Monday, 31 August 2020

Main chalaa tha kal akela

 Main chalaa tha kal akela


मैं चला था

कल अकेला।

कारवां बनता चला गया।


कुछ लोगों को मेरे गीत पसन्द आए।

कुछ लोगों को मेरे संगीत।

कुछ लोगों को मेरे विचार पसन्द आए।

तो कुछ भीड़ देखकर पीछे हो लिए।


पर धीरे धीरे ही सही

सभी एक स्वर में गुनगुनाने लगे।

मेरी क्रांति की चिंगारी 

आज ज्वाला बन 

सारे जग को 

सही राह दिखाने में लग चुकी है।


मैं रहूँ आगे

या ना रहूँ।

पर मेरी क्रांति के मशाल की

अखण्ड ज्योति 

सदा जलती रहेगी।

और संसार को यूँही 

सही दिशा

तत्पर दिखाती रहेंगी।


Main chalaa tha kal akela


main chalaa thaa


kal akelaa।


kaarvaan bantaa chalaa gayaa।



kuchh logon ko mere git pasand aaa।


kuchh logon ko mere sangit।


kuchh logon ko mere vichaar pasand aaa।


to kuchh bhid dekhakar pichhe ho lia।



par dhire dhire hi sahi


sabhi ek svar men gunagunaane lage।


meri kraanti ki chingaari 


aaj jvaalaa ban 


saare jag ko 


sahi raah dikhaane men lag chuki hai।



main rahun aage


yaa naa rahun।


par meri kraanti ke mashaal ki


akhand jyoti 


sadaa jalti rahegi।


aur sansaar ko yunhi 


sahi dishaa


tatpar dikhaati rahengi।




Main chalaa tha kal akela
Main chalaa tha kal akela


main chalaa thaa kal akelaa।

Written by sushil kabira



Tuesday, 25 August 2020

khaamosh panne mere zindgi ke

 Khamosh panne mere zindagi ke


khaamosh panne mere zindgi ke

खामोश पन्ने मेरे ज़िंदगी के

मेरी कशमकश बयान कर रही है।

स्वयं से 

मेरे युद्ध में

मेरे आधे आधे में बंटने 

का जिक्र कर रही है।


भले मेरा तन चल रहा है

आज भी तेरे संग में।

पर मेरी रूह कहीं पीछे छूट गई है

किसी गैर की चाहत में।


अक्सर तू तू मैं मैं

हो जाया करती है 

जिंदगी से

समय के साथ चलने की 

जिद्द में

मैं अक्सर दो कदम 

पीछे छूट जाया करता हूँ।


मैं चाहता हूँ

कुछ हँस लूँ।

कुछ लम्हें खुशी के

जी लूँ।

पर वो पल भी

कहीं गुम गएँ हैं।

समय के साथ

कहीं पीछे वो छूट गए हैं।


मैं खुश था उनके लिए

जो मेरे संग थे।

ताकि वो खुश रहें

भले मैं तन्हा रहूँ भरी महफ़िल में।


मेरे आँसू 

मेरी उदासी

मेरे दर्द

मेरे तकलीफ

सदा मेरे साथ निभाते हैं

मेरी तन्हाई में।

मानो 

जैसे वो मेरे घनिष्ठ मित्र हैं

लाखों जन्मों से।


हाँ!

