
     अब आप सोचिए,हमारे जो साधू संत होते हैं,उनके चेहरे से हमेशा नूर क्यों टपकता है।क्योंकि वह सभी का अच्छा सोचते हैं।उनके दिल में किसी प्रकार का छल कपट नहीं होता है।

बड़े ख्वाब रखते हैं।

हर किसी के दिल में,कोई ना कोई जद्दो जहद चलती ही रहती है।यहाँ हर कोई अपने आप को सर्वष्रेस्ठ करने की होड़ में,कोई भी हद्द पार करने को तैयार हैं।ऐसे माहौल में अगर आप भी उस भीड़ में शामिल हो गए,फिर आप में और उनमें क्या फर्क रह जाएगा?
        सपने सभी के होते हैं,छोटे बड़े हर तरह के सपने।सपने आदमी के हैसीयत देखकर नहीं आते हैं।बल्कि सपने से ही आदमी का औकात सामने आता है।अब मान लीजिए कि मेरी सपना  बड़ा आदमी बनने का है।
         बड़े आदमी का अलग अलग दायरा है।एक तो अरबपती है,दूसरा करोड़पती है,तीसरा लखपती है।अब आपको कहाँ रखना है,यह तो आपको ही सोचना पड़ेगा।
         अब आपकी सोच बड़ी है,तो फिर आपके सपने भी बड़े होनेे चाहिए और आपका लगन भी वैसी ही होनी चाहिए।

9 Nov 2016

मैं पागल तो नहीं?

लोग कहते हैं,मैं पागल हूँ।मैं जरा सा असमंजस में हूँ,इसलिए यह सवाल लेकर मैं आपके पास आया हूँ।अब आप ही बताएँ,क्या मैं सही में पागल हूँ?
    मैने एक आम का पौधा,अपने घर से निकालने वाले रस्ते पर किनारे में लगाया।कभी छोटे बच्चों उसे नुकसान पहुँचाते,नहीं तो कोई जानवर उसे निगलने की कोशिश करते।
    मैंने उन सभी से बचाने के लिए,आम के पेड़ को चारो तरफ से लकड़ी से घेर दिया।अब आप ही बताइए,अगर मैने उस पेड़ को अपने बच्चे जैसा  ख्याल रख रहा हूँ,तो क्या मैं पागल हूँ।अगर हम अपने पर्यावरन माता का ध्यान नहीं रखेंगा,तो कौन रखेगा?इस पर लोग मुझे ताना मारते हैं,इस पागल के पास कोई काम नहीं है।
अब आप बताईए क्या मैं पागल हूँ??
   आइए,अब मैं एक और दिन की बात बताता हूँ,मैं एक चौराहे पर अपने दोस्तों के साथ गोलगप्पे खा रहा था।तभी मैने देखा,मेरे दोस्त जो हैं,किसी चीज को देख देख कर हँस रहे थे।मैने क्या पाया कि,एक बुढ़ी औरत जो है,लगातार रोड क्रोस करने की कोशिश कर थी,पर नहीं कर पा रहा थी।इसे देख कर कुछ और लोग भी मजे ले रहे थे।मुझे यह सब देख कर गुश्शा आया,और मैं गया,और बुढ़ी माता को रोड क्रोस करवाया।और मेरे दोस्तों ने मुझे कहा-कितना पागल हो तुम,कितना मजा आ रहा था,सारा मजा कीरकीरा कर दिया।
अब आप बताईए,इसमें मैं पागल कहाँ से हो गया।कल कहीं किसी रोड पर आप की माँ या दादी ऐसा स्थिति में होगी,तो आप मजा लिजिएगा,या उनका मदद कीजिएगा?जाहिर सी बात है,मदद ही कीजिएगा ना।
     

6 Nov 2016

जी लो।

Shayari

जी लो।

kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।

मेरा तो हर दिन जन्मोत्सव सा होता है।
कभी माँँ बाप ,तो कभी पत्नी का साथ होता है।

हर दिन सुवह मैं रोज जन्म लेता हूँ।
कभी माँ की पुचकार,नहीं तो पक्षियों की चहचहाहट से
पुनः उठ जाता हूँ मैं।

हर दिन मैं खूब जी भर के जीने की कोशिश करता हूँँ,
किसी को मदद करने से पीछे नहीं हटता हूँ।

मेरा हरपल मेरा नहीं होता है,
कभी माँँ बाप तो,
कभी पत्नी को समय देता हूँ।

मेरे पड़ोस में भी अगर किसी को जरुरत होती है मेरी,
मैं पीछे नहीं हटता हूँ,उनकी मदद करने से।

