30 Mar 2020

कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari

koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।


मौत !मौत ! मौत !
बस हर जगह मौत है।
प्रकृति की दिख रही
आज सभी जगह प्रकोप है।

जहाँ तलक नज़र गई
कराहते लोग हैं।
बचाएँ तो बचाएँ किसे
दम तोड़ता ये लोक है।

क्या गरीब!
क्या अमीर!
यहाँ कोई अछूता नहीं रहा
उसके खौफ से।

किस रूप में
आ रही है मौत।
यहाँ हर कोई
उससे अबोध है।

हर किसी ने यहाँ
किसी अपने को खोया है।
जिंदगी जीने के सुनहरे ख्वाब को
अपने अश्रुओं से धोया है।

बचा सकते हो तुम खुद को
उस खतरनाक मंजर से।
जो थाम लिए अपने पाँव को
आशियाने से बाहर निकलने से।

धैर्य जिसने रखकर
घर में खुद को कैद किया।
कोरोना उससे पस्त हो
बाहर ही अपना दम तोड़ा।



Corona






maut !maut ! maut !

bas har jagah maut hai।

prakriati ki dikh rahi

aaj sabhi jagah prkop hai।


jahaan talak njar gayi

karaahte log hain।

bachaaan to bachaaan kise

dam todtaa ye lok hai।


kyaa garib!

kyaa amir!

yahaan koi achhutaa nahin rahaa

uske khauph se।


kis rup men

aa rahi hai maut।

yahaan har koi

usse abodh hai।


har kisi ne yahaan

kisi apne ko khoyaa hai।

jindgi jine ke sunahre khvaab ko

apne ashruon se dhoyaa hai।


bachaa sakte ho tum khud ko

us khatarnaak manjar se।

jo thaam lia apne paanv ko

aashiyaane se baahar nikalne se।


dhairy jisne rakhakar

ghar men khud ko kaid kiyaa।

koronaa usse past ho

baahar hi apnaa dam todaa।




Written by sushil kumar





27 Mar 2020

Panga na lena.पंगा ना लेना।

Shayari



दिल में कुछ और है

दिमाग में तेरे कुछ और है।
खुद को तू सपष्ट कर
क्या चाह रहा प्रगट कर।

माना मैं झुका कभी
पर कायर तुझसा देखा नहीं।
जो भी दिल में बात थी
लब पर मेरे वही राग थे।

ऊपर वाले से डर तू
और खुद पर ना अकड़ तू।
झूठे अहम अपने पॉकेट में रख
मुझ पर तेरा कोई धाक नहीं।

मैं हूँ बन्दा उस मौला का
जिसका दिल है पाक सदा।
सभी का भला हमेशा जिसने चाहा
किसी की बुराई नहीं माँगी कभी।

पर मैं जितना सीधा इंसान हूँ
टेढ़ा किया तो
उतना ही खतरनाक हूँ।
किसी के बाप से डरता नहीं
जो कभी आएगी मुसीबत
किसी अपने के ऊपर।

Panga


dil men kuchh aur hai

dimaag men tere kuchh aur hai।

khud ko tu sapasht kar

kyaa chaah rahaa pragat kar।


maanaa main jhukaa kabhi

par kaayar tujhsaa dekhaa nahin।

jo bhi dil men baat thi

lab par mere vahi raag the।


upar vaale se dar tu

aur khud par naa akd tu।

jhuthe aham apne paket men rakh

mujh par teraa koi dhaak nahin।


main hun bandaa us maulaa kaa

jiskaa dil hai paak sadaa।

sabhi kaa bhalaa hameshaa jisne chaahaa

kisi ki buraai nahin maangi kabhi।


par main jitnaa sidhaa ensaan hun

tedhaa kiyaa to

utnaa hi khatarnaak hun।

kisi ke baap se dartaa nahin

jo kabhi aaagi musibat

kisi apne ke upar।




Written by sushil kumar


25 Mar 2020

Corona- ab bus bhi kar na,🤚 Corona-ab bus bhi kar na🤚

Shayari

Corona- ab bus bhi kar na,🤚


हम भी एक फौजी हैं।
आज हिंदुस्तान हमें पुकार रहा।
अपने कर्ज़ उतारने को
देश हमें ललकार रहा।

कोरोना के कहर से
सारे विश्व में यहाँ खौफ में है।
क्या चीन
क्या अमेरिका
हर जगह दिखता मौत है।

मानव आज फिर से
लाचार बेबस दिख रहा।
अपनी गलती की सजा
वह स्वयं यहाँ भुगत रहा।

पर अपने देश के मिट्टी की
बात ही अजब निराली है।
हर दिल में आज फिर से धधक रही
वही तिहत्तर साल पुरानी वाली क्रांति है।

उस वक्त खदेड़ भगाया था अंग्रेज़ो को।
आज कोरोना की बारी आई है।
चाहे लाख कोशिश करले तू फैलने को।
पर अब कोई नया माध्यम
तुझे ना मिलने वाली है।