पर अब बहुत हो गया

बहुत जी लिया 

इस बेरंग जीवन के संग।

अब समय आ गया है 

कि अपने वर्तमान को हम

जी खोल के जी लें।

हर छोटे मोटे लम्हों में

अपनी खुशियों को पिरोलें।

कुछ खुशियां 

हम अपनी 

किसी को उधार दे दें।

जब कुछ अपनी वेदनाएं बढ़ने लगे

तो किसी से

कुछ खुशी 

उधार ले लें।


बस यूँही हम 

एक दूजे से

प्यार का 

आदान प्रदान करते रहें।

और जीवन के हर लम्हों को

हम प्यार से 

एक दूजे के संग

संजोते रहें।



 khaamosh panne mere zindgi ke



khaamosh panne mere zindgi ke


meri kashamakash bayaan kar rahi hai।


svayan se 


mere yuddh men


mere aadhe aadhe men bantne 


kaa jikr kar rahi hai।



bhale meraa tan chal rahaa hai


aaj bhi tere sang men।


par meri ruh kahin pichhe chhut gayi hai


kisi gair ki chaahat men।



aksar tu tu main main


ho jaayaa karti hai 


jindgi se।


samay ke saath achalne ki 


jidd men


main aksar do kadam 


pichhe chhut jaayaa kartaa hun।



main chaahtaa hun


kuchh hnas lun।


kuchh lamhen khushi ke


ji lun।


par vo pal bhi


kahin gum gan hain।


samay ke saath


kahin pichhe vo chhut gaye hain।



main khush thaa unke lia


jo mere sang the।


taaki vo khush rahen


bhale main tanhaa rahun bhari mahfil men।



mere aansu 


meri udaasi


mere dard


mere takliph


saare mere saath nibhaate hain


meri tanhaai men।


maano 


jaise vo mere ghanishth mitr hain


laakhon janmon se।



haan!


par ab bahut ho gayaa


bahut ji liyaa 


es berang jivan ke sang।


ab samay aa gayaa hai 


ki apne vartmaan ko ham


ji khol ke ji len।


har chhote mote lamhon men


apni khushiyon ko pirolen।


kuchh khushiyaan 


ham apni 


kisi ko udhaar de den।


jab kuchh apni vednaaan bdhne lage


to kisi se


kuchh khushi 


udhaar le len।



bas yunhi ham 


ek duje se


pyaar kaa 


aadaan prdaan karte rahen।


aur jivan ke har lamhon ko


ham pyaar se 


ek duje ke sang


sanjote rahen।




khaamosh panne mere zindgi ke

Written by sushil kabira


































Saturday, 22 August 2020

mere priy sadguru

mere priy sadguru


mere priy sadguru



कुछ नाकामयाब 

अधूरे

दबे कुचले से

और टूटे हुए थे

कर्म के नक्शे मेरे।


ना जाने कहीं 

घनघोर अंधियारे में 

गुम चुका था मैं

अपने जीवन के 

सार और उद्देश्य अपने।


लक्ष्य टूटने से

कर्म छूटे।

और कर्म छूटते ही

सही पथ छूटे।


अज्ञात पथ पर 

मैं अबोध

भटकता हुआ

स्वयं से दूर 

चला जा रहा था।


पर आज फिर से

उन बेजान कर्म के 

साख में

एक नई उम्मीद की ऊर्जा

जगा दी है 

किसी ने।


उनके आते ही 

वो लुप्त होते मेरे ध्येय

पुनर्जीवित होने को 

आतुर दिख रहे हैं।


संमार्ग और मार्गदर्शक 

दोनों जो मिल गए।

मुझे मिल गया

मेरे जीने का मकसद।


मैं हारकर भी 

हारा नहीं

स्वयं से।

क्योंकि मिल गए हैं 

आज मुझे 

मेरे प्रिय सद्गुरु।




mere priy sadguru


kuchh naakaamyaab 


adhure


dabe kuchle se


aur tute hua the


karm ke nakshe mere।



naa jaane kahin 


ghanghor andhiyaare men 


gum chukaa thaa main


apne jivan ke 


saar aur uddeshy apne।



lakshy tutne se


karm chhute।


aur karm chhutte hi


sahi path chhute।



ajyaat path par 


main abodh


bhataktaa huaa


svayan se dur 


chalaa jaa rahaa thaa।



par aaj phir se


un bejaan karm ke 


saakh men


ek nayi ummid ki urjaa


jagaa di hai 


kisi ne।



unke aate hi 


vo lupt hote mere dhyey


punarjivit hone ko 


aatur dikh rahe hain।



sammaarg aur maargadarshak 


donon jo mil gaye।


mujhe mil gayaa


mere jine kaa makasad।



main haarakar bhi 


haaraa nahin


svayan se।


kyonki mil gaye hain 


aaj mujhe 


mere priy sadguru।




mere priy sadguru

Written by sushil kumar






Sunday, 16 August 2020

raajniti ke kichd men

raajniti ke kichd men

राजनीति के कीचड़ में
वो उतरा था गन्दगी हटाने को।
क्या पता था ??
वो खुद ही रम जाएगा
स्वयं के दाग छुपाने को।

वादा किया था उस मर्दाने ने
जनलोकपाल विधेयक लाने को।
सारा दिल्ली ढूंढ रही है
आज तक।
कहाँ छिप गए हैं जनलोकपाल
जिन्हें केजरीवाल बाबा को लाने थे।

