Sunday, 14 March 2021

Jiwan ki sachchai par shayari

 Jiwan ki sachchai par shayari

जीवन की सच्चाई पर शायरी।

Jiwan ki sachchai par shayari


1.


मैं मुझसे हो ना पाया जुदा


करता हूँ जो मोहब्बत खुद से


बेइंतहा।



2*


करने चला था दुनिया पे फतह


मगर हार गया वो आखिरी जंग मैं


मुझसे 



3*


मिटाने चला था 


बुराई को जमाने से।


सदमा लगा मुझे


जब पता चला


मुझसा कोई बुरा नहीं


इस जमाने में।



4*


रंग अनेक हैं खुशियों के


हमारे जीवन में।


बस उन पलों को 


जीने का सबक 


सही ढंग से हमने पढ़ा हो।






Jiwan ki sachchai par shayari



main mujhse ho naa paayaa judaa


kartaa hun jo mohabbat khud se


beenthaa।



2*


karne chalaa thaa duniyaa pe phatah


magar haar gayaa vo aakhiri jang main


mujhse 



3*


mitaane chalaa thaa 


buraai ko jamaane se।


sadmaa lagaa mujhe


jab pataa chalaa


mujhsaa koi buraa nahin


es jamaane men।



4*


rang anek hain khushiyon ke


hamaare jivan men।


bas un palon ko 


jine kaa sabak 


sahi dhang se hamne pdhaa ho।




Jiwan ki sachchai par shayari

Written by sushil kabira










Saturday, 13 March 2021

_bank bachaao desh bachaao_*

 _bank bachaao desh bachaao_* 

_bank bachaao desh bachaao_*


*_बैंक बचाओ देश बचाओ_* 


चौकीदार चौकीदार

काहे तुम बन गए सरदार

घर हमारा बेच रहे हो

दलदल में हमें धकेल रहे हो।

मित्रो मित्रो बोल बोल के

अपनी रोटी सेंक रहे हो।

मै देश नहीं बिकने दुगा

ये कह के ललकारा था।

अब खुद ही 

देश को बेच रहे हो

झूठा तुम्हारा नारा था।

सत्तर सालो में जो किसी ने

देश के लिए संपत्ति बनाई।

उसको बेचने पे तुली हुई है

आपकी प्यारी अपनी ताई।

घर गरीबों के टूट रहे है

दोस्त तुम्हारे लूट रहे है।

देशभक्ति के रंग तुम्हारे

धीरे धीरे छूट रहे हैं।

युवा देश का भूखा बैठा

अपने पेट को रोस रहा है।

नौकरियों की आस में बैठा

अपनी किस्मत कोस रहा है।

बिकते हुए संस्थानों के बीच

कोई नोकरी पाए कैसे?

जिन्होंने पहले से नोकरी पा ली

वो स्वयं को बचाए कैसे?

देश को बेचना छोड़ दो अब तुम

खून हमारा खौल रहा है।

निर्णय अपना बदल लो अब तुम 

देश का युवा बोल रहा है।

हम_एक_हैं

हम एक थे 

और हम एक ही रहेंगे।

देश को बचाने के खातिर

हम अब तुमसे 

युद्ध करेंगे।

करलो राजनीति 

जितनी करनी है।

पर अब तुमको झुकना ही होगा।

देश की संप्रुभता के खातिर

अब तुमको बस 

यहाँ से

रुकना ही होगा।


 *_bank bachaao desh bachaao_* 



chaukidaar chaukidaar


kaahe tum ban gaye sardaar


ghar hamaaraa bech rahe ho


daladal men hamen dhakel rahe ho।


mitro mitro bol bol ke


apni roti senk rahe ho।


mai desh nahin bikne dugaa


ye kah ke lalkaaraa thaa।


ab khud hi 


desh ko bech rahe ho


jhuthaa tumhaaraa naaraa thaa।


sattar saalo men jo kisi ne


desh ke lia sampatti banaai।


usko bechne pe tuli hui hai


aapki pyaari apni taai।


ghar garibon ke tut rahe hai


dost tumhaare lut rahe hai।


deshabhakti ke rang tumhaare


dhire dhire chhut rahe hain।


yuvaa desh kaa bhukhaa baithaa


apne pet ko ros rahaa hai।


naukariyon ki aas men baithaa


apni kismat kos rahaa hai।


bikte hua sansthaanon ke bich


koi nokri paaa kaise?


jinhonne pahle se nokri paa li


vo svayan ko bachaaa kaise?


desh ko bechnaa chhod do ab tum


khun hamaaraa khaul rahaa hai।


nirnay apnaa badal lo ab tum 


desh kaa yuvaa bol rahaa hai।


ham_ek_hain


ham ek the 


aur ham ek hi rahenge।


desh ko bachaane ke khaatir


ham ab tumse 


yuddh karenge।


karlo raajniti 


jitni karni hai।


par ab tumko jhuknaa hi hogaa।


desh ki samprubhtaa ke khaatir


ab tumko bas 


yahaan se


ruknaa hi hogaa।




_bank bachaao desh bachaao_* 

Written by Sushil


Wednesday, 10 March 2021

Malum hai..