आज हर दिल में सुभाष पुनर्जीवित हुआ है
और भगत सिंह की जिद्द ने घर कर लिया है।
लाख कोशिश भले करले कोरोना तू
तेरा अस्तित्व अब भारत से मिटने वाला है।

जय हिंद।।
जय भारत।।
Corona


ham bhi ek phauji hain।

aaj hindustaan hamen pukaar rahaa।

apne karj utaarne ko

desh hamen lalkaar rahaa।


koronaa ke kahar se

saare vishv men yahaan khauph men hai।

kyaa chin

kyaa amerikaa

har jagah dikhtaa maut hai।


maanav aaj phir se

laachaar bebas dikh rahaa।

apni galti ki sajaa

vah svayan yahaan bhugat rahaa।


par apne desh ke mitti ki

baat hi ajab niraali hai।

har dil men aaj phir se dhadhak rahi

vahi tihattar saal puraani vaali kraanti hai।


us vakt khaded bhagaayaa thaa angrejo ko।

aaj koronaa ki baari aai hai।

chaahe laakh koshish karle tu phailne ko।

par ab koi nayaa maadhyam

tujhe naa milne vaali hai।


aaj har dil men subhaash punarjivit huaa hai

aur bhagat sinh ki jidd ne ghar kar liyaa hai।

laakh koshish bhale karle koronaa tu

teraa astitv ab bhaarat se mitne vaalaa hai।


jay hind।।

jay bhaarat।।



Written by sushil kumar

13 Mar 2020

दुश्मनी आधी नहीं चलती।Dushmani aadhi nahin chalti.

दुश्मनी आधी नहीं चलती।Dushmani aadhi nahin chalti.

Shayari


दुश्मनी निभानी नहीं है
तो मत कर।
पर जो दुश्मनी की है
तो निभा सिद्दत से।

अगर कभी मौका मिले
तो वार कर जोरदार।
पर जो मैं सम्भल गया
तो मिटा दूँगा तेरा संसार।

बहुत आए और गएँ
करना चाहा
मुझे नेस्तनाबूद।
पर कोई खत्म ना कर सका
आज तक
मेरा कोई वजूद।

दोस्तो के लिए दोस्त हूँ
दुश्मनों के लिए
हूँ मैं अंगार।
कभी भी यूँही पंगा ना लेना
सोच कर मुझे अकेला लाचार।

Foe


dushmni nibhaani nahin hai
to mat kar।
par jo dushmni ki hai
to nibhaa siddat se।

agar kabhi maukaa mile
to vaar kar jordaar।
par jo main sambhal gayaa
to mitaa dungaa teraa sansaar।

bahut aaa aur gan
karnaa chaahaa
mujhe nestnaabud।
par koi khatm naa kar sakaa
aaj tak
meraa koi vajud।

dosto ke lia dost hun
dushmnon ke lia
hun main angaar।
kabhi bhi yunhi pangaa naa lenaa
soch kar mujhe akelaa laachaar।


Written by sushil kumar

11 Mar 2020

रहम करो भगवन।raham karo bhagwan.

Raham karo bhagwan.


Shayari


मुझे सांस देकर क्या गलती कर डाली है
तुमने भगवन
कि हर पल तुम मुझे मारकर
अपनी गलती का एहसास करवाना चाह रहे हो।

मुझे नहीं चाहिए तुम्हारी कोई भीख
जहाँ हर पल मुझे मौत से दीदार हो रहा है।
अगर इतना ही बड़ा पापी हूँ
तो धकेल दो ना
नर्क के द्वार
सहने को
तेरे सारा जुल्म।



 mujhe saans dekar kyaa galti kar daali hai

tumne bhagavan

ki har pal tum mujhe maarakar

apni galti kaa ehsaas karvaanaa chaah rahe ho।


mujhe nahin chaahia tumhaari koi bhikh

jahaan har pal mujhe maut se didaar ho rahaa hai।

agar etnaa hi bdaa paapi hun

to dhakel do naa

nark ke dvaar

sahne ko

tere saaraa julm।

Written by sushil kumar





25 Feb 2020

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ।main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

Shayari

Hum sath

मैं जितनी दफा तुमसे बिछुड़ता हूँ

उतनी ही दफा मैं घुट घुट कर मरता हूँ।

तुम कहते हो कि
मैं गायब होता जा रहा हूँ।
पहले ७० किलो का था
आज ५० पर सिमट गया हूँ।

तेरे हर जुदाई में मेरा दिल
फुट फुट कर रोया है।
सुबह शाम
दिन और रात
बस तेरी मीठे मीठे यादों को
अपने सपने में संजोया है।

नींद जब खुलती है तो
दिल असहज ही तड़प उठता है।
और तेरे से मिलने को हृदय
बेसब्र सा हो जाया करता है।