राजनीति के कीचड़ में
वो उतरा था गन्दगी हटाने को।
क्या पता था ??
वो खुद ही रम जाएगा
स्वयं के दाग छुपाने को।

वो घोटालों की बाढ़ रोकने को
उतरा था
सुशासन का बाँध बांधने को।
पर वह बाँध तो बनता रह गया
घोटालों की बारिश हो गई।

राजनीति के कीचड़ में
वो उतरा था गन्दगी हटाने को।
क्या पता था ??
वो खुद ही रम जाएगा
स्वयं के दाग छुपाने को।

आधी दरों पर
बिजली देने का वादा कर।
वो आगया शासन में।
दर हो गई है
आज दुगुनी
पर वो आप का नेता
अब गायब है।

राजनीति के कीचड़ में
वो उतरा था गन्दगी हटाने को।
क्या पता था ??
वो खुद ही रम जाएगा
स्वयं के दाग छुपाने को।

चला था वो बनने नायक
2001 की नायक दोहराने को।
पर भ्रष्टाचार लिप्त प्रणाली में
वो ऐसा गुमा ।
आज लोग पा रहे हैं उसे
भ्रष्टाचार के महखाने में।

राजनीति के कीचड़ में
वो उतरा था गन्दगी हटाने को।
क्या पता था ??
वो खुद ही रम जाएगा
स्वयं के दाग छुपाने को।

आदमी कैसा भी हो?
जल कितना भी निर्मल हो?
राजनीति की जहरीले तरल में मिलकर
वो भी जहरीला हो ही जाता है।

राजनीति के कीचड़ में
वो उतरा था गन्दगी हटाने को।
क्या पता था ??
वो खुद ही रम जाएगा
स्वयं के दाग छुपाने को।




Rajneeti ke kichad me


raajniti ke kichd men

vo utraa thaa gandgi hataane ko।

kyaa pataa thaa ??

vo khud hi ram jaaagaa

svayan ke daag chhupaane ko।


vaadaa kiyaa thaa us mardaane ne

janlokpaal vidheyak laane ko।

saaraa dilli dhundh rahi hai

aaj tak।

kahaan chhip gaye hain janlokpaal

jinhen kejrivaal baabaa ko laane the।


raajniti ke kichd men

vo utraa thaa gandgi hataane ko।

kyaa pataa thaa ??

vo khud hi ram jaaagaa

svayan ke daag chhupaane ko।


vo ghotaalon ki baadh rokne ko

utraa thaa

sushaasan kaa baandh baandhne ko।

par vah baandh to bantaa rah gayaa

ghotaalon ki baarish ho gayi।


raajniti ke kichd men

vo utraa thaa gandgi hataane ko।

kyaa pataa thaa ??

vo khud hi ram jaaagaa

svayan ke daag chhupaane ko।


aadhi daron par

bijli dene kaa vaadaa kar।

vo aagyaa shaasan men।

dar ho gayi hai

aaj duguni

par vo aap kaa netaa

ab gaayab hai।


raajniti ke kichd men

vo utraa thaa gandgi hataane ko।

kyaa pataa thaa ??

vo khud hi ram jaaagaa

svayan ke daag chhupaane ko।


chalaa thaa vo banne naayak

2001 ki naayak dohraane ko।

par bhrashtaachaar lipt prnaali men

vo aisaa gumaa ।

aaj log paa rahe hain use

bhrashtaachaar ke mahkhaane men।


raajniti ke kichd men

vo utraa thaa gandgi hataane ko।

kyaa pataa thaa ??

vo khud hi ram jaaagaa

svayan ke daag chhupaane ko।


aadmi kaisaa bhi ho?

jal kitnaa bhi nirmal ho?

raajniti ki jahrile taral men milakar

vo bhi jahrilaa ho hi jaataa hai।


raajniti ke kichd men

vo utraa thaa gandgi hataane ko।

kyaa pataa thaa ??

vo khud hi ram jaaagaa

svayan ke daag chhupaane ko।



raajniti ke kichd men
Written by sushil kumar


Sau jakhm apne hisse pe

Sau jakhm apne hisse pe

सौ जख्म अपने हिस्से पे
सह लूँगा मैं  हँसते हँसते।
दर्द के हर पैनी वार को
मैं समा लूँगा
बिना सिसकते सिसकते।