 Malum hai.

मालूम है  

तुम मुझे समझ गए हो!

मुझे जान भी गए हो!


पर समझे वही हो

जो मै तुम्हे समझाना चाहता था।

जाने वही हो 

जो मै तुम्हें बताना चाहता था।


अक्सर यहां लोग भूल कर जाते हैं।

जाने अनजाने 

गैरों में 

अपनो को तलाशते हैं।


पर इस जीवन की मरुस्थल में 

ताल हर जगह नजर आता है।

नजदीक जाने पर 

मृगतृष्णा पल भर में टूट जाता है।


इसलिए आज कदम मैं 

फूंक फूंक कर 

यहां रखता हूं।

पता नहीं कल को फिर से 

कोई तन्हा कर 

फुर्र हो जाए कहीं।


Written by sushil kabira











Sunday, 28 February 2021

Kisi ko kyaa??

 Kisi ko kyaa??

Kisi ko kya??


लोगों को मैं पसन्द नहीं

मुझे कुछ उसमे 

मलाल नहीं।


मैं जो चाहूँ

वो करूँ।

जिसके साथ चाहूँ

रहूँ।


दिन में 

सोया रहूँ।

रातों को

रंगीन करूँ।


किसी को क्या??

मेरे  मन में आए

वो करूँ।

किसी के डैडी से

क्यों  मैं डरूँ।


जब चाहे मैं

पार्टी करूँ।

जितना भी  चाहे

दारू पीऊं।

दोस्तों संग 

खूब ऐश करूँ।

किसी को क्या??


किसी को क्या??

किसी को क्या??


जीवन को 

खुल के मैं जिऊँ।

या उसे किसी 

दरिया में डुबो दूँ।


किसी को क्या??

किसी को क्या??



Logon ko main pasand nahin

Mujhe kuchh usme

Malal nahin


Main jo chahun

Vo karun.

Jiske sath chahun

Rahun.

Din me soyaa rahun.

Raaton ko 

Rangeen karoon।


Kisi ko kyaa??

Mere mann mein aae

Vo karoon.

Kisi ke daddy se

Kyun main daroon?

jab chaahe main

paarti karun।


jitnaa bhi  chaahe

daaru piun।

doston sang 

khub aish karun।

kisi ko kyaa?


Kisi ko kyaa??

Kisi ko kyaa??


jivan ko 

khul ke main jiun।

yaa use kisi 

dariyaa men dubo dun।



kisi ko kyaa??

kisi ko kyaa??



Kisi ko kyaa??

Written by sushil kabira

Wednesday, 27 January 2021

logon ke kahne men naa aanaa tum

logon ke kahne men naa aanaa tum

logon ke kahne men naa aanaa tum



लोगों के कहने में ना आना तुम

लोग तो कहते हैं

दीवाने हैं हम।


मर मरकर 

जी रहे हैं

हम सभी यहाँ।

पल दो पल की

खुशी पाने के लिए।


पर हम भी कहाँ पीछे थे

उस दौड़ में।

हाथ पांव मार रहे थे

अपनी हिस्से की खुशी

पाने को।


अपनी खुशी के एहसास में

मैं खुद में कहीं गुम था।

घनी वेदना में तड़पते बच्चे को देख

मेरे पुलकित मन को

लगा था झटका।


उस बच्चे ने झकझोर दिया था

मेरे अस्तित्व को तोड़ दिया था।

क्या वाकई खुशी पाई थी मैने??

या भ्रम पाल रखा था अभी तक??

स्वयं की व्यथा पर जीत हासिल कर

क्या कोई खुशी का पान कर सकता है?

नहीं।

नहीं।

नहीं।


जो किसी दीन की वेदनाओं को

दूर करे तो।

उससे बड़ा सन्तुष्ट 

कोई 

कौन हो सकता है भी क्या?