कुछ खाने पीने की
दिली इच्छा भी कहीं गुम सी गई है।
बस तेरे ख्वाब की ख्वाहिश लिए
नैनो के पट बंद किए रहता हूँ।

प्रकृति का खेल भी
देखो अजब ही निराला है।
इश्क़ करने वालों को
वियोग के दिवस सदा दिखाया करता हैं।

हर क्षण तेरे साथ ना होने के गम में
अपने दिल को जलाया करता हूँ।
तुमसे मिलने के प्रयास में
अपने छुट्टियों की विश्लेषण किया करता हूँ।

सारे बन्धनों को तोड़ कर
मैं तेरे समीप रहना चाहता हूँ।
अपने जीवन के हर लम्हें को
तेरे नाम करना चाहता हूँ।

आमीन



main jitni daphaa tumse bichhudtaa hun

utni hi daphaa main ghut ghut kar martaa hun।


tum kahte ho ki

main gaayab hotaa jaa rahaa hun।

pahle 70 kilo kaa thaa

aaj 50 par simat gayaa hun।


tere har judaai men meraa dil

phut phut kar royaa hai।

subah shaam

din aur raat

bas teri mithe mithe yaadon ko

apne sapne men sanjoyaa hai।


nind jab khulti hai to

dil asahaj hi tdap uthtaa hai।

aur tere se milne ko hriaday

besabr saa ho jaayaa kartaa hai।


kuchh khaane pine ki

dili echchhaa bhi kahin gum si gayi hai।

bas tere khvaab ki khvaahish lia

naino ke pat band kia rahtaa hun।


prakriati kaa khel bhi

dekho ajab hi niraalaa hai।

eshk karne vaalon ko

viyog ke divas sadaa dikhaayaa kartaa hain।


har kshan tere saath naa hone ke gam men

apne dil ko jalaayaa kartaa hun।

tumse milne ke pryaas men

apne chhuttiyon ki vishleshan kiyaa kartaa hun।


saare bandhnon ko tod kar

main tere samip rahnaa chaahtaa hun।

mere jivan ke har lamhen ko

tere naam karnaa chaahtaa hun।


aamin


24 Feb 2020

मुझे बदलने की तेरी औकात नहीं।mujhe badalne ki teri aukat nahin.

Shayari


Badal kar dikhao

तुम मेरे वजूद को मिटा सकते हो

पर मेरे उसूल को नहीं।
तुम मेरे विचार को बदल सकते हो
पर मेरे संस्कार को नहीं।

मैं जैसा था
वैसा ही हूँ।
और आगे भी
वैसा ही रहूँगा।

लाख कोशिश कर ली है तुमने।
थक कर लड़खड़ा भी रहे हो।
पर जिद्द क्यों नहीं छोड़ रहे हो
मुझे तुम बदलने की।

तुम्हारी जिद्द देख
मेरे जिद्द ने भी
जिद्द ठान रखी है
कभी नहीं बदलने की।

चाहे जितनी चक्रवात भेज दो
मेरी लक्ष्य को बदलने को।
चाहे किसी मझधार में ही डाल दो
मेरे सामर्थ्य को टटोलने को।

मैं ना हीं रुकूँगा
ना ही थामूंगा।
अपनी मंजिल की ओर
अग्रसर रहूँगा।

और जो भूलकर भी मेरे पथ पर तुम
रोड़ा बनने का प्रयास करोगे।
मिट्टी में कहीं ना मिल जाना तुम
मेरे दृढ़ विश्वास के दबाव में आकर।

tum mere vajud ko mitaa sakte ho

par mere usul ko nahin।

tum mere vichaar ko badal sakte ho

par mere sanskaar ko nahin।


main jaisaa thaa

vaisaa hi hun।

aur aage bhi

vaisaa hi rahungaa।


laakh koshish kar li hai tumne।

thak kar ldakhdaa bhi rahe ho।

par jidd kyon nahin chhod rahe ho

mujhe tum badalne ki।


tumhaari jidd dekh

mere jidd ne bhi

jidd thaan rakhi hai

kabhi nahin badalne ki।


chaahe jitni chakrvaat bhej do

meri lakshy ko badalne ko।

chaahe kisi majhdhaar men hi daal do

mere saamarthy ko tatolne ko।


main naa hin rukungaa

naa hi thaamungaa।

apni manjil ki or

agrasar rahungaa।


aur jo bhulakar bhi mere path par tum

rodaa banne kaa pryaas karoge।

mitti men kahin naa mil jaanaa tum

mere dridh vishvaas ke dabaav men aakar।



Written by sushil kumar




कोरोना के खतरनाक मंजर को जरा सोच कर के तो देखो।koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho।

Shayari koronaa ke khatarnaak manjar ko jaraa soch kar ke to dekho। मौत !मौत ! मौत ! बस हर जगह मौत है। प्रकृति की दिख रही आज सभी जग...