25 Feb 2020

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari

Hum sath

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ

उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ।

तुम कहते हो कि
मैं गायब होता जा रहा हूँ।
पहले ७० किलो का था
आज ५० पर सिमट गया हूँ।

तेरे हर जुदाई में मेरा दिल
फुट फुट कर रोया है।
सुबह शाम
दिन और रात
बस तेरी मीठे मीठे यादों को
अपने सपने में संजोया है।

नींद जब खुलती है तो
दिल असहज ही तड़प उठता है।
और तेरे से मिलने को हृदय
बेसब्र सा हो जाया करता है।

कुछ खाने पीने की
दिली इच्छा भी कहीं गुम सी गई है।
बस तेरे ख्वाब की ख्वाहिश लिए
नैनो के पट बंद किए रहता हूँ।

प्रकृति का खेल भी
देखो अजब ही निराला है।
इश्क़ करने वालों को
वियोग के दिवस सदा दिखाया करता हैं।

हर क्षण तेरे साथ ना होने के गम में
अपने दिल को जलाया करता हूँ।
तुमसे मिलने के प्रयास में
अपनी छुट्टियों की विश्लेषण किया करता हूँ।

सारे बन्धनों को तोड़ कर
मैं तेरे समीप रहना चाहता हूँ।
मेरे जीवन के हर लम्हें को
तेरा नाम करना चाहता हूँ।

आमीन



main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

utni hi daphaa main ghut ghut kar martaa hun।


tum kahte ho ki

main gaayab hotaa jaa rahaa hun।

pahle 70 kilo kaa thaa

aaj 50 par simat gayaa hun।


tere har judaai men meraa dil

phut phut kar royaa hai।

subah shaam

din aur raat

bas teri mithe mithe yaadon ko

apne sapne men sanjoyaa hai।


nind jab khulti hai to

dil asahaj hi tdap uthtaa hai।

aur tere se milne ko hriaday

besabr saa ho jaayaa kartaa hai।


kuchh khaane pine ki

dili echchhaa bhi kahin gum si gayi hai।

bas tere khvaab ki khvaahish lia

naino ke pat band kia rahtaa hun।


prakriati kaa khel bhi

dekho ajab hi niraalaa hai।

eshk karne vaalon ko

viyog ke divas sadaa dikhaayaa kartaa hain।


har kshan tere saath naa hone ke gam men

apne dil ko jalaayaa kartaa hun।

tumse milne ke pryaas men

apni chhuttiyon ki vishleshan kiyaa kartaa hun।


saare bandhnon ko tod kar

main tere samip rahnaa chaahtaa hun।

mere jivan ke har lamhen ko

teraa naam karnaa chaahtaa hun।


aamin


24 Feb 2020

मुझे बदलने की तेरी औकात नहीं।mujhe badalne ki teri aukat nahin.

Shayari


Badal kar dikhao

तुम मेरे वजूद को मिटा सकते हो

पर मेरे उसूल को नहीं।
तुम मेरे विचार को बदल सकते हो
पर मेरे संस्कार को नहीं।

मैं जैसा था
वैसा ही हूँ।
और आगे भी
वैसा ही रहूँगा।

लाख कोशिश कर ली है तुमने।
थक कर लड़खड़ा भी रहे हो।
पर जिद्द क्यों नहीं छोड़ रहे हो
मुझे तुम बदलने की।

तुम्हारी जिद्द देख
मेरे जिद्द ने भी
जिद्द ठान रखी है
कभी नहीं बदलने की।

चाहे जितनी चक्रवात भेज दो
मेरी लक्ष्य को बदलने को।
चाहे किसी मझधार में ही डाल दो
मेरे सामर्थ्य को टटोलने को।

मैं ना हीं रुकूँगा
ना ही थामूंगा।
अपनी मंजिल की ओर
अग्रसर रहूँगा।

और जो भूलकर भी मेरे पथ पर तुम
रोड़ा बनने का प्रयास करोगे।
मिट्टी में कहीं ना मिल जाना तुम
मेरे दृढ़ विश्वास के दबाव में आकर।

tum mere vajud ko mitaa sakte ho

par mere usul ko nahin।

tum mere vichaar ko badal sakte ho

par mere sanskaar ko nahin।


main jaisaa thaa

vaisaa hi hun।

aur aage bhi

vaisaa hi rahungaa।


laakh koshish kar li hai tumne।

thak kar ldakhdaa bhi rahe ho।

par jidd kyon nahin chhod rahe ho

mujhe tum badalne ki।


tumhaari jidd dekh

mere jidd ne bhi

jidd thaan rakhi hai

kabhi nahin badalne ki।


chaahe jitni chakrvaat bhej do

meri lakshy ko badalne ko।

chaahe kisi majhdhaar men hi daal do

mere saamarthy ko tatolne ko।


main naa hin rukungaa

naa hi thaamungaa।

apni manjil ki or

agrasar rahungaa।


aur jo bhulakar bhi mere path par tum

rodaa banne kaa pryaas karoge।

mitti men kahin naa mil jaanaa tum

mere dridh vishvaas ke dabaav men aakar।



Written by sushil kumar




23 Feb 2020

मेरे साथ चल ना।mere sath chal naa

Shayari


मेरे साथ चल ना

इतनी तेज क्यों भाग रही हो?
राह जीवन का
नहीं हैं इतने सरल।
जरा संभल संभल कर
यहाँ तू चल।
माना हमारी मंजिल है
बहुत ही धूमिल।
पर अधिरज हो
क्यों तू सब्र को रहा छोड़।
तकलीफ जो तकदीर में है
वो तो मिलेगी।
ठोकरें जो राह में हैं
वो भी हमें मिलेंगे।
पर साथ में जो हम तुम होंगे
तो हँसते हँसते कट जाएगा सफर।
और मंजिल भी हम पा लेंगे
जो तू दे देगा साथ मेरा
हमसफ़र।
मेरे साथ चल ना
इतनी तेज क्यों भाग रही हो?


mere saath chal naa

etni tej kyon bhaag rahi ho?

raah jivan kaa

nahin hain etne saral।

jaraa sambhal sambhal kar

yahaan tu chal।

maanaa hamaari manjil hai

bahut hi dhumil।

par adhiraj ho

kyon tu sabr ko rahaa chhod।

takliph jo takdir men hai

vo to milegi।

thokren jo raah men hain

vo bhi hamen milenge।

par saath men jo ham tum honge

to hnaste hnaste kat jaaagaa saphar।

aur manjil bhi ham paa lenge

jo tu de degaa saath meraa

hamasfar।

mere saath chal naa

etni tej kyon bhaag rahi ho?


Written by sushil kumar

15 Feb 2020

कोई जीते जी निर्वाणा कैसे पा सकता है???Koi jite ji nirvana kaise paa sakta hai??

Shayari


मैं चलता हूँ

बैठता हूँ
बोलता हूँ
सुनता हूँ
सोता हूँ
जागता हूँ
पर माँ
तुझे कभी नहीं भूलता हूँ।

कुछ यादें
आती जाती रहती हैं।
कुछ बातें
दिल में रहकर भी
लब्ज पर नहीं आती हैं।
पर माँ तुम
और तुम्हारी संस्कार
सदा मेरा साथ निभाती है।

लाख मुश्किलों में घिरा हूँ।
आगे पहाड़
पीछे खाई हो।
पर कहाँ कोई चट्टान
तेरे संस्कार के जिद्द से टकरा पाया है।
पल भर में
वह भरभराकर
जमीन में समाया है।

अजीबोगरीब संसार की
यहाँ भी माया है।
जहाँ तहाँ ईश्वर के स्वरूप को जगा डाला है।
मन्नतें माँगने को लोगों ने
धरा की परिक्रमा तक
लोगों ने कर डाला है।
पर तब भी किसी ने दिल में
सुकून नहीं पाया है।

मेरे लिए
मेरी माँ ही
उस ईश्वर की छाया है।
उसके रूप में
उस ईश्वर का स्वरूप नज़र आया है।
उसकी खुशी में
मेरे खुशी ने
अपना घर बसाया है।
सारा जीवन
उसकी सेवा में
मैने समय अपना लगाया है।
संसार का मानना है कि
मरने के बाद मोक्ष मिलता है।
पर जीते जी मैने यहाँ
निर्वाणा को पाया है।






main chaltaa hun

baithtaa hun

boltaa hun

suntaa hun

sotaa hun

jaagtaa hun

par maan

tujhe kabhi nahin bhultaa hun।


kuchh yaaden

aati jaati rahti hain।

kuchh baaten

dil men rahakar bhi

labj par nahin aati hain।

par maan tum

aur tumhaari sanskaar

sadaa meraa saath nibhaati hai।


laakh mushkilon men ghiraa hun।

aage pahaad

pichhe khaai ho।

par kahaan koi chattaan

tere sanskaar ke jidd se takraa paayaa hai।

pal bhar men

vah bharabhraakar

jamin men samaayaa hai।


ajibogrib sansaar ki

yahaan bhi maayaa hai।

jahaan tahaan ishvar ke svrup ko jagaa daalaa hai।

mannten maangne ko logon ne

dharaa ki parikrmaa tak

logon ne kar daalaa hai।

par tab bhi kisi ne dil men

sukun nahin paayaa hai।


mere lia

meri maan hi

us ishvar ki chhaayaa hai।

uske rup men

us ishvar kaa svrup njar aayaa hai।

uski khushi men

mere khushi ne

apnaa ghar basaayaa hai।

saaraa jivan

uski sevaa men

maine samay apnaa lagaayaa hai।

sansaar kaa maannaa hai ki

marne ke baad moksh miltaa hai।

par jite ji maine yahaan

nirvaanaa ko paayaa hai।







Written by sushil kumar

7 Feb 2020

अग्निपरीक्षा हर मुकाम की।agniprikshaa har mukaam ki।

Shayari


अग्निपरीक्षा हर मुकाम की।

agniprikshaa har mukaam ki।


तकलीफें बहुत झेली है हमने
पर खुशियाँ भी कहाँ
कम मिली हैं हमें?
माना हर पग पर धारदार तलवार बिछी है
पर मंजिल भी कहाँ किसी को
इतनी आसानी से मिली है।

हर मुकाम अपने मालिक को आज़माती है।
बिना आजमाए कहाँ किसी के वो हाथ आती है।
लोगों को तो किसी की भी
सफलता ही केवल नज़र आती है।
पर उस हिमालय को पाने में
जो जख्में और घाव के निशान
जो उनके शरीर पर बन गए हैं
वो उन्हें कभी नहीं दिखती है।


takliphen bahut jheli hai hamne

par khushiyaan bhi kahaan

kam mili hain hamen?

maanaa har pag par dhaardaar talvaar bichhi hai

par manjil bhi kahaan kisi ko

etni aasaani se mili hai।


har mukaam apne maalik ko aajmaati hai।

binaa aajmaaa kahaan kisi ke vo haath aati hai।

logon ko to kisi ki bhi

saphaltaa hi keval njar aati hai।

par us himaalay ko paane men

jo jakhmen aur ghaav ke nishaan

jo unke sharir par ban gaye hain

vo unhen kabhi nahin dikhti hai।



Written by sushil kumar

26 Jan 2020

आज़ादी सारे गद्दारों से कब मिलेगी?azadi sare gaddaron se kab milegi?

आज़ादी के नारे लगाने वाले
आज आजादी को दाव पर लगा रहे हैं।
आज़ादी के तने में घुस के ये दीमक
हमारी आज़ादी को खोखला बना रहे हैं।

इन दोगलों से क्या मुँह लगे हम
ये हमें क्या पाठ पढ़ा रहे हैं।
माँ तुम्हें तुमसे अलग करने को
भाई को भाई से लड़वा रहे हैं।

ये मुट्ठी भर देशद्रोहियों ने
आज फिर से कोई गन्दा षड्यंत्र रचे हैं।
धर्मवाद और जातिवाद के नाम पर फिर से
हम भारतीयों में फूट डालने की चाल चल रहे हैं।

कोई नहीं कोशिश कर लेने दो इन गद्दारों को।
हम टस से मस नहीं होएँगे।
अपनी विविधताओं को
प्रेम की अटूट धागे से
सदा हम मजबूती से
बांधे रहेंगे।

मेरे देश
मेरे लोग
मेरे भारत के हर कण कण की कसम।
ए माँ तेरे अंग को और ना कटने देंगे।
१९४७ की वो गलती को फिर से
हम नहीं दुबारा पनपने देंगे।
सुधर जाओ तुम नमकहरामों अब वरना
हम और बचकानी हरकतों को नहीं सहेंगे।
जो भारत की अखंडता पर सवाल उठा जो
तुम्हें नर्क के द्वार पहुँचा कर ही दम देंगे।

हमारी नसों में बहते खून के कतरे कतरे में
भगत सिंह और असफाकउल्लाह वास करते हैं।
देश के लिए जान लेने और देने को
हम तत्पर सदा यहाँ रहते हैं।


वन्दे मातरम।।

आज़ादी




aajaadi ke naare lagaane vaale

aaj aajaadi ko daav par lagaa rahe hain।

aajaadi ke tane men ghus ke ye dimak

hamaari aajaadi ko khokhlaa banaa rahe hain।


en doglon se kyaa munh lage ham

ye hamen kyaa paath pdhaa rahe hain।

maan tumhen tumse alag karne ko

bhaai ko bhaai se ldvaa rahe hain।


ye mutthi bhar deshadrohiyon ne

aaj phir se koi gandaa shadyantr rache hain।

dharmvaad aur jaativaad ke naam par phir se

ham bhaartiyon men phut daalne ki chaal chal rahe hain।


koi nahin koshish kar lene do en gaddaaron ko।

ham tas se mas nahin hoange।

apni vividhtaaon ko

prem ki atut dhaage se

sadaa ham majbuti se

baandhe rahenge।


mere desh

mere log

mere bhaarat ke har kan kan ki kasam।

aye maan tere ang ko aur naa katne denge।

1947 ki vo galti ko phir se

ham nahin dubaaraa panapne denge।

sudhar jaao tum namakahraamon ab varnaa

ham aur bachkaani harakton ko nahin sahenge।

jo bhaarat ki akhandtaa par savaal uthaa jo

tumhen nark ke dvaar pahunchaa kar hi dam denge।


hamaari nason men bahte khun ke katre katre men

bhagat sinh aur asphaakullaah vaas karte hain।

desh ke lia jaan lene aur dene ko

ham tatpar sadaa yahaan rahte hain।



vande maataram।।









20 Jan 2020

तू ही मेरी दुनिया है। tu hi meri duniya hai.

Tu hi meri duniya hai.


Shayari


तकलीफ मेरे हिस्से की
तू मुझे ही सहने दे।
आँसू मेरे बादल के
तू मुझ पर ही बरसने दे।

सारे मुसीबतों के पल
मैं खुशी खुशी झेल जाऊँगा।
पर तेरे मुरझाए चेहरे को देखा जो
जीते जी ना मर जाऊँ मैं।

मेरे सारे खुशी के पल
बस तेरे ही नाम कर दूँ।
तेरे राह में आने वाले सारे गम को
मैं कहीं गुमनाम कर दूँ।

तेरे खिलखिलाते चेहरे को देख
मैं हर पल में सदियों जी आता हूँ।
तुझे क्या पता?
तुझसे ही शुरू
और तुझपे ही खत्म
मेरी दुनिया है।




takliph mere hisse ki

tu mujhe hi sahne de।

aansu mere baadal ke

tu mujh par hi barasne de।


saare musibton ke pal

main khushi khushi jhel jaaunga।

par tere murjhaaa chehre ko dekhaa jo

jite ji naa mar jaaun main।


mere saare khushi ke pal

bas tere hi naam kar dun।

tere raah men aane vaale saare gam ko

main kahin gumnaam kar dun।


tere khilakhilaate chehre ko dekh

main har pal men sadiyon ji aataa hun।

tujhe kyaa pataa?

tujhse hi shuru

aur tujhpe hi khatm

meri duniyaa hai।


Written by sushil kumar

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ। तुम कहते हो कि मैं गायब होता जा रहा हूँ। पहले ७० कि...