13 Jan 2020

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे।

Shayari


मेरे भारत देश के मिट्टी की 
बात बड़ी ही निराली है।
यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में
छिपी हुई एक चिंगारी है।

एक से एक महान लड़ाकू 
यहाँ पैदा हुए 
समाज में लाने को क्रांति।
कुछ शहीद हुए
कुछ कैद हुए।
पर बुझी नहीं उनकी मशाल 
इन्कलाब की ।

आज भले कुछ घनघोर बादलों ने
पुरजोर साजिश रची है
सूरज को तमलीन करने की।
पर यहाँ के हर कण कण में
भगत सिंह और चन्द्रशेखर के
जज्बात आज भी जिन्दे हैं
जो इन्हें कभी भी
हारने देंगे नहीं।
Fighter


mere bhaarat desh ke mitti ki

baat bdi hi niraali hai।

yahaan janm lene vaale har shakhs ke khun men

chhipi hui ek chingaari hai।


ek se ek mahaan ldaaku

yahaan paidaa hua

samaaj men laane ko kraanti।

kuchh shahid hua

kuchh kaid hua।

par bujhi nahin unki mashaal

enklaab ki ।


aaj bhale kuchh ghanghor baadlon ne

purjor saajish rachi hai

suraj ko tamlin karne ki।

par yahaan ke har kan kan men

bhagat sinh aur chandrshekhar ke

jajbaat aaj bhi jinde hain

jo enhen kabhi bhi

haarne denge nahin।



Written by sushil kumar

11 Jan 2020

आजमा कर देख लो तुम भी : Aajma kar dekh lo tum bhi

Shayari


आजमा कर देख लो तुम भी

Aajma le

मैंने झपकी क्या मारी
तुमने तो मुझे प्रतियोगिता से ही बाहर समझ लिया।
अरे भाई ये मेरा अंत नहीं
मेरा आरम्भ है
मेरे जंग की
मेरी खुद से।

तुम भले मुझे आज हरा दो
पर मैं अजय हूँ
अजय ही रहूँगा
उस लम्हें तक
जब तक कि मैं खुद ही
अपनी हार स्वीकार ना कर लूँ।

ऐसी कोई शिकस्त की वजूद
इस दुनिया में है ही नहीं
जो मेरे हौसले को चकनाचूर कर सके।
और मेरे और मेरी जीत के बीच
दीवार बन सके।
मेरी साँसे
मेरे शरीर में बहते लहू
मुझे कभी हारने देंगे ही नहीं।
चाहे तो आजमा कर देख लो
तुम भी।






mainne jhapki kyaa maari

tumne to mujhe pratiyogitaa se hi baahar samajh liyaa।

are bhaai ye meraa ant nahin

meraa aarambh hai

mere jang ki

meri khud se।


tum bhale mujhe aaj haraa do

par main ajay hun

ajay hi rahungaa

us lamhen tak

jab tak ki main khud hi

apni haar svikaar naa kar lun।


aisi koi shikast ki vajud

es duniyaa men hai hi nahin

jo mere hausle ko chaknaachur kar sake।

aur mere aur meri jit ke bich

divaar ban sake।

meri saanse

mere sharir men bahte lahu

mujhe kabhi haarne nahin de sakte।


Written by sushil kumar

6 Jan 2020

जिंदगी की जिंदगी से होड़ है।jindgi ki jindgi se hod hai।

Shayari



जिंदगी की जिंदगी से होड़ है

हर कोई दिख रहा यहाँ बेखौफ है।
किसी को किसी की भी परवाह नहीं
मंजिल सर्वोपरि है किसी की भी जान से।


Draupadi


द्रोपदी लग रही है दाव पर
महाभारत काल से।
द्वापर युग में लाज रख ली थी
माखनचोर गोपाल ने।
पर अभी कौन बचाएगा
कलयुग के महा प्रभाव से।

भक्तो का रो रोकर आज बुरा हाल है
जहाँ देखा वहीं रावण का
बिछा हुआ गन्दा जाल है।
पर उस जाल से छुड़ाने वाले राम का
कहीं नहीं पता है।

आज ब्रह्मांड के हर कन कण से
बस यही आह्वान है।
हे ईश्वर इस धरती पर
ले कल्कि का अवतार प्रगट हो ।
कर विनाश इस कलयुग का
सतयुग का तू द्वार खोल।
Kalki



jindgi ki jindgi se hod hai

har koi dikh rahaa yahaan bekhauph hai।

kisi ko kisi ki bhi parvaah nahin

manjil sarvopari hai kisi ki bhi jaan se।


dropdi lag rahi hai daav par

mahaabhaarat kaal se।

dvaapar yug men laaj rakh li thi

maakhanchor gopaal ne।

par abhi kaun bachaaagaa

kalayug ke mahaa prbhaav se।


bhakto kaa ro rokar aaj buraa haal hai

jahaan dekhaa vahin raavan kaa

bichhaa huaa gandaa jaal hai।

par us jaal se chhudaane vaale raam kaa

kahin nahin pataa hai।


aaj brahmaand ke har kan kan se

bas yahi aahvaan hai।

he ishvar es dharti par

le kalki kaa avtaar pragat ho ।

kar vinaash es kalayug kaa

satayug kaa tu dvaar khol।


Written by sushil kumar






4 Jan 2020

तुम उड़ो Tum udo

Shayari


Flying

तुम उड़ो

सारा आसमान तुम्हारा है।
हिमालय की चोटी
और सारी कायनात तुम्हारा है।

कभी चोट लगे
तो ज़ख्म देख
कभी घबराना नहीं।
मंजिल तुम्हारी परीक्षा लेगी
अपने हौसले की सूरज को
कभी ढलने देना नहीं।

आज भले तुम्हारी चाल देख
लोगों की तुम पर हँसी छूट रही हो।
तुम्हारे गिरते पसीने देख
तुम भले उनके मजाक का पात्र
बन रहे हो।
पर तुम अपने पथ से
जरा भी ना अस्थिर होना।

लोगों की हँसी
कब मुस्कुराहट में बदल जाए।
और उनकी मुस्कुराहट कब सम्मान में
बदल जाए।
बस उस पल को हासिल करने को
तुम स्वयं से लड़ते रहना।



tum udo

saaraa aasmaan tumhaaraa hai।

himaalay ki choti

aur saari kaaynaat tumhaaraa hai।


kabhi chot lage

to jkhm dekh

kabhi ghabraanaa nahin।

manjil tumhaari parikshaa legi

apne hausle ki suraj ko

kabhi dhalne denaa nahin।


aaj bhale tumhaari chaal dekh

logon ki tum par hnsi chhut rahi ho।

tumhaare girte pasine dekh

tum bhale unke majaak kaa paatr

ban rahe ho।

par tum apne path se

jaraa bhi naa asthir honaa।


logon ki hnsi

kab muskuraahat men badal jaaa।

aur unki muskuraahat kab sammaan men

badal jaaa।

bas us pal ko haasil karne ko

tum svayan se ldte rahnaa।


Written by sushil kumar

3 Jan 2020

Meri zindagi mere rules,मेरी जिंदगी मेरे रूल्स।

Shayari


मेरी जिंदगी 

मेरे रूल्स।
अपने हिस्से के गम किसी से बाँटता नहीं।
खुशी के लम्हों को सहेज कर रखता नहीं।

जो भी पल आए
जैसा भी समय दिखाए।
जिंदादिली के साथ 
जीने की कोशिश में रहता हूँ मैं।

कोई शिकवा नहीं
किसी से शिकायत नहीं।
मेरे रोजमर्रे की जिंदगी के
लायक हूँ मैं।

जितना मिला!
बहुत दिया इस जिंदगी ने
अपने भाग्य पर बहुत इतराता हूँ मैं।
कर्म ऐसे हों
जिससे सभी का भला हो
ऐसी सोच रखकर दिल में
कदम बढ़ाता हूँ मैं।

Meri zindagi


meri jindgi 

mere ruls।

apne hisse ke gam kisi se baanttaa nahin।

khushi ke lamhon ko sahej kar rakhtaa nahin।


jo bhi pal aaa

jaisaa bhi samay dikhaaa।

jindaadili ke saath 

jine ki koshish men rahtaa hun main।


koi shikvaa nahin

kisi se shikaayat nahin।

mere rojamarre ki jindgi ke

laayak hun main।


jitnaa milaa!

bahut diyaa es jindgi ne

apne bhaagy par bahut etraataa hun main।

karm aise hon

jisse sabhi kaa bhalaa ho

aisi soch rakhakar dil men

kadam bdhaataa hun main।





Written by sushil kumar


2 Jan 2020

Duniya ko badalne mai chala tha.दुनिया को बदलने चला था

Shayari




दुनिया को बदलने चला था

लोगों ने मुझे बदल दिया।
अँधेरा छाँटते छाँटते मंजर से
मैं खुद तमस में घुल गया।

ऐसा कैसे हुआ?
क्यों हुआ?
मुझे जरा भी अंदाजा ना हुआ।

शायद मैं लड़ते लड़ते
अंधेरे से थक गया।
या फिर
किसी को न्याय दिलाने के खातिर
मैं अपनी आहुति दे गया।
या फिर किसी अपने ने
पीठ में छुरा भोंक दिया।
जिसके लिए मैने
जिंदगी भर था लड़ा।



duniyaa ko badalne chalaa thaa

logon ne mujhe badal diyaa।

andheraa chhaantte chhaantte manjar se

main khud tamas men ghul gayaa।


aisaa kaise huaa?

kyon huaa?

mujhe jaraa bhi andaajaa naa huaa।


shaayad main ldte ldte

andhere se thak gayaa।

yaa phir

kisi ko nyaay dilaane ke khaatir

main apni aahuti de gayaa।

yaa phir kisi apne ne

pith men chhuraa bhonk diyaa।

jiske lia maine

jindgi bhar thaa ldaa।





Written by sushil kumar

1 Jan 2020

Happy new year 2020!नव वर्ष २०२० की शुभकामनाएं।

Shayari


मेहनत इतनी करो

की आदत बन जाए।
हार से फर्क कुछ ना पड़े
पर जीत सुनिश्चित हो जाए।

जो मंजिल आसानी से मिल जाए
फिर क्या मजा दिल को आए?
जब तक कि चोट लगे नहीं जबरदस्त
गिरे धड़ाम से नहीं जमीन पर!
पर कदम नहीं थमने को तैयार हो
आसमान को छूने को बेकरार हो।
ऐसे गन्तव्य को पाने का
आनन्द की कुछ और है।

सो डटे रहो हमारे संग
अपने जीवन के
बुलन्दियों को स्पर्श करने को।

सभी को २0२0 की ढेर सारी शुभकामनाएं।

जय हिंद!
जय भारत!


mehanat etni karo

ki aadat ban jaaa।

haar se phark kuchh naa pde

par jit sunishchit ho jaaa।


jo manjil aasaani se mil jaaa

phir kyaa majaa dil ko aaa?

jab tak ki chot lage nahin jabaradast

gire dhdaam se nahin jamin par!

par kadam nahin thamne ko taiyaar ho

aasmaan ko chhune ko bekraar ho।

aise gantavy ko paane kaa

aanand ki kuchh aur hai।


so date raho hamaare sang

apne jivan ke

bulandiyon ko sparsh karne ko।


sabhi ko 2020 ki dher saari shubhkaamnaaan।


jay hind!

jay bhaarat!


Shayari
Written by sushil kumar

अभिमान है मुझे:abhimaan hai mujhe

अभिमान है मुझे। Shayari मेरे भारत देश के मिट्टी की  बात बड़ी ही निराली है। यहाँ जन्म लेने वाले हर शख्स के खून में छिपी हुई एक...