ऐसी जिंदगी किस काम की

जो किसी जरूरतमंद के 

काम ना आ सके।


logon ke kahne men naa aanaa tum


logon ke kahne men naa aanaa tum


log to kahte hain


divaane hain ham।



mar marakar 


ji rahe hain


ham sabhi yahaan।


pal do pal ki


khushi paane ke lia।



par ham bhi kahaan pichhe the


us daud men।


haath paanv maar rahe the


apni hisse ki khushi


paane ko।



apni khushi ke ehsaas men


main khud men kahin gum thaa।


ghani vednaa men tdapte bachche ko dekh


mere pulakit man ko


lagaa thaa jhatkaa।



us bachche ne jhakjhor diyaa thaa


mere astitv ko tod diyaa thaa।


kyaa vaakaayi khushi paai thi maine??


yaa bhram paal rakhaa thaa abhi tak??


svayan ki vythaa par jit haasil kar


kyaa koi khushi kaa paan kar saktaa hai?


nahin।


nahin।


nahin।



jo kisi din ki vednaaon ko


dur kare to।


usse bdaa santusht 


koi 


kaun ho saktaa hai bhi kyaa?



aisi jindgi kis kaam ki


jo kisi jaruratamand ke 


kaam naa aa sake।




logon ke kahne men naa aanaa tum

Written by sushil kabira

Tuesday, 5 January 2021

naaye varsh ki, nayi subah kaa

 

naaye varsh ki, nayi subah kaa

naaye varsh ki, nayi subah kaa


नए वर्ष की 

नई सुबह का

नया कलाम लिखने आया हूँ।

मैं इंसानी दुनिया में

एक नया आयाम 

पाने आया हूँ।


नफ़रत की जमीन को

प्यार की बूंदों से सींच

उनमें खुशियों के फसल 

लहलहाने आया हूँ।


घनी दुख वाली 

काली रात की गाढ़े आँचल में

खुशी और उत्साह के प्रतीक

चाँद तारे बन

टिमटिमाने आया हूँ।


कभी जो तू बंजर हो

सारे दुख क्लेश से परेशान रहे।

तो मैं तेरी वेदना की फर्श पर

खुशी और उत्साह की बारिश बनकर

तुझे भिंगो 

शान्ति प्रदान करने आया हूँ।







 naaye varsh ki 


nayi subah kaa


nayaa kalaam likhne aayaa hun।


main ensaani duniyaa men


ek nayaa aayaam 


paane aayaa hun।



nfarat ki jamin ko


pyaar ki bundon se sinch


unmen khushiyon ke phasal 


lahalhaane aayaa hun।



ghani dukh vaali 


kaali raat ki gaadhe aanchal men


khushi aur utsaah ke prtik


chaand taare ban


timatimaane aayaa hun।



kabhi jo tu banjar ho


saare dukh klesh se pareshaan rahe।


to main teri vednaa ki pharsh par


khushi aur utsaah ki baarish banakar


tujhe bhingo 


shaanti prdaan karne aayaa hun।




naaye varsh ki, nayi subah kaa

Written by sushil kabira






Friday, 1 January 2021

Nayaa nayaa saal hai:"Happy new year"

Naya naya saal hai.



 नया नया साल है।

नया नया विश्वास है।

अपने रिश्तों के जोड़ को

और मजबूत करने को 

दिल में यकीन है।


एक कदम मैं बढ़ाऊँ

आप भी एक कदम बढ़ाएंगे।

अपने बिच की प्रतीति को

हम और दृढ़ किए जाएँगे।


नए साल में

भरपूर गर्मजोशी के साथ

हम एक दूजे के साथ 

निभाएंगे।

अपने बिच के सम्बन्ध को

हम और मधुर किए जाएंगे।


सुख हो 

या हो कोई दुख।

या हो कोई 

घनी विपदा हम पर।

पर एक दूजे का साथ कभी 

हम नहीं छोड़ पाएँगे।


आपको नए साल की ढेर सारी असंख्य शुभकामनाएं।




nayaa nayaa saal hai।

nayaa nayaa vishvaas hai।

apne rishton ke jod ko

aur majbut karne ko 

dil men yakin hai।


ek kadam main bdhaaun

aap bhi ek kadam bdhaaange।

apne bich ki prtiti ko

ham aur dridh kia jaaange।


naye saal men

bharpur garmjoshi ke saath

ham ek duje ke saath 

nibhaaange।

apne bich ke sambandh ko

ham aur madhur kia jaaange।


sukh ho 

yaa ho koi dukh।

yaa ho koi 

ghani vipdaa ham par।

par ek duje kaa saath kabhi 

ham nahin chhod paaange।


aapko naye saal ki dher saari asankhy shubhkaamnaaan।


Nayaa nayaa saal hai: Happy new year

Jiwan ki sachchai par shayari

 Jiwan ki sachchai par shayari जीवन की सच्चाई पर शायरी। 1. मैं मुझसे हो ना पाया जुदा करता हूँ जो मोहब्बत खुद से बेइंतहा। 2* करने चला था दुनि...