पर किसी अपने को
नाम मात्र का खरोंच भी जो हो।
और उसकी एक छोटी सी आह पर
मुझे घनी वेदनाओं की अहसास से
जिस्म हमारा
छलनी किए जाती है।

ऐसे ही नहीं कोई
अपना हमें
स्वयं से भी प्यारा हो जाता है।
अपनी हर खुशी पर जिनकी
सबसे बड़ी हिस्सेदारी बनती है।
और उनके हर दुख के दाग को
अपनी खुशियों के सर्फ से धोने की
सदा हममें बेकरारी होती है।



Sau jakhm apne hisse pe

sau jakhm apne hisse pe

sah lungaa main  hnaste hnaste।

dard ke har paini vaar ko

main samaa lungaa

binaa sisakte sisakte।


par kisi apne ko

naam maatr kaa kharonch bhi jo ho।

aur uski ek chhoti si aah par

mujhe ghani vednaaon ki ahsaas se

jism hamaaraa

chhalni kia jaati hai।


aise hi nahin koi

apnaa hamen

svayan se bhi pyaaraa ho jaataa hai।

apni har khushi par jinki

sabse bdi hissedaari banti hai।

aur unke har dukh ke daag ko

apni khushiyon ke sarph se dhone ki

sadaa hammen bekraari hoti hai।



Sau jakhm apne hisse pe


Written by sushil kabira








Sunday, 9 August 2020

Dost tumhen yaad hai naa!

Dost tumhen yaad hai naa!



Dost tumhen yaad hai naa!


वो बचपन की मेरी

कभी ना खत्म होने वाली खुशी।

वो तेरी बातों पे 

कभी ना थमने वाली हँसी।

दोस्त तुम्हें याद है ना!


मैं आज भी उन अद्भुत पलों को स्मरण कर 

खुशी से गद गद हो जाया करता हूँ।

तेरे संग बिताए हर उन सुनहरे क्षणों को

पुनः जीने की ख्वाहिश रखता हूँ।


क्या तुम आज भी मुझे 

उसी प्रकार हँसाने में सक्षम हो?

या समय के थपेड़ों ने 

तुम्हें बदल कर रख दिया है?

या तुम्हें कोई

मुझसे प्रिय साथी मिल गया है

तुम्हारे सुर पे ताल बैठाने को?


माना कि तुम्हें 

मुझसे प्रिय साथी मिल गया होगा

तुम्हारी जिन्दगी सजाने को।

पर मुझसा श्रोता 

और तेरी गोल गोल बातों पर 

गला फाड़ फाड़कर हंसने वाला

शायद ही कभी तुम्हें कोइ मिल पाया होगा?


मैं आज भी तुम्हें सुनने को 

यहाँ अधीर बैठा हूँ।

तेरी बेढंगी बातों पर हंसने को 

बेताब बैठा हूँ।

बस उस दिन,

उस पल का 

बेसब्री से इंतज़ार कर रहा हूँ।

जब तुम मुझे दुबारा 

अपनी गोल मटोल बातें सुनाओगे

और मैं तुम्हारे बिना ओर-छोर की बातों पर 

फिर से प्रसन्नता हो 

झूम उठूँगा



Dost tumhen yaad hai naa!


vo bachapan ki meri


kabhi naa khatm hone vaali khushi।


vo teri baaton pe 


kabhi naa thamne vaali hnsi।


dost tumhen yaad hai naa!



main aaj bhi un adbhut palon ko smaran kar 


khushi se gad gad ho jaayaa kartaa hun।


tere sang bitaaa har un sunahre kshnon ko


punah jine ki khvaahish rakhtaa hun।



kyaa tum aaj bhi mujhe 


usi prkaar hnsaane men saksham ho?


yaa samay ke thapedon ne 


tumhen badal kar rakh diyaa hai?


yaa tumhen koi


mujhse priy saathi mil gayaa hai


tumhaare sur pe taal baithaane ko?



maanaa ki tumhen 


mujhse priy saathi mil gayaa hogaa


tumhaari jindgi sajaane ko।


par mujhsaa shrotaa 


aur teri gol gol baaton par 


galaa phaad phaadkar hansne vaalaa


shaayad hi kabhi tumhen koe mil paayaa hogaa?



main aaj bhi tumhen sunne ko 


yahaan adhir baithaa hun।


teri bedhangi baaton par hansne ko 


betaab baithaa hun।


bas us din,


us pal kaa 


besabri se entjaar kar rahaa hun।


jab tum mujhe dubaaraa 


apni gol matol baaten sunaaoge


aur main tumhaare binaa or-chhor ki baaton par 


phir se prasanntaa ho 


jhum uthungaa





Dost tumhen yaad hai naa!