मैं ऐसा ही हूँ,और जैसा भी हूँ
पर दिल का पूरा बच्चा हूँ।

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


Shayari

5 Nov 2016

हर दिन की तरह

Shayari

हर दिन की तरह,रूखा-सूखा सा है


Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


आज का दिन।
दिल में तरंगे हैं बहुत,पर कुछ फीका फीका सा है
आज का दिन।
हर पल बस दिल में,किसी की याद कचोट रहा है
आज का दिन।
किसी भी काम में,उमंग नहीं है
आज का दिन।
कैसे बयान करूँ,कैसा लग रहा है मुझे
आज का दिन।
दिल में बस खलबली सी मची है
आज का दिन।
चलो ईश्वर को दिल से याद करें
आज का दिन।
वो हमसे भक्ति चाह रहा हो
आज का दिन।

written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

31 Oct 2016

दिल के हर धड़कन पर

Shayari

दिल के हर धड़कन पर,

Kavitadilse.top द्वारा आप सभी पाठकों को समर्पित है।


दिल के हर धड़कन पर,
तुम्हारा नाम लिखा है।
रस्ते के हर मोड़ पर ,
बस तुम्हारा नाम छपा है।
Love shayari

जहाँ भी देखा
जिधर भी गया।
बस तुम्हारी छवि पाई है।

हमारी हर दुआ में,
बस तुम्हारा खैरीयत आई है।


बस तुम्हारे यादों के सहारे,
तन्हाई के पल काटी है।

सच कहता हूँ
तुम्हारे बिन जी पाना
जीवन बड़ा दुखदाई हो।
Love shayari

Love you
💓 से

written by Sushil Kumar at kavitadilse.top

Shayari

24 Oct 2016

बहुत बुरा लगता है।

आज कल मानवता तो जैसे मानव से लुप्त ही हो गई है।हर कोई आज स्वार्थी हो गया है।'अपना काम बनता,भाड़ में जाए जनता।'लोग अपना काम निकालने के लिए,एक दूसरे का खून बहाने से नहीं चूक रहे हैं।हर कोई बस अपना फायदा देखे जा रहा है।
     कोई धन दौलत के लिए भागे जा रहा है,तो कोई जमीन जायदाद के लिए दौड़े जा रहा है।जिनके पास दोनो चीज़े हैं,वह नशा जैसे गाँजा,अफीम बगैरह के लिए भागे जा रहा है।और जो बचें,वह शारीरीक संभोग के लिए मचलाए जा रहें हैं।किन्हीं के मन में शान्ति नहीं है।बस हर कोई,हर दूसरे पर हावि होने को आतुर है।ऐसे मानो जैसे मानव में मानव नहीं,राक्छस वास कर रहे हैं।
    यहाँ हर जगह मानो दैत्य और राक्छस घूम रहे हैं।किन्हीं में मानवता नाम मात्र भी नहीं है।
    कुछ दिन पहले की ही बात है,मैं टीवी पे न्युज देख रहा था।एक रोड एक्सीडेंट का लाईव कवरेज़ दिखा रहे थे।सारी पब्लीक तमाशा देख रहा थी।उनमें से कुछ तो टीवी पर आने के लिए जी जान से प्रयास में लगे हुए थे।लेकिन किसी को भी घायल हुए व्यक्तियों की फिक्र नहीं थी।
    अब बताइए मानवता कहाँ गायब हो गई है।

23 Oct 2016

जिंदगी किस लिए मिली है।

लोग यहाँ इस दुनिया में,आते हैं और चले जाते हैं।पर किसी ने यह सोचने की कोशिश भी नहीं की,कि ये जिन्दगी,हमें किस मकसद के लिए दी गई है।क्या जिंदगी हमें बस इस लिए दी गई है,कि सुवह से शाम तक अपने व अपने परिवार के पेट के  लिए कार्य कर्रें,और घर पर भी आकर बस अपने परिवार की फिक्र करें।
      धरती पर रहने वाले हर मनुष्य जब जंम लेता है,तो वह अपना किस्मत साथ लेकर आता है।तो फिर किस लिए अपने परिवार के लिए इतना फिक्र करना,कि खुद को ही भूल जाना,और अपने अस्तित्व को ही खो देना।
      मेरे कहने का मतलब यह नहीं है कि,आप सब कुछ किस्मत पर छोड़ दें।अपितु अपने व अपने परिवार के पेट के लिए कार्य करें,जरूर करें,लेकिन इतना भी ना करें,कि आप स्वयं को ही भूल जाएँ।ये ञात रखिए,कि आप आप नहीं हैं।आप अपने शरीर से पहचाने जाते हैं।लेकिन आप अपने अंदर बसे आत्मा को ही भूल गए हैं।कैसे? और क्यों?हम और आप अपने शरीर से बँधे हैं।जब ये शरीर हमारा मिट्टी में मिल जाएगा,तब हमारी आत्मा यह शरीर छोड़ कर,किसी अन्य शरीर को धारन कर लेगी।और हमारी पहचान बदल जाएगी।और साथ ही नए सम्बंध भी बन जाएंगे।और फिर से नए दायित्व और बंधनों में बंध कर ,आप स्वयं को फिर से भूल जाते हैं।
      यह शरीर नश्वर है।हमसे और आपसे जुड़े सम्बंध भी नश्वर हैं।खुद को पहचाने।और अपने हर दिन के समय के कुछ हिस्से को ईश्वर को सौंपे,क्योंकि हमारी आत्मा हमारे ईश्वर के शेष हैं।जो भी कार्य करें,ईश्वर को याद रख कर ही करें।क्योंकि हम और आप करने वाले कोई नहीं हैं।हमारे ईश्वर ही हमारे संचालक हैं।

20 Oct 2016

हमारा समय अनमोल है।

काल का चक्र हर पल बदल रहा है।लोग आ रहे हैं,और अपने पूर्व जन्मों के किए गए अच्छे व बुरे कर्मों के हिसाब से,उन्हें उनका जीवन प्रदान की जाती है,व उनका भविष्य तय की जाती है।जीवन बहुत ही छोटी है।और हमें इस जीवन को ऐसा जीना चाहिए,जैसे कि अगले ही पल में,आपकी साँस थमने वाली है।हमारे कहने का मतलब है,कि हमें हर पल को खुलकर जीना चाहिए।क्या पता अगले किसी पल में,देवलोक से जीवन की धारा आना,इस मिट्टी की शरीर में बंद हो जाए।और हम मिट्टी में मिल जाऐं।
       अपने प्रियजनों के साथ,ज्यादा से ज्यादा समय व्यतीत करना चाहिए।हमेशा धन दौलत,जीवन जायदाद के लिए,हाथ पाँव नहीं मारना चाहिए।हमें अपने समय को,अपने प्रियजनों के साथ बीताकर व्यतीत करना चाहिए।और इस अनमोल समय को कभी भी,व्यर्थ की चीजों के लिए नही गँवाना चाहिए।धन दैलत,जमीन जायदाद सभी यहीं छूट जाएँगे।खाली हाथ ही आएँ थे,और खाली हाथ ही जाएँगे।यहाँ हम सभी अपने अपने कर्मों  के हिसाब से अपना जीवन ,और जीवन शैली पाते हैं।अच्छा शक्ल,बुरा शक्ल,गरीब परिवार,अमीर परिवार यह सारा कुछ आपके पूर्व जन्मों के हिसाब से तय हेता है।
      फिर आने वाले नस्लों के बारे में सोचकर,क्यों टेन्सन लेना।वो जैसा भी पूर्व जन्मों में कर्म किए होंगे,उन्हें उसके हिसाब से सारा कुछ मिल जाएगा।
       चलो अब हम अपना जिन्दगी जी ले।अपने प्रियजनों के लिए भी समय निकाल लें।कहीं ऐसा ना हो कोई अपना कल यहाँ से चला जाऐ,और हमें अपने काम से फुरसत ना हो,बस धन दौलत के पीछे भागे जा रहें हैं।और अपने प्रियजनों के जाने के बाद,फूट फूट कर अश्रु बहा रहे हैं।
       इसके विपरीत भी हो सकता है।हमारे जाने का समय कहीं समीप ना आ जाए,फिर हमारे पास हाथ मसलने के अलावा कुछ भी नहीं बचेगा।और अपने प्रियजनो से बिछुड़ने व उनको समय ना दे पाने के दुख में अश्रुओं की धारा फूट फूट कर बह पड़ेगी।  
       

12 Oct 2016

हर दिन का तरह

आज का दिन भी,हर दिन की जैसा ही दिख रहा था।एक रस,एक रंग,ना दिल में कोई उमंग,ना मन में कोई शांति।अब आप बोलेंगे कि ऐसा क्यों? हम और आप देखते हैं,कि हमारी जो हर दिन की दिनचर्या है,वह बिलकुल एक समान है।वही सुवह सुवह जबरदस्ती उठना,फ्रेश होना,ब्रश करना,नहाने का मन बिलकुल भी ना करना,फिर भी नहाना,क्योंकि पाँच दिनो से नहीं नहाया है।अगर फिर भी नहीं नहाया तो स्ट्रोंग परफ्यूम लगाकर,अपने काम पर निकलना। अब अगर स्कूल या कॉलेज जा रहे हैं,तो फिर वही पुराने दोस्तों से मिलना,और शैतानी भरी बातें करना,और एक दूसरे की टाँग खींचना।और फिर टीचर का रोज़ का एक ही सवाल पूछना कि,बच्चों,आज सभी लोग होमवर्क कर के आएँ हैं ना।और हम बच्चों का एक स्वर में बोलना,हाँ टीचर।और फिर किसी दोस्त से कॉपी मांगकर,होमवर्क कॉपी करना।और फिर टीचर के द्वारा पकड़े जाने पर मुर्गा बनना,वह छड़ी से पिटाई होना। पीछे की रॉ में बैठकर,आगे बैठे बच्चों के टीफीन निकालकर,उनके माँ के द्वारा,बनाए गए पकवान का मजा लेना।
         और टीटी वाली क्लास में बंक मार कर,लाईब्रेरी में छुप कर नॉवेल पढ़ना।टीचर का पकड़ना,और हमारा बहाना मारना,कि टीचर,प्रोजेक्ट की तैयारी कर रहे हैं।

8 Oct 2016

राम और रावण

हर इंसान में राम और रावण का वास होता है।ये इंसान का फैसला होता है,कि वह राम बनना चाहता है या रावण।ईश्वर की दी हुई जीवन को,अगर हम रावण बनकर,दूसरों को तकलीफ देकर जीए,तो ऐसी व्यर्थ की जिंदगी जीने का क्या मतलब।ईश्वर की अनमोल जिंदगी को हमें ऐसे जीने चाहिए, जिससे ईश्वर हमसे खुश रहे।हमे उससे प्राप्त अनमोल उपहार को व्यर्थ मे नहीं गँवाने हैं।
       हम मनुष्यों को पिता परमेश्वर,हमारे मालिक ने बनाया है,इस हिसाब से हम सभी भाई बहने हुये।फिर ये कैसी होड़ लगी है,हम सभी में,कि हमसे सर्वष्रेस्ठ कोई नहीं है।
       जब ईश्वर ने सृष्टि की संरचना की और मनुष्य को बनाया,तो हम सभी को एक समान शरीर का धाँचा दिया, एक समान सभी को बल,बुद्धि दिया।और फिर मनुष्यों ने जैसे जैसे कर्म किए, वैसे वैसे ही फल भोग।और शरीर की संरचना मे भी,उसी भाँति से बदलाव आएँ।
        मनुष्य ने अच्छे कर्म किए, तो उसके शरीर की संरचना मे और भी निखार आया,वही मनुष्य ने जहाँ बुरे कर्म किए,उसके शरीर की संरचना वैसी ही भद्धी होती चली गई।
         अगर आप ताकतवर हैं तो कमजोरों की मदद करो।ये नहीं की धर्म जाति, वेशभूषा, काले गोरे, अमीर गरीब के हिसाब से मनुष्य को मनुष्य से ही बाँट दे।ये भेदभाव मनुष्य के दिमाग की ऊपज है।
         मनुष्य हमेशा सच्चाई से भागता है और झूठ को सत्य मानता है।अगर आपको यह जीवन मिला है, इसका मतलब यह नहीं कि ये आपकी धरोहर हो गई और आप इसके मालिक हो गये ।एक दिन आएगा, जब आपकी ये धरोहर आपसे छीन ली जाएगी।और आपको आपके कर्म के हिसाब से,आपकी आगे की यात्रा तय की जाएगी।
          इस जीवन के रहस्य को समझना बहुत जरूरी है।अपने जीवन के हर पल को हमें खुल के जीना चाहिए।हमें जहाँ तक चाहिए, हमें बस यही कोशिश करना चाहिए, कि हमसे किसी का दिल ना दुखे।जहाँ तक हो हमें सभी को खुश रखने की कोशिश करनी चाहिए।ईश्वर की दी हुई जीवन को हमें राम बनकर निभाने की कोशिश करना चाहिए, ना कि रावण बनकर सबका सर्वनाश करना चाहिए।
        एक छोटी सी कहानी आगे लिख रहा हूँ।आनंद बहुत गरीब परिवार में जन्मा था।वह दिखने मे सुन्दर और सुशील था। बचपन से बहुत ही शर्मिला और भावुक था।किसी भी अंजान व्यक्ति से मिलने पर बहुत घबराता था।अपने पापा मम्मी बहन और खासकर अपने नाना जी से उसे विशेष लगाव था।
        माँ और बाबू जी हमेशा उसे रामायण सुनाते थे।और इसी वजह से राम जी की छाप उसके दिल पे गहराई से पड़ी थी।
        वह एक सच्चाई से बिलकुल अंजान था।वह सच्चाई थी मृत्यु।जिसने भी इस दुनिया मे जन्म लिया है, उसे एक ना एक दिन मरना भी है।और वह साल,दिन और समय पहले से ही निर्धारित है।
         एक समय घर पर नाना जी का आगमन हुआ।इस बार उनके गाँव लौटते वक्त,पता नही  क्यों, उसके आँसू थम नहीं रहे थे,और वह रोया ही चला जी रहा था।शायद उसे आभास हो गया था,ये उन दोनों की आखिरी मुलाकात है।
         कुछ दिनों बाद ही नाना की मृत्यु की खबर आती है, फिर क्या आनंद रो रो कर सारा घर सर पर उठा लेता है।उसे बहुत ज्यादा आघात पहुँचता है।माँ बाबू जी उसे बहुत समझाते हैं।पर उसके आँख से अक्ष्रुओं की धारा रुकी नहीं।
           उसने सोचा कि कोई जब मरता है, तो कहाँ गायब हो जाता है।ऐसे ही अगर मेरे पापा मम्मी बहन सभी लोग गायब हो जाएंगे,फिर मैं तो मर जाउँगा,इनके बिना मैं कैसे रह पाउँगा।इन सभी को मेरी भी उमर लग जाए।
            तभी से हर दिन और रात वह अपने ईश्वर से यही प्रार्थना करता है, कि जो भी कष्ट हो उसे हो,उसके पापा मम्मी बहन को किसी प्रकार का कष्ट ना हो।
           बचपन से ही वह सभी को लेकर चलने वाला इंसान है वह।कोई भी कार्यक्रम हो स्कूल मे, कुछ भी खाने को मिले उसे, वह अपने मम्मी पापा और बहन के लिए ले जाना नहीं भुलता है।
            आनंद अपने स्कूल ब्लू बेल्स में हमेशा प्रथम या द्वितीय स्थान पर रहता है।और हमेशा घर पर पुरस्कार लेकर घर पर आता है।उसे स्कूल का प्रधानाध्यापक भी बहुत मानते हैं।
             ब्लू बेल्स स्कूल के बोर्ड का रिजल्ट इस साल अच्छा नहीं हुआ,तो उसके पापा मम्मी ने स्कूल बदलने का निर्णय ले लिया।आनंद को पहले पहले अच्छा नहीं लगा।लगता भी कैसे उसके यहाँ पर इतने सारे अच्छे दोस्त जो बन गए हैं।
            वह दिन भी आ गया, जब उसे एडमिशन टेस्ट देने के लिए, सन्त फ्रांसिस स्कूल जाना था।ब्लू बेल्स के अच्छे रिजल्ट कार्ड लेकर पापा मम्मी के साथ स्कूल चला गया।लेकिन जाने से पहले वह हर दिन की तरह ईश्वर से बस यही प्रार्थना करता है,कि उसके मम्मी पापा को किसी प्रकार का दुख तकलीफ ना हो।उनके सारे कष्ट उसे मिल जाएं।आज वह एडमिशन टेस्ट देने जा रहा है।उसके पापा मम्मी ने जैसा उसके लिए सोचा है, वैसा ही हो।क्योंकि हर माँ बाप अपने बच्चे के लिए, हमेशा अच्छा ही सोचते हैं।
             वहाँ उसका टेस्ट हुआ, और वो फैल हो गया।पर किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।उसके
 पापा मम्मी के निवेदन और उसका पुराना रिकॉर्ड देखकर,स्कूल के प्रधान अध्यापक ने उसका एडमिशन स्कूल मे ले लिया गया।
               वह कुछ दुखी था,कि उसके पुराने दोस्त छुटने वाले हैं, पर उसको इस बात की खुशी भी थी कि उसके माँ बाबू जी की सोच साकार हो गई।और उनकी खुशी देखकर आनंद भी काफी खुश है।
                    अब आनंद नया स्कूल जाना शुरू करता है। नया नया स्कूल और नए नए लोग।आनंद इन सभी मे अपने को बहुत ही अकेला महसूस करता था।पर वो था ही इतना प्यारा कि सभी लोग उससे आकर्षित हो कर उसकी ओर खींचे आते थे।जल्दी ही उसके बहुत सारे दोस्त बन गये।और सभी शिक्षकों का भी वह प्यारा बन गया।
                        आनंद के दिल मे वह पल घर कर गया था,जब उसके मम्मी पापा ने कितनी विनती करने के बाद उसका एडमिशन स्कूल मे
कराया था।उसे अपने मम्मी पापा को सही साबित करने के लिए,बहुत मेहनत करना शुरू किया।और बहुत जल्द ही सभी को पिछाड़ते हुए, अव्वल स्थान पर पहुँच गया।
                        उसने अपने माँ बाबू जी को गरीबी मे पेट काटते देखा था।खुद आधे पेट खाएंगे पर उसे भर पेट खिलाएंगे।वो झगड़ता है, लड़ता है कि उसके प्लेट से कुछ खाना निकाल ले,वह इतना खाना नहीं खा पाएगा, पर माँ बाबू जी कहाँ सुनते हैं, ऊपर से माँ का कसम कि भर पेट खाना खाया कर,वरना मरा हुआ मुख देखेगा मेरा।
                         आनंद अपने माँ बाबू जी का निःस्वार्थ प्रेम देखकर भाव भिहोर हो जाया करता है,और वो अपनी पढाई मे जी जान से लग जाता है।आनंद को मालूम है कि उसके पास केवल एक ही शस्त्र है, जिससे वह अपने परिवार की गरीबी हटा सकता है, और वह है पढाई।
                           आनंद के पिता अस्पताल मे कम्पाउंडर थे।तन्ख्वा कम मिलती थी।बाहरी आमदनी के अवसर खूब थे, पर कभी भी उन्होंने गलत तरीके की कमाई मे ध्यान नहीं दिया।और आनंद को भी बाल अवस्था से ही अच्छे संस्कार दिए।हर स्त्री को माँ और बहन के सामान देखना और सम्मान देना।कभी किसी का ना बुरा सोचना, और ना किसी का बुरा करना ।सभी को साथ लेकर चलना।
                                आनंद का रोल माडल उसके पापा और मम्मी थे।वह पूरे दिल से उनकी बातों को मानता था।
                                  धीरे धीरे वह बड़ा हुआ।स्कूल के प्रधानाध्यापक,शिक्षकों और विद्यार्थियों मे प्यारा हो गया।आनंद को किताबों से इतना प्यार हो गया था,कि जब भी उसे फुरसत मिलती, वह पुस्तकालय मे जाकर बैठ जाया करता।आनंद को कभी धुंधने की बारी आती, तो सभी को मालूम था,कि आनंद महाशय स्कूल के पुस्तकालय मे गहन अध्ययन मे लीन होंगे।स्कूल के बोर्ड मे आनंद अव्वल अंक से पास हुआ।10+2 मे भी अच्छे स्कूल मे एडमिशन मिल गया।वहाँ का पढाई बहुत महँगा था,लेकिन आनंद के बोर्ड मे अच्छे रिजल्ट आने के कारण,उसे अच्छी स्कोलरशिप मिल गई।
                                  उस समय की एक घटना ने उसे काफी प्रोत्साहित किया।जैसे कि किसी महेश नाम के लड़के ने उस साल उसी स्कूल से पूरे भारत मे टाप किया था,और भारत सरकार ने उसके आगे की पढ़ाई की जिम्मेदारी अपने कँधे पर ले ली।
                                   आनंद को उसकी मंजिल पाने का जरिया मिल गया।अब वो पूरे जी जान से अपने पढ़ाई मे जुट गया।
                                   अब उसका मकसद भारत के सर्वक्ष्रेष्ठ इन्जिनीयरींग संस्थान आई आई टी से शिक्षा ग्रहण करने का था।10+2 के फाइनल का रिजल्ट आया।उसके सपने मे चार चाँद लग गए।उसने पूरे भारत मे टाप किया।भारत सरकार ने आनंद के आगे की पढ़ाई का खर्चा उठाने का फैसला लिया।
                                       आनंद आज बहुत खुश है, और आज आनंद से भी ज्यादा खुश उसके पापा और मम्मी हैं।
                                       आनंद अब आई आई टी की परीक्षा के तैयारी मे लग गया।उसे मालूम था, कि उसकी जंग अभी खत्म नहीं हुई है।सच्ची तैयारी और पुरी लगन के बदौलत उसने आई आई टी की परीक्षा भी पास कर लिया।
                                         आई आई टी से पास होने के बाद उसने एक मल्टी नेशनल कम्पनी मे जोब पाली।ये दिन आनंद और उसके परिवार के लिए जन्नत पाने वाली खुशी से कम नहीं है।
                                          आनंद को बचपन से ही माँ और पिता के द्वारा अच्छे संस्कार दिए गए।ये तो हम पाते हैं,कि आज कल के माँ और पिता अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देते हैं, पर जब खुद पे जब उनके बारी आती है, वे उसे पालन करने से भागते हैं।
                                        आनंद के केस मे ऐसा नहीं था।उसके माँ बाबू जी जो उसे संस्कार दिए थे, उसका वह पालन भी करते थे।
                                          आनंद के माँ बाबू जी ने हमेशा से यही संस्कार दिए हैं, कि सदा जरूरतमंदो की मदद करना चाहिए।उन्होंने किसी भी जरूरतमंदो को अपने घर से खाली हाथ जाने नहीं दिया।जहाँ तक हो,उनकी मदद ही किया।
                                           पर आज कल के लोगों मे ऐसे गुण बहुत कम ही दिखते हैं।बस हर कोई अपने स्वार्थ को पूरा करने के लिए एक दूसरे का खून बहाते जा रहे हैं।
                                            आनंद के माँ बाबू जी ने हमेशा से यही संस्कार दिए कि हमेशा सभी को साथ लेकर चलना चाहिए।और सभी का हमें भला देखना चाहिए।और हमेशा से उन्होंने इसका पालन भी किया।हमेशा से उन्होंने अपने माँ बाबू जी और अपने छोटे भाईयों (जो गाँव मे रहते थे)को साथ मे लेकर चले।कभी भी घर का छोटा से छोटा व बड़ा से बड़ा काम करने के पहले अपने छोटे भाईयो व अपने माँ बाबू जी से राय लेना नहीं भूलते थे।
                                             आज कल के लोग अपनी दुनिया मे ऐसे रमे हुए हैं, कि अपने माँ बाप को भूल जाते है, तो भाई को कहाँ से याद रख पाएंगे।
                                                आज कल के माँ बाप बच्चों को सीखाते हैं कि कोई भी बुरा काम नहीं करना चाहिए।चोरी नहीं करना चाहिए, सिगरेट व शराब नहीं पिनी चाहिए।तंबाकू व खैनी का से वन नहीं करना चाहिए।ड्रग्स नहीं लेना चाहिए।जुआ नहीं खेलना चाहिए।और जाने अनजाने आप ये गलत काम बच्चे के सामने करते हैं।इससे बच्चे के मन और स्वभाव पर गलत असर पड़ता है।
                                         पर आनंद के माँ बाबू जी के साथ ऐसा नहीं था।उनके परिवार मे कोई भी गलत चीज़ो का सेवन नहीं करता था।आनंद के बाबू जी का तो बता ही चुके हैं,कि उनके पास काफी अवसर थे, जिससे वे गलत तरीकों का उपयोग कर काफी पैसे कमा सकते थे, पर दादा दादी के दिए गये संस्कार ही थे, जिसने उन्हें हमेशा सही राह पर रखा।
                                           आनंद भी आम बच्चे की ही तरह था।पर बचपन मे ही माँ बाबू जी के दिए गए अच्छे संस्कार ने और निःस्वार्थ प्रेम ने आनंद को पूरी तरह से जीवन मे आने वाले हर विघ्न से लड़ने के लिए तैयार कर दिया था।और जीवन के हर मोड़ पर राम के आदर्श पर चलकर आनंद ने रावण को हराया।खुद को पहचानो

प्यार ही सब कुछ है,इस दुनिया में

आज हर किसी के दिल में,सभी के लिए प्यार ही प्यार होना चाहिए।अगर आज हमारे दिल में किसी के लिए प्यार नहीं है,तो हम उसकी गलती पर उसे हम माफ नहीं कर पाएँगे।और उसे सबक सिखाए बगैर दिल में चैन नहीं आएगा।वहीं आप इसके दूसरे साईड को देखिए,अगर किसीअपने से गलती हुई होती,तो उसे अगले ही पल माफ भी कर दिया होती।
     अपनो से प्यार है,परायों से प्यार नहीं।ऐसा क्यों और कैसे?
     जब सृष्टी की संरचना हुई,और ईश्वर ने मनुष्य को जब बनाया।तब उसने ऐसा सोचा भी नहीं होगा कि कभी ऐसा भी दिन आएगा,जब मनुष्य अपने स्वार्थ के लिए,ईश्वर को भी बाँट देगा।
     और आज तो हद्द हो गया है,मनुष्यों के दिल में प्यार कम,और द्वेष ज्यादा है।हर कोई,हर दूसरे के खून का प्यासा हो गया है।और आज धन दौलत,जमीन जायदाद का मोल खून से ज्यादा है।इसलिए आज जमीन जायदाद ,धन दौलत के लिए,आज हर कोई,हर किसी का खून बहीने से नहीं घबराता है।
    हम मनुष्य,मनुष्य तभी तक हैं,जब तक कि से आत्मा शरीर के अंदर है।जिस दिन यह आत्मा मनुष्य शरीर को त्याग देगी,किसी और योनि में प्रवेष कर जावेगी।फिर हमारी पहचान धीरे धीरे सभी के मानचित्र से हटती जाती है।बस याद रह जाते हैं,तो हमारे द्वारा किए गए अच्छे वह बुरे कर्म।

2 Oct 2016

क्या लगता है?

आज कल की भागमभाग वाली दुनिया में,किसी के पास किसी और व्यक्तियों के लिए वक्त नहीं है।सभी लोग अपनी अपनी दुनिया में व्यस्त हैं।कोई पैसे कमाने में व्यस्त है,तो कोई नाम कमाने में।बस अपनी धुन में सभी लोग लगे हुए हैं।किसी को किसी की खबर नहीं है। ऐसे ही धुन में लगे हुए कुछ लोग,इस लोक से उस लोक में पहुँच जाते है।धन-सम्पत्ती,मान-सम्मान के लिए लोग आज कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार हैं।सारी दुनिया क्षणभंगुर चीज के के लिए अपनी जान प्राण को दाव पर लगाने से पीछे नहीं हटते।ये कैसा पागलपन सारी दुनिया पर छाया हुआ है। जागो मानव!जागो!पहचानो,खुद को पहचानो।तुमने जब जन्म लिया,तुम्हारे जीवन के हर पल की अध्याय लिख दी गयी थी।इसलिए अपने अनमोल समय को व्यर्थ में नहीं खोते हुए,और अपने और परिवार की पेट पालन व अन्य सुख सुविधा को ध्यान में रखकर,अपना कर्म करते रहें।और बाकि बचे समय में ईश्वर को याद करना नहीं भूलें। अपने जीवन के रहस्य को समझे।जहाँ सुख है,वहाँ दुख रहेगा,जहाँ जीवन है,वहाँ मृत्यू भी होगी।सच्चाई का सामना करो,हच्चाई से दूर भागो। आपको अगर जीवन की सच्चाई का सामना करने की ताकत है,तो कोई ऐसे व्यक्ति को तलाशो,जिसकी मृत्यु उसके नजदीक हो।वो हमेशा अपने ईश्वर की याद में लगा रहता है।और उसके द्वारा किए गये,सारे अच्छे व बुरे कर्म की यादें,उसके इर्द गिर्द घूमते रहते हैं।बुरे कर्मों को याद कर,वह खुद को कोसता रहता है।और अपने ईश्वर को और भी जोर से मन ही मन प्रार्थना कर क्षमा याचना अपने बुरे कर्मों के लिए माँगता रहता है। इसलिए अगर हमें यह अनमोल मानव अंग मिला है,तो हमें इस समय को व्यर्थ में नहीं खोना है।ना ही कोई बुरे कर्म करने है,कि मरने के बाद नर्क में भाँति भाँति के कष्ट सहने पड़े। और अपने ईश्वर को सदा याद रखना चाहिए।कोई भी कर्म करें,ईश्वर को समक्ष रख कर करना चाहिए।और हमेशा यही प्रार्थना करना चाहिए,कि हमें सही राह चुनने की शक्ति दें और हमारे किए गये कार्यों से किनहीं को भी कीसी प्रकार का दुख व कलेश न हो।

Badhali

Shayari ऐसी बदहाली आज दिल पे जो छाई है। मन  है बदहवास और आँखों में नमी आई है। हर वक्त बस ईश्वर से यही दुहाई है। खैर रखना उनकी, मेरी ...