Written by sushil kabira




Wednesday, 29 April 2020

Vairagi shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do


Vairagi Shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do








Vairagi shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do
Vairagi shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do



मुझे मेरे हालात पे छोड़ दो

ज्यादा परेशान मत करो।

एक मेहरबानी कर दो मुझपर

ज्यादा मेहरबान मत हो ।


अपनी बनावटी फिक्र 

अपने पास ही रखो।

मुझे मेरे हाल में

बदहाल ही रहने दे।


मैं जी लूँगा

अपनी जीवन के हर पन्ने को खुशी खुशी।

पर किसी मतलबी का साथ 

बिच राह में 

मुझे अकेला छोड़ जाने वाला नहीं चाहिए।


माना!

माना कि जीवन मेरा काँटो से भरा है।

हर पग पर बिछे शीशे के टुकड़े 

मेरे धैर्य की परीक्षा लेने को बेसब्र हैं।

पर वो झूठे मरहम और दवाइयां नहीं चाहिए

जो मुझे मेरे लक्ष्य से भटकाने को आतुर दिखते हैं।



जख्म होंगे!

जरूर होंगे।

और आगे जाकर

समय उसे भर भी देगा।

पर जो मैं अपने लक्ष्य को 

भेद ना पाया

तो मेरा समय शायद मुझे

अंधकार में धकेल दे।

और फिर मैं शायद ही

खुद को 

कभी तलाश कर पाऊँगा।


इसलिए कहता हूँ।

तुम अपने ढकोसले अपनापन को 

अपने पास ही रखो।

मैं तो हो गया हूँ वैरागी

अपने मंजिल को पाने को।


माना मेरा साक्षात्कार हुआ है

आज खुद का खुदसे।

मेरे आँखों पर लगी अदृश्य चश्मा

मैने आज उतार फेंकी है।

सारे बन्धन झूठे दिख रहे हैं

जिसे मान बैठा था अपने।

यहाँ तो मैं स्वयं को ही खो चुका था

इन बाहरी झूठे आडम्बरो में।



Vairagi shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do
Vairagi shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do



Vairagi shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do


mujhe mere haalaat pe chhod do

jyaadaa pareshaan mat karo।

ek meharbaani kar do mujhapar

jyaadaa meharbaan mat ho ।


apni banaavti phikr 

apne paas hi rakho।

mujhe mere haal men

badhaal hi rahne de।


main ji lungaa

apni jivan ke har panne ko khushi khushi।

par kisi matalbi kaa saath 

bich raah men 

mujhe akelaa chhod jaane vaalaa nahin chaahia।


maanaa!

maanaa ki jivan meraa kaanto se bharaa hai।

har pag par bichhe shishe ke tukde 

mere dhairy ki parikshaa lene ko besabr hain।

par vo jhuthe maraham aur davaaeyaan nahin chaahia

jo mujhe mere lakshy se bhatkaane ko aatur dikhte hain।


jakhm honge!

jarur honge।

aur aage jaakar

samay use bhar bhi degaa।

par jo main apne lakshy ko 

bhed naa paayaa

to meraa samay shaayad mujhe

andhkaar men dhakel de।

aur phir main shaayad hi

khud ko 

kabhi talaash kar paaungaa।


esalia kahtaa hun।

tum apne dhakosle apnaapan ko 

apne paas hi rakho।

main to ho gayaa hun vairaagi

apne manjil ko paane ko।


maanaa meraa saakshaatkaar huaa hai

aaj khud kaa khudse।

mere aankhon par lagi adriashy chashmaa

maine aaj utaar phenki hai।

saare bandhan jhuthe dikh rahe hain

jise maan baithaa thaa apne।

yahaan to main svayan ko hi kho chukaa thaa

en baahri jhuthe aadambro men।


Vairagi shayari:- Mujhe mere halaat pe chhod do

Shayari written by
Sushil Kumar


Main chalaa tha kal akela

  Main chalaa tha kal akela मैं चला था कल अकेला। कारवां बनता चला गया। कुछ लोगों को मेरे गीत पसन्द आए। कुछ लोगों को मेरे संगीत। कुछ लोगों